ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशबीजेपी की हार से संघ डर गया है, मोहन भागवत फील्ड में आ गए हैं: अफजाल अंसारी

बीजेपी की हार से संघ डर गया है, मोहन भागवत फील्ड में आ गए हैं: अफजाल अंसारी

गाजीपुर से नवनिर्वाचित सपा सांसद अफजाल अंसारी ने मंगलवार को कहा कि लोकसभा चुनाव में बीजेपी की हार के बाद से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) डरा हुआ है। मोहन भागवत फिल्ड में उतर आए हैं।

बीजेपी की हार से संघ डर गया है, मोहन भागवत फील्ड में आ गए हैं: अफजाल अंसारी
Yogesh Yadavलाइव हिन्दुस्तान,गाजीपुरWed, 19 Jun 2024 10:16 AM
ऐप पर पढ़ें

गाजीपुर से नवनिर्वाचित सपा सांसद अफजाल अंसारी ने मंगलवार को कहा कि लोकसभा चुनाव में बीजेपी की हार के बाद से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) डरा हुआ है। अफजाल ने कहा कि संघ प्रमुख मोहन भागवत नागपुर छोड़कर फिल्ड में आ गए हैं। कभी गोरखफुर तो कभी किसी और जिले का दौरा कर रहे हैं। उन्हें एहसास हो गया है कि आने वाले समय में समाजवादी पार्टी यूपी में सरकार बना लेगी। अफजाल ने कहा कि इस चुनाव में दलित समाज ने समाजवादी पार्टी को वोट दिया है। अब इन लोगों की मंशा दलित समाज को बरगलाने की है। लोकसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी के चुनाव अभियान की चर्चा करते हुए अफजाल ने कहा कि चुनाव में कोई दलित बस्ती नहीं बची है जहां सपा नेताओं कार्यकर्ताओं ने उनसे संपर्क नही बनाया और हमें दलित भाइयों का वोट नहीं मिला है। हर बस्ती से हम लोगों को वोट मिला है। कहीं से 2, कहीं से 50  तो कहीं से 75 प्रतिशत दलित भाइयों ने समाजवादी पार्टी को वोट दिया है। इसी तरह का माहौल पूरे प्रदेश में देखने को मिला है।

अफजाल ने कहा कि जिन दलित भाइयों ने हमें वोट नहीं दिया और हाथी का बटन दबा दिया वह आज निराश और हताश हैं। उन्हें पता है कि बसपा का नेतृत्व सामंतवादियों से लड़ने के मूड में नहीं है। अगर लड़ता तो इंडिया गठबंधन का हिस्सा होता। जिस बसपा के पास लोकसभा में अब एक भी सीट नहीं है वह दलितों की आवाज कैसे बन सकता है।

जखनियां में आयोजित अभिनंदन समारोह में अफजाल बोले, सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने भी कहा है कि 2027 की लड़ाई की तैयारी में अभी से लग जाना है। इसके लिए उन्होंने संकल्प भी दिलाया है। यहां मौजूद आप लोग भी आज से 2027 की लड़ाई शुरू कर दो। कहा कि पीडीए के मंत्र के साथ सभी लोग लग जाओ। सभी पिछड़े और दलित इस बात पर सहमत है कि अखिलेश यादव ही जातीय गणना कराएंगे। इस गणना के बाद जिसकी जितनी संख्या होगी उसे उतना ही हिस्सा भी दे देंगे। हमें पूरा विश्वास है कि अगले चुनाव में हर दलित बस्ती से हमें 80 प्रतिशत वोट मिलेंगे। दलित बस्ती वाले निराश हैं, वह चाहते हैं कि कोई उनकी बात सुने और लोकसभा में पहुंचाए। उनकी बातों को समाजवादी पार्टी के सांसद संसद में पहुंचाएंगे।