ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशमहिला को लिफ्ट देने के बहाने की थी लूट और रेप, गिरफ्तारी के बाद अस्‍पताल से भागा; एनकाउंटर में ढेर

महिला को लिफ्ट देने के बहाने की थी लूट और रेप, गिरफ्तारी के बाद अस्‍पताल से भागा; एनकाउंटर में ढेर

मथुरा में एक दिन पहले पुलिस कस्‍टडी से भागा बदमाश शनिवार को पुलिस एनकाउंटर में ढेर हो गया। पुलिस ने उसे गुरुवार की रात में 1 एनकाउंटर में ही गिरफ्तार किया था। मारे गए आरोपी मुकेश पर 7 मुकदमे दर्ज थे।

महिला को लिफ्ट देने के बहाने की थी लूट और रेप, गिरफ्तारी के बाद अस्‍पताल से भागा; एनकाउंटर में ढेर
Ajay Singhहिन्दुस्तान,मथुराSun, 02 Jun 2024 10:30 AM
ऐप पर पढ़ें

Rape accused killed in encounter: यूपी के मथुरा में एक दिन पहले पुलिस कस्‍टडी से भागा बदमाश शनिवार को पुलिस एनकाउंटर में ढेर हो गया। पुलिस ने उसे गुरुवार की रात में एक एनकाउंटर में ही गिरफ्तार किया था। मारे गए आरोपी मुकेश पर सात मुकदमे दर्ज थे। बदमाश ने कुछ दिन पहले ही लिफ्ट देने के बहाने एक बुजुर्ग महिला को हवस का शिकार बनाया था। मुठभेड़ मथुरा के शेरगढ़ क्षेत्र में दलौता-सेही रोड पर हुई। आरोपी के पास से पिस्टल, कारतूस और बगैर नंबर की बाइक बरामद हुई है। पुलिस ने पोस्टमार्टम कराकर शव परिजनों को सौंप दिया। उसका गांव में अंतिम संस्कार करा दिया गया।

गौरतलब है कि शेरगढ़ थाना के गांव मई निवासी मनोज उर्फ उत्तम (29) पुत्र चन्द्रभान को महावन, शेरगढ़ पुलिस और एसओजी ने गुरुवार-शुक्रवार की रात को यमुना एक्सप्रेस वे के जगदीशपुर अंडरपास के समीप हुई मुठभेड़ के बाद पकड़ा था। मुठभेड़ में मनोज के दोनों पैरों में गोली लगी थी। पुलिस ने उसे उपचार के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया था। वहां से वह शुक्रवार दिन में करीब 11:00-11:30 बजे के बीच वह पुलिस कर्मियों को चकमा देकर फरार हो गया था। इसकी जानकारी होने पर पुलिस प्रशासन में हडकंपम मच गया था। एसएसपी शैलेश कुमार पांडेय ने फरार बदमाश की तलाश में करीब आधा दर्जन टीमें लगाई थीं। सीसीटीवी फुटेज, सर्विलांस, लोकल इंटेलीजेंस की मदद से पुलिस उसकी तलाश में जुट गई।

शुक्रवार रात थाना शेरगढ़ पुलिस और एसओजी टीम शेरगढ़ क्षेत्र में तलाश कर रही थी। शनिवार तड़के करीब 03.20 बजे दलौता-सेही रोड पर लौहलारी माता मंदिर तिराहे के समीप पुलिस टीम चेकिंग करने लगी। इस दौरान तिराहे से गांव अगरयाला की तरफ बंबा की पटरी पर बाइक सवार बदमाश से पुलिस टीम की मुठभेड़ हो गयी। दोनों ओर से हुई फायरिंग के दौरान पुलिस की जवाबी फायरिंग में गोली लगने से बाइक सवार शातिर बदमाश मनोज के गोली लगी और वह गिर गया। पुलिस उसे उपचार को सीएचसी छाता ले गयी, वहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने शव पोस्टमार्टम को भेज दिया।

मुठभेड़ की सूचना पर एसपी देहात त्रिगुण बिसेन, सीओ छाता आशीष शर्मा ने पुलिस टीम के साथ घटनास्थल का मुआयना किया। पुलिस के अनुसार बदमाश के कब्जे से 32 बोर की पिस्टल, आठ कारतूस, और बिना नंबर की बाइक मिली है। थानाध्यक्ष शेरगढ़ सोनू कुमार ने बताया कि मनोज के शव को पोस्टमार्टम कराकर शव परिजनों को सौंप दिया। परिजनों ने उसका अंतिम संस्कार कर दिया।

वृद्ध महिला से दुष्कर्म और लूट के आरोप में पकड़ा था शातिर
बताते चलें कि पुलिस मुठभेड़ में ढेर हुए बदमाश मनोज 25 मई की शाम अवैरनी से गांव छोड़ने के बहाने एक गांव की वृद्ध महिला को बाइक पर बिठा कर ले गया और रास्ते में जंगल में महिला के साथ दुष्कर्म कर जेवर लूट कर भाग गया। सीसीटीवी फुटेज के आधार पर वह प्रकाश में आया था। तभी से महावन पुलिस और एसओजी टीम इसकी तलाश में जुटी थी। गुरुवार की देर रात करीब सवा एक बजे पुलिस टीम ने यमुना एक्सप्रेस वे के जगदीशपुर अंडरपास के समीप मुठभेड़ के बाद मनोज को गिरफ्तार किया था। इसके दोनों पैरों में गोली लगने से घायल होने पर उपचार को जिला अस्पताल में भर्ती कराया था। शुक्रवार सुबह उसके फरार होने पर एसएसपी ने उस पर 50 हजार का इनाम कर दिया था। महावन क्षेत्र में हुई मुठभेड़ से पहले इस पर 25 हजार का इनाम था। शातिर मनोज 15 मई को ही जेल से पेरोल पर आया था।

चार बहनों के बीच था इकलौता
थानाध्यक्ष शेरगढ़ सोनू कुमार ने बताया कि मुठभेड़ में ढेर हुआ मनोज अपनी चार बहनों के बीच इकलौता भाई था। इसकी दो बहनों की शादी हो चुकी है। वह अपनी जमानती की व्यवस्था करने के लिये न्यायालय के आदेश पर 15 मई को पैरोल पर छूट कर आया था।

मुठभेड़ में लगी पांच गोलियां
शनिवार तड़के शेरगढ़ क्षेत्र में हुई पुलिस मुठभेड़ में मारे गये बदमाश के शव का चिकित्सीय पैनल के मध्य वीडियोग्राफी के माध्यम से पोस्टमार्टम कराया गया। सूत्रों की मानें तो मृतक के पांच गोलियां लगी हैं। दो गोलियां उसके शरीर से मिली तो तीन निकल गयीं।

वर्ष-2015 में की थी दुष्कर्म की घटना
एसएसपी शैलेश कुमार पांडेय ने बताया कि पुलिस मुठभेड़ में मृत बदमाश मनोज शातिर अपराधी था। इसने वर्ष-2015 में गांव में खेत पर गयी महिला के साथ दुष्कर्म की घटना की थी। वृंदावन में लूट की घटना को अंजाम दिया था। उन्होंने बताया कि इसने गांव में कई अन्य के साथ भी दुष्कर्म की घटना की थीं। इनमें पीड़िताओं ने लोकलाज के भय से मुकदमा नहीं कराया था।

छह माह में दूसरी बड़ी मुठभेड़
मथुरा में वैसे तो पुलिस की आये दिन बदमाशों से मुठभेड़ हो रही है लेकिन छह माह में ऐसी मुठभेड़ यह दूसरी हुई है, जिसमें बदमाश मारा गया है। 11 नवंबर की रात गोवर्धन रोड पर मुकुट व्यापारी दंपति की पत्नी की हत्या और लाखों की लूट के बाद से फरार फारुख मुठभेड़ के दौरान ढेर हो गया था। दूसरी मुठभेड़ शनिवार तड़के शेरगढ़ क्षेत्र में हुई है, जिसमें मनोज ढेर हो गया।