DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  धर्मांतरण केस में एक और खुलासा: जानें कैसे अलीगढ़ का प्रतीक बना फैजुर्रहमान और सृष्टि बनी जैनब
उत्तर प्रदेश

धर्मांतरण केस में एक और खुलासा: जानें कैसे अलीगढ़ का प्रतीक बना फैजुर्रहमान और सृष्टि बनी जैनब

कार्यालय संवाददाता ,अलीगढ़ Published By: Amit Gupta
Fri, 25 Jun 2021 05:56 AM
धर्मांतरण केस में एक और खुलासा: जानें कैसे अलीगढ़ का प्रतीक बना फैजुर्रहमान और सृष्टि बनी जैनब

अलीगढ़ के मेरिस रोड स्थित अपार्टमेंट में रहने वाले भाई-बहन के धर्मांतरण का मामला सामने आया है। एटीएस की टीमें पड़ताल कर रही हैं। सामने आया है कि धर्मांतरण के बाद युवक कार्तिक से फैजुलरहमान बना हैं, जबकि उसकी बहन सृष्टि से जैनब बन गई है। मेरिस रोड स्थित हरिओम नगर में नैय्यर अपार्टमेंट की चौथी मंजिल के एक फ्लैट में फैजाबाद निवासी परिवार आकर रहने लगा। परिवार के मुखिया एक निजी कंपनी में नौकरी करते थे। लेकिन करीब सात साल पहले उसकी सासनी के पास सड़क हादसे में मौत हो गई। घर में उनकी पत्नी व बेटा-बेटी रह गये थे। घर की आर्थिक स्थिति काफी खराब हो गई थी। बेटा-बेटी एएमयू से पढ़ायी कर रहे थे। इसी बीच उनके घर कुछ बाहरी लोगों का आवागमन शुरू हो गया। कुछ दिन बाद दोनों भाई-बहनों ने धर्म परिवर्तन कर लिया।

अब धर्मांतरण का मुद्दा उछला तो आरोपी उमर गौतम के एएमयू से संपर्क निकले तो अलीगढ़ एटीएस के निशाने पर आ गया। यहां पड़ताल की गई तो सामने आया कि यहां के भाई बहन का भी धर्म परिवर्तन हुआ है। पड़ताल में सामने आया कि युवक कार्तिक तिवारी का धर्म परिवर्तन वर्ष 2018 में हुआ है, जबकि उसकी बहन सृष्टि तिवार का धर्म परिवर्तन वर्ष 2019 में हुआ है। अब कार्तिक ने नाम बदलकर फैजुलरहमान कर लिया है, जबकि सृष्टि ने अपना नाम जैनब रख लिया है।  

दोनों ने इस्लाम धर्म में की शादी 
धर्मांतरण के बाद फैजुलरहमान और जैनब दोनों ने शादी कर ली है। दोनों ने दूसरे धर्म में ही शादी की है। फैजुलरहमान की पत्नी का नाम जकिया व जैनब के पति का नाम शहनवाज है। धर्मांतरण के बाद परिवार ने रहने की जगह बदल ली है। परिवार के सदस्य अब अलीगढ़ में ही कई दूसरी जगह रहते हैं। बताया जा रहा है कि अब परिवार में सृष्टि से जैनब बनी युवती भी अपने पति के साथ एक ही परिवार में रहती है।  

अपार्टमेंट के लोग बोले-नहीं हो रहा विश्वास 
मेरिस रोड के नैयर अपार्टमेंट में रहने वाले लोगों को जब भाई बहन के धर्मांतरण की जानकारी हुई तो उनको विश्वास नहीं हुआ। वह बोले कि दोनों ने कब में ऐसा कर लिया, इसकी किसी को भनक तक नहीं लग सकी। परिवार के सदस्यों ने भले ही अपना ठिकाना बदल लिया हो, लेकिन अपने फ्लैट को नहीं बेचा है। सात दिन पहले फ्लैट में नये किरायेदार को शिफ्ट किया गया है। बताया जा रहा है कि उस समय मां-बेटी को पड़ोस वालों ने देखा था।

 

संबंधित खबरें