ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशअयोध्या को लेकर संघ-भाजपा ने बदली रणनीति, बनी नई योजना

अयोध्या को लेकर संघ-भाजपा ने बदली रणनीति, बनी नई योजना

अयोध्या राम मंदिर को लेकर संघ-भाजपा ने रणनीति बदल ली है। भीड़ को देखते हुए आरएसएस और भाजपा ने अपनी रणनीति में थोड़ा बदलाव किया है।

अयोध्या को लेकर संघ-भाजपा ने बदली रणनीति, बनी नई योजना
Deep Pandeyहिन्दुस्तान,लखनऊThu, 25 Jan 2024 10:55 AM
ऐप पर पढ़ें

रामलला के दर्शनों को लेकर खुद उमड़ रही इस भीड़ को देखते हुए आरएसएस और भाजपा ने अपनी रणनीति में थोड़ा बदलाव किया है। यूपी सहित पड़ोसी राज्यों से जिन रामभक्तों को 25 जनवरी से दर्शन कराने का क्रम शुरू होने वाला था, उसे आगे बढ़ाया गया है। अब यह 30 जनवरी या उसके बाद शुरू होगा। देश के विभिन्न हिस्सों से आने वाली स्पेशल ट्रेनों के शेड्यूल को लेकर भी मंथन किया जा रहा है।

संघ ने भाजपा को केंद्र में रख राममंदिर से देश के हर हिस्से को जोड़ने के लिए विस्तृत योजना तैयार की है। इसी योजना के तहत पार्टी ने दक्षिणी राज्यों में भी अक्षत वितरण के साथ अयोध्या आमंत्रण का वृहद अभियान चलाया। तय कार्यक्रम के तहत 25 जनवरी से देश के विभिन्न हिस्सों से रामभक्तों को अयोध्या लाने की योजना तय की गई थी।

दिल्ली से हो रही सीधे मॉनीटरिंग
यूपी के सभी जिलों के अलावा पड़ोसी राज्यों बिहार, राजस्थान, उत्तराखंड, हरियाणा से बसों के जरिए रामभक्तों को अयोध्या लाया जाना है। इसके अलावा दक्षिण भारत सहित अन्य दूरस्थ प्रदेशों से 1200 से अधिक स्पेशल ट्रेनों के जरिए रामभक्त अवधपुरी आएंगे। इस पूरी मुहिम की मॉनीटरिंग सीधे दिल्ली से की जा रही है। पार्टी के राष्ट्रीय महामंत्री सुनील बंसल, तरुण चुघ और विनोद तावड़े इन व्यवस्थाओं को देख रहे हैं। प्रदेश स्तर पर भाजपा ने दो महामंत्री अनूप गुप्ता और रामप्रताप चौहान के अलावा प्रदेश उपाध्यक्ष मानवेंद्र सिंह, अवध के क्षेत्रीय अध्यक्ष कमलेश मिश्रा के नेतृत्व में टीमें लगा रखी हैं।

26 तक बड़े वाहनों का प्रवेश है प्रतिबंधित
शायद संघ, भाजपा, मंदिर ट्रस्ट और स्थानीय प्रशासन को भी अनुमान नहीं था कि प्राण प्रतिष्ठा के दिन से ही अयोध्या में जनसैलाब उमड़ पड़ेगा। स्थानीय प्रशासन ने 26 तक गैर जिलों से बड़े वाहनों का प्रवेश प्रतिबंधित कर दिया है। देशभर से आने वाले लोगों के लिए बड़े भंडारे लगाए जा रहे हैं। मगर अयोध्या में भारी भीड़ के चलते उनके सामान लदे वाहन भी नहीं पहुंच पा रहे। सूत्रों की मानें तो हालात को देखते हुए अब रणनीति में थोड़ा बदलाव करते हुए नए सिरे से मंथन किया जा रहा है। भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा का बुधवार को प्रस्तावित अयोध्या दौरा भी भीड़ के चलते ही रद्द किया गया था।

कई राज्यों का मंत्रिमंडल और शाह आएंगे अयोध्या
यूपी सहित देश के भाजपा शासित राज्यों के मंत्रिमंडल को भी मंदिर दर्शन के लिए अयोध्या लाने की योजना है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पहले ही एक फरवरी को अपने मंत्रिमंडलीय सहयोगियों को अयोध्या दर्शन कराने की घोषणा कर चुके हैं। दो फरवरी को उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर धामी और उनके मंत्रिमंडल का दर्शन कार्यक्रम प्रस्तावित है जबकि तीन फरवरी को राजस्थान के मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा मंत्रिमंडल सहित अयोध्या आने वाले हैं।  गृहमंत्री अमित शाह का 4 फरवरी को अयोध्या आने का कार्यक्रम प्रस्तावित है।
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें