ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशनगर निगम के इस फैसले से सड़क पर आ गईं 'रोटी वाली अम्मा', 20 में खिलाती थीं भरपेट खाना, जानें पूरा मामला

नगर निगम के इस फैसले से सड़क पर आ गईं 'रोटी वाली अम्मा', 20 में खिलाती थीं भरपेट खाना, जानें पूरा मामला

आगरा की रोटी बनाकर जीवनयापन करने वाली 82 साल की अम्मा साल 2020 में सोशल मीडिया पर वायरल हुईं थीं। ये 20 रुपये में खाना देती थीं। लेकिन अब इनका ठिकाना उजाड़ गया है।

नगर निगम के इस फैसले से सड़क पर आ गईं 'रोटी वाली अम्मा', 20 में खिलाती थीं भरपेट खाना, जानें पूरा मामला
Pawan Kumar Sharmaहिन्दुस्तान,आगराWed, 21 Feb 2024 05:52 PM
ऐप पर पढ़ें

यूपी के आगरा के एमजी रोड पर सेंट जोंस कालेज के पास फुटपाथ पर रोटी बनाकर जीवनयापन करने वाली 82 साल की अम्मा 2020 में सुर्खियों में आई थीं। उस समय रोटी वाली अम्मा के नाम से सोशल मीडिया पर वायरल हुई तो उनकी मदद के लिए हजारों हाथ बढ़े थे। सरकारी तंत्र ने भी अम्मा की मदद की थी लेकिन चार महीने से अम्मा का ठिकाना उजाड़ दिया गया और अब वही रोटी वाली अम्मा ठिकाना पाने के लिए नगर निगम के चक्कर काट रही है।

मोहन मंदिर बाग मुजफ्फर खां की रहने वाली 82 साल की भगवान देवी के पति की मौत हो गई थी। बेटे ने घर से निकाल दिया था लेकिन स्वाभिमानी भगवान देवी ने भीख मांगने के बजाए फुटपाथ पर रोटी बनाने का काम शुरू किया और महज 15-20 रुपये में भरपेट भोजन कराने लगीं। आसपास के रिक्शा चालक, ठेलवाले यहां खाना खाते थे लेकिन कोराना ने दस्तक दी तो भगवान देवी के सामने संकट खड़ा हो गया। इसी बीच भगवान देवी सोशल मीडिया पर वायरल हुई तो मदद के लिए लोग आगे आए।

नगर निगम और डूडा ने पीएम स्वनिधि योजना में उनका पंजीकरण कराया और 10 हजार की वित्तीय सहायता दिलाई। कुछ समाजसेवी संस्थाओं ने अम्मा के लिए ठेला की व्यवस्था की और ग्राहकों के बैठने के लिए व्यवस्था की गई। नगर निगम ने उनकी ठेला का पंजीकरण भी किया। कई समाजसेवी संस्थाओं ने अम्मा को सम्मानित किया था। कोरोना योद्धा को प्रमाण पत्र दिया गया। मिशन शक्ति के तहत प्रमाण पत्र दिया गया।

करीब चार महीने पहले अम्मा का ठिकाना बंद हो गया है। मेट्रो का काम चल रहा है और अतिक्रमण अभियान के चलते दुकान बंद हो गई है। अब रोटी वाली ठिकाना पाने के लिए नगर निगम के चक्कर काट रही हैं। पहले तो निगम के अधिकारियों ने कह दिया कि उसी स्थान पर अपनी दुकान लगा लें लेकिन बाद कुछ अन्य अधिकारियों ने दुकान हटवा दी। इस संबंध में अपर नगर आयुक्त सुरेंद्र यादव का कहना है कि भगवान देवी को स्ट्रीट वेडिंग जोन योजना के तहत ठिकाना उपलब्ध कराने का प्रयास होगा।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें