ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशसलेमपुर में हारे भाजपा कैंडिडेट ने संगठन और सरकार पर उठाया सवाल; बोले- मंत्री और जिलाध्यक्ष ने हराया

सलेमपुर में हारे भाजपा कैंडिडेट ने संगठन और सरकार पर उठाया सवाल; बोले- मंत्री और जिलाध्यक्ष ने हराया

सलेमपुर लोकसभा सीट से भाजपा कैंडिडेट रविंदर कुशवाहा ने अपनी हार का जिम्मेदार संगठन और सरकार को बताया है। उन्होंने कहा कि वह राज्यमंत्री और जिलाध्यक्ष की वजह से चुनाव हारे।

सलेमपुर में हारे भाजपा कैंडिडेट ने संगठन और सरकार पर उठाया सवाल; बोले- मंत्री और जिलाध्यक्ष ने हराया
salempur ravindra kushwaha
Pawan Kumar Sharmaहिन्दुस्तान,सलेमपुरMon, 17 Jun 2024 07:48 PM
ऐप पर पढ़ें

सलेमपुर लोकसभा क्षेत्र में मिली हार को लेकर भाजपा में घमासान मच गया है। इस हार के लिए पार्टी के प्रत्याशी व पूर्व सांसद रविंदर कुशवाहा ने सीधे-सीधे अपनी ही पार्टी की राज्यमंत्री विजयलक्ष्मी गौतम और बलिया के जिलाध्यक्ष संजय यादव को जिम्मेदार ठहराया है। उनका कहना है कि राज्यमंत्री ने अपने विधानसभा क्षेत्र सलेमपुर में एक दिन भी उनका प्रचार नहीं किया। जिससे उन्हें इस विधानसभा में हार का सामना करना पड़ा। वहीं बलिया जिले में पड़ने वाली तीनों विधानसभा क्षेत्रों में भाजपा जिलाध्यक्ष ने उन्हें हराने के लिए बकायदे मुहीम चलाई। पूर्व सांसद ने उक्त बातें सलेमपुर स्थित अपने आवास समता निवास पर पत्रकारों से बातचीत में कहीं। 

रविंदर कुशवाहा ने कहा, "बलिया के जिलाध्यक्ष संजय यादव ने बेल्थरा रोड, सिकंदरपुर और बांसडीह में हमें हराने के लिए मुहीम चलाई। वह शुरू से मेरे खिलाफ प्रचार करता रहा। वहां के मंडल अध्यक्षों से कहता रहा कि भाजपा को वोट नहीं करना है। रविंदर कुशवाहा को चुनाव हराना है। इसी अभियान में शुरू से अंत तक लगा रहा।" उन्होंने कहा कि सलेमपुर में जहां पर प्रदेश सरकार की राज्यमंत्री हैं विजयलक्ष्मी गौतम, ये एक दिन भी प्रचार करने के लिए सलेमपुर में कहीं नहीं निकलीं। उन्होंने अपने लोगों को लगाकर सुनियोजित तरीके से मेरा विरोध कराया और विरोध कराकर जहां पर उनके लोग हैं वहां के बूथ पर मुझे हराने का काम किया।

चुनाव हरवाने में जिलाध्यक्ष और राज्यमंत्री का हाथ 

उन्होंने कहा कि मात्र 35 सौ से मेरी हार हुई है। इसके पीछे बलिया के जिलाध्यक्ष संजय यादव और राज्यमंत्री विजय लक्ष्मी गौतम का हाथ है। शुरू से अंत तक जनता ने मेरा साथ दिया। भाजपा के सामान्य कार्यकर्ताओं ने मेरा साथ दिया। इनके भड़काने के बावजूद जिस तरीके से नेट टू नेट लड़ाई हुई है और अंतिम समय में जाकर हम चुनाव हारे हैं वह जनता के साथ देने के चलते हुआ।

पूर्व सांसद ने कहा कि मोदी और योगी को कमजोर करने के लिए यह साजिश हुई। उन्होंने दावा किया कि हर जाति का वोट उन्हें मिला है। यही वजह रही कि राज्यमंत्री व बलिया के जिलाध्यक्ष की मिलजुल कर की गई साजिश के बावजूद उनकी मामूली मतों से हार हुई। उन्होंने कहा कि संजय यादव ने भितरघात नहीं बल्कि खुलेआम समाजवादी पार्टी का एजेंट बन कर काम किया। मेरा बस चले तो ऐसे जिलाध्यक्ष को तत्काल हटा दूं। इसका निर्णय पार्टी को लेना है । उन्होंने यह भी कहा कि संजय यादव जब विधायक रहे तब भी उन्होंने एक जाति विशेष के लोगों के लिए कार्य किया। उन्होंने कहा कि प्रदेश संगठन की टीम यूपी की सभी हारी हुई सीटो की जांच करेगी। जांच के लिए टीम बलिया भी आ रही है। वह पूरी बात टीम को बताएंगे कि हार की वजह क्या थी। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि घोसी में 1,70,000 वोट से हारना यह दर्शाता है कि ओमप्रकाश राजभर की पकड़ राजभर वोटरों पर कम हुई है। इसकी उन्हें समीक्षा करनी चाहिए। 

राज्यमंत्री ने आरोपों को नकारा 

रविंदर कुशवाहा के आरोपों की बावत पूछने पर सलेमपुर की विधायक व राज्यमंत्री विजयलक्ष्मी गौतम ने कहा कि मैने पार्टी का प्रचार पूरी ईमानदारी से किया है। इसका पूरा ब्यौरा है। इस तरह के आरोप गलत हैं। पार्टी हार की समीक्षा करेगी।