ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशभाजपा की सदस्यता लेते ही ऋचा सिंह का सपा पर हमला, परिवारवाद पर साधा निशाना

भाजपा की सदस्यता लेते ही ऋचा सिंह का सपा पर हमला, परिवारवाद पर साधा निशाना

रामचरितमानस को लेकर हुए विवाद में टिप्पणी करने के बाद सपा से बाहर हुईं इलाहाबाद यूनिवर्सिटी की पूर्व अध्यक्ष ऋचा सिंह ने भाजपा की सदस्यता ले ली है। भाजपा में शामिल होते ही ऋचा ने सपा पर हमला किया।

भाजपा की सदस्यता लेते ही ऋचा सिंह का सपा पर हमला, परिवारवाद पर साधा निशाना
Yogesh Yadavवार्ता,प्रयागराजThu, 22 Feb 2024 03:51 PM
ऐप पर पढ़ें

इलाहाबाद विश्वविद्यालय की पहली महिला छात्र संघ अध्यक्ष रही ऋचा सिंह ने भाजपा की सदस्यता ग्रहण करने के बाद गुरुवार को सपा पर हमला बोला। ऋचा ने कहा कि भाजपा देश को अपना परिवार मानती है जबकि दूसरे दल परिवार को ही देश मानते है। ऋचा सिंह ने भाजपा प्रदेश कार्यालय लखनऊ में पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष भूपेन्द्र चौधरी, दोनों उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य और बृजेश पठक की उपस्थिति में एक कार्यक्रम में बुधवार को सदस्यता ग्रहण की थी।

उन्होंने गुरुवार को यहां कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में देश और प्रदेश सब का साथ, सबका विकास और सबका विश्वास के साथ आगे बढ़ रहा है। उत्तर प्रदेश अभी तक बीमारू प्रदेश की लिस्ट में शामिल रहा लेकिन अब उसमें चहुंओर विकास धरातल पर नजर आ रहा है। उन्होंने कहा कि पार्टी देश को अपना परिवार मानती है इसी बात से प्रभावित होकर भाजपा में शामिल हुई। 

सपा छोड़ कर भाजपा में आयी ऋचा ने कहा कि भाजपा देश की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी है। सबसे महत्वपूर्ण बात है कि भाजपा देश को अपना परिवार मानती है जबकि अन्य राजनीतिक दल परिवार को ही देश मान लिया हैं। पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष ने कहा कि देश को परिवार मामने वाली पार्टी के साथ जुड़ी हूं और स्वस्थ्य विचारधारा के साथ आगे बढेंगी तथा अपना पूर्ण योगदान देंगी।

गौरतलब है कि ऋचा सिंह वर्ष 2015 में समाजवादी पार्टी (सपा) के समर्थन से वश्विवद्यिालय छात्र संघ चुनाव में अध्यक्ष पद पर चुनी गयी थी। वर्ष 2016 में औपचारिक रूप से सपा में शामिल हुई थी। पार्टी ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2017 और 2022 में उन्हें अपना उम्मीदवार बनाया था लेकिन उन्हें सफलता नहीं मिल सकी थी।

उत्तर प्रदेश के पूर्व कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य के 2023 में रामचरितमानस की चौपाई पर विवादित टप्पिणी करने के विरोध में ऋचा सिंह ने अपनी आवाज बुलंद किया था जिसके परिणामस्वरूप उन्हें पार्टी से बाहर कर दिया गया था।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें