DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राजस्थान-एमपी में सीएम पद के दावेदार सचिन पायलट-कमलनाथ का सहारनपुर से गहरा नाता

savhin kamalmath

राजस्थान में मुख्यमंत्री पद के दावेदार सचिन पायलट का सहारनपुर से गहरा रिश्ता है। उनका जन्म सहारनपुर में ही हुआ था। यहां के लोग भी उन्हें खासी तवज्जो देते हैं। यही कारण हैं कि चुनाव के दौरान उनके विधानसभा क्षेत्र टोंक में सहारनपुर के लोगों ने दो गाड़ियों के साथ वहां चुनाव प्रचार भी किया था। इसके अलावा, मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री पद के दावेदार कांग्रेस नेता कमलनाथ का भी सहारनपुर से गहरा नाता है। कमलनाथ सहारनपुर के दामाद हैं। भाजपा सांसद राघव लखनपाल शर्मा की बुआ से उनका विवाह हुआ था। जिसके बाद से उनका अपनी सुसराल सहारनपुर से गहरा लगाव हो गया था। 

पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव के बाद राजस्थान में कांग्रेस सरकार बनाने जा रही है। इस प्रदेश के टोंक विधानसभा क्षेत्र से जीते युवा विधायक सचिन पायलट भी राजस्थान के मुख्यमंत्री बनने की दौड़ में शामिल हैं। खास बात यह है कि सचिन पायलट का सहारनपुर की धरती से जन्म का नाता है। मूलरूप से गौतमबुद्ध नगर के गांव वेदपुरा निवासी सचिन के पिता राजेश पायलट सरसावा स्थित एयरफोर्स स्टेशन पर तैनात रहे थे। 

देवबंद निवासी चौधरी सुखपाल ने बताया कि राजेश पायलट सरसावा स्टेशन पर वर्ष 1975 से 77 तक तैनात रहे। उस समय उनका परिवार सहारनपुर शहर के अहमदबाग स्थित एक कोठी में रहता था। इसी दौरान सात सितंबर 1977 को सचिन पायलट का जन्म हुआ। इसके बाद उनका यहां से तबादला हो गया। बाद में एयरफोर्स की नौकरी छोड़कर राजेश पायलट राजनीति में आ गए।

राजेश पायलट पारिवारिक मित्र चौधरी सुखपाल ने बताया कि वर्ष 2000 में राजेश पायलट की जयपुर में सड़क हादसे में मौत हो गई। उसके बाद सचिन पायलट ने गांव वेदपुरा में एक कार्यक्रम आयोजित किया था। उस कार्यक्रम के लिए समर्थन मांगने के लिए सचिन पायलट अपनी मां रमा पायलट के साथ सहारनपुर आए थे। उस दौरान सहारनपुर से काफी लोग उनके कार्यक्रम में शामिल होने गए थे। 

दूसरी ओर, कांग्रेस के मध्य प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ राज्य में मुख्यमंत्री पद के प्रबल दावेदारों में शामिल हैं। कांग्रेस की जीत में कमलनाथ की महत्वपूर्ण भूमिका मानी जा रही है। कांग्रेस की जीत के बाद उन्हें मुख्यमंत्री पद का प्रबल दावेदार माना जा रहा है। यही कारण है कि सहारनपुर में भी खुशी की लहर है। कमलनाथ सहारनपुर के दामाद हैं। सांसद राघव लखनपाल शर्मा के पिता पूर्व विधायक निर्भयपाल शर्मा की बहन अलका से कमलनाथ ही शादी हुई थी। अलका से शादी के बाद कमलनाथ सहारनपुर आते-जाते रहे हैं। 

टोंक में किया चुनाव प्रचार
सचिन पायलट से सहारनपुर के लोग खासा लगाव रखते हैं। यही कारण हैं कि टोंक विधानसभा क्षेत्र जहां से सचिन पायलट चुनाव जीते हैं, वहां पर चौधरी सुखपाल की अगुआई में दर्जन भर लोग दो गाड़ियों से गए थे। करीब हफ्तेभर वहां पर चुनाव प्रचार किया था। चुनाव प्रचार में शामिल रहे लोगों को खुशी इस बात की है कि सचिन पायलट भारी बहुमत से चुनाव तो जीते ही, साथ ही मुख्यमंत्री बनने की काफी संभावनाए हैं।

2012 में किया था जिले में प्रचार
सचिन पायलट 2012 में हुए कांग्रेस प्रत्याशियों के पक्ष में चुनाव प्रचार करने आए थे। प्रचार खत्म करने के बाद कांग्रेस के प्रदेश महासचिव मुकेश चौधरी को अपने साथ हेलीकाप्टर से लेकर दिल्ली गए थे। मुकेश चौधरी ने बताया कि सचिन पायलट से जब भी मुलाकात हुई, उन्होंने सहारनपुर के बारे में जरूर जानकारी ली।

राहुल गांधी तय करेंगे राजस्थान का अगला मुख्यमंत्री, कल होगा ऐलान

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Sachin Pilot and Kamalnath deep relationship with Saharanpur