ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशलोकसभा चुनाव के अंतिम चरण से पहले सपा को झटका! पूर्व मंत्री नारद राय आज कर सकते है बड़ा ऐलान  

लोकसभा चुनाव के अंतिम चरण से पहले सपा को झटका! पूर्व मंत्री नारद राय आज कर सकते है बड़ा ऐलान  

Lok Sabha Election 2024: लोकसभा चुनाव-2024 के सातवें और अंतिम चरण से ठीक पहले पूर्वांचल में समाजवादी पार्टी को झटका लगने की आशंका है। यहां पूर्व मंत्री नारद राय के अलग ही सुर सुनाई पड़ रहे हैं।

लोकसभा चुनाव के अंतिम चरण से पहले सपा को झटका! पूर्व मंत्री नारद राय आज कर सकते है बड़ा ऐलान  
Ajay Singhहिन्‍दुस्‍तान ,बलियाMon, 27 May 2024 11:00 AM
ऐप पर पढ़ें

Lok Sabha Election 2024: लोकसभा चुनाव-2024 के सातवें और अंतिम चरण से ठीक पहले पूर्वांचल में समाजवादी पार्टी को एक और झटका लगने की आशंका है। यहां पूर्व मंत्री नारद राय के अलग ही सुर सुनाई पड़ रहे हैं। सोशल मीडिया प्‍लेटफार्म 'एक्‍स' पर एक पोस्‍ट में नारद राय ने अपनी नाराजगी जाहिर करते हुए खुद को राजनारायण का वंशज बताया और सोमवार की शाम चार बजे 'राजनारायण की जमात' के बैनर तले श्री रामजानकी मंदिर में बैठक बुलाई है। हालांकि सोमवार दोपहर 'लाइव हिन्‍दुस्‍तान' से फोन पर हुई बातचीत में नारद राय ने बताया कि 'राजनारायण की जमात' की बैठक जगह 'भूमिहार सम्‍मेलन' आयोजित किया गया है। चर्चा है कि नारद राय के बेटे 29 मई को भाजपा ज्‍वाइन कर सकते हैं।

नारद राय ने अपनी पोस्‍ट में लिखा, ' जनेश्वर जी, नेता जी के आदेश पर सपा को खून पसीने से सींचा, परिवार छोड़ पार्टी हित सर्वोपरि समझा! आज, बूथ हारने वाले नए नए नेता राष्ट्रीय अध्यक्ष जी  को मंच पर को ज्ञान दे रहे थे! राजनारायण जी का वंशज हूँ, अपमान ना सहा है, ना सहूंगा! समाज के लिए कुछ भी करूंगा। नेता जी को सदा नमन।' नारद राय अपनी पार्टी से बुरी तरह नाराज दिख रहे हैं। पूर्वांचल के राजनीतिक गलियारों में चर्चा है कि बलिया के फेफना के कटारिया में पार्टी अध्‍यक्ष अखिलेश यादव ने जनसभा के दौरान मंच से उनका नाम नहीं लिया। नारद राय इसके बाद से ही नाराज हैं। कहा जा रहा है कि सोमवार को वह अपने आगे के कदम के बारे में ऐलान कर सकते हैं। 

नारद राय का कहना है कि उनका नाम साजिश के तहत लिस्‍ट से हटाया गया। राजनीतिक गलियारों में चर्चा है कि नारद राय अपने ऐलान से समाजवादी पार्टी को चौंका सकते हैं। 

कौन हैं नारद राय 
लम्‍बे समय से समाजवादी पार्टी से जुड़े रहे नारद राय की गिनती पूर्वांचल के बड़े भूमिहार नेताओं में होती है। कहा जा रहा है कि लोकसभा चुनाव के सातवें और अंतिम चरण से ऐन पहले उनकी बगावत समाजवादी पार्टी के लिए नुकसान का सबब बन सकती है।