ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशछह महीने से फरार पाक एजेंट जियाउल हक पर पुलिस ने रखा इनाम, दो साथी हो चुके हैं गिरफ्तार

छह महीने से फरार पाक एजेंट जियाउल हक पर पुलिस ने रखा इनाम, दो साथी हो चुके हैं गिरफ्तार

देशविरोधी गतिविधयों में लिप्त पश्चिमी चंपरण बिहार के रहने वाले पाकिस्तानी एजेंट जियाउल हक पर एटीएस ने इनाम की राशि 25 हजार बढ़ाकर 50 हजार रुपये कर दी है। वह पिछले 6 महीने से फरार है।

छह महीने से फरार पाक एजेंट जियाउल हक पर पुलिस ने रखा इनाम, दो साथी हो चुके हैं गिरफ्तार
Ajay Singhवरिष्ठ संवाददाता,गोरखपुरThu, 23 May 2024 03:21 PM
ऐप पर पढ़ें

Reward on Pakistani agent: देशविरोधी गतिविधयों में लिप्त पश्चिमी चंपरण बिहार के रहने वाले पाकिस्तानी एजेंट जियाउल हक पर एटीएस ने इनाम की राशि 25 हजार बढ़ाकर 50 हजार रुपये कर दी है। वह पिछले छह महीने से फरार है। उस पर सेना की खुफिया जानकारी लीक करने के लिए रुपयों का लेनदेन करने का आरोप है।

गिरफ्तारी के लिए एटीएस ने एसटीएफ और गोरखपुर पुलिस को भी उसकी फोटो और हुलिया भेजा है। उसके दो साथियों रियाजुद्दीन और इजहारुल हुसैन की गिरफ्तारी के बाद उसका नाम सामने आया था। यह भी पता चला था कि उसका गोरखपुर में भी आना-जाना था।

दरअसल, एटीएस ने 10 नवंबर 2023 को गाजियाबाद के भोजपुर इलाके के अंसारिमान फरीदनगर निवासी रियाजुद्दीन और पश्चिमी चंपारण के शकारपुर के नरकटियागंज निवासी इजहारुल हक पर देश विरोधी गतिविधयों में लिप्त पाए जाने पर केस दर्ज किया था। जांच में पता चला कि इनके गिरोह में पश्चिमी चंपारण के मझौलिया थाना क्षेत्र के जौकटिया वार्ड नंबर एक निवासी जियाउल हक भी शामिल है, जो मजदूरी के बहाने गोरखपुर के चौरीचौरा इलाके में कुछ समय के लिए रह चुका है।

यह भी पता चला कि इन सभी का खाता है, जो मार्च 2022 में खोला गया था और उससे एक महीने में 75 लाख रुपये से अधिक का लेनदेन भी किया गया था। एटीएस के मुताबिक, विभिन्न ऐप के जरिए खाते से कई खातों में रुपये भेजे गए थे, जिसका इस्तेमाल देश और सेना की खुफिया जानकारी पाकिस्तान पहुंचाने में की गई थी। ऐप के जरिए पाकिस्तानी एजेंटों को रुपये भेजे गए थे।

भारत सरकार को अस्थिर करने की थी मंशा

एटीएस के मुताबिक, आरोपियों की मंशा थी कि वह कुछ ऐसा करते रहे, जिससे भारत सरकार अस्थिर हो जाए। राष्ट्र की सुरक्षा में सेंध लगाने की भी तैयारी थी, इस वजह से आरोपी की गिरफ्तारी के लिए अब एटीएस ने 25 हजार से इनाम बढ़ाकर 50 हजार कर दिया है, ताकि उसे दबोचा जा सके।