ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशकोतवाली में खड़ी जीप की सैलून वाले ने घुमा दी चाबी, फिर आ गई बड़ी आफत, दौड़ पड़े सिपाही और दारोगा

कोतवाली में खड़ी जीप की सैलून वाले ने घुमा दी चाबी, फिर आ गई बड़ी आफत, दौड़ पड़े सिपाही और दारोगा

यूपी के रायबरेली जिले की ऊंचाहार कोतवाली में गुरुवार सुबह उस समय हड़कंप मच गया जब पुलिस की एक जीप दीवार में जाकर घुस गई। दीवार में जीप के घुसने से जीप पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई।

कोतवाली में खड़ी जीप की सैलून वाले ने घुमा दी चाबी, फिर आ गई बड़ी आफत, दौड़ पड़े सिपाही और दारोगा
Dinesh Rathourहिन्दुस्तान,ऊंचाहार। रायबरेलीThu, 20 Jun 2024 03:10 PM
ऐप पर पढ़ें

यूपी के रायबरेली जिले की ऊंचाहार कोतवाली में गुरुवार सुबह उस समय हड़कंप मच गया जब पुलिस की एक जीप दीवार में जाकर घुस गई। दीवार में जीप के घुसने से जीप पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई। दरअसल कोतवाली परिसर में पुलिस की जीप खड़ी थी। जीप में चाबी भी लगी थी। इसी दौरान पुलिसकर्मियों की सेविंग करने पहुंचे एक सैलून वाले ने जीप में लगी चाबी को घुमा दिया। जीप गियर में होने के कारण अचानक से जीप स्टार्ट होकर रसोई घर के बरामदे को तोड़ते हुए दीवार में जा टकराई। इससे रसोई घर का बरामदा भरभरा कर गिर गया और दीवार भी क्षतिग्रस्त हो गई। जीप में भी काफी नुकसान हुआ है। घटना सुबह होने के कारण कोई जनहानि नहीं हुई है, नहीं तो बड़ा हादसा हो सकता था। हालांकि पुलिस सैलून वाले को पकड़ लिया है।

कोतवाली की जीप रोज की तरह कोतवाली परिसर में रसोई घर के सामने खड़ी थी। लापरवाही के चलते जीप में चाबी लगी रह गई। बताया जाता है कि इसी बीच वहां सिपाहियों की सेविंग बनाने वाला कोहिनूर नाम का एक व्यक्ति पहुंचा और उसने जीप की चाबी घुमा दी, जिससे जीप स्टार्ट हो गई । जीप गियर में थी, इसलिए तेजी से जीप जाकर सामने दीवार से टकराई और दीवार व टीन शेड तोड़ते हुए अगली दीवार के पास जाकर रुक गई। अचानक हुई इस घटना से कोतवाली में हड़कंप मच गया।

भागकर सिपाही और दरोगा मौके पर पहुंचे। गनीमत थी कि हादसा भोर में होने के कारण वहा पर कोई मौजूद नहीं था। यदि यह घटना दिन में होती तो काफी जनहानि हो सकती थी। कोतवाली की दीवार और जीप को काफी क्षति हुई है। पुलिस ने जीप की चाबी घुमाने वाले कोहिनूर निवासी कंदरावा को हिरासत में लिया है, लेकिन इस बाबत अधिकारी कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है।