DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

UP : घटिया दवा सप्लाई करने वाली कंपनियों के भुगतान पर रोक

medicine

स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह ने मरीजों की सेहत से खिलवाड़ करने वाली दो दवा कंपनियों को ब्लैक लिस्ट करने के आदेश दिए हैं। दूसरी ओर उप्र मेडिकल सप्लाइज कार्पोरेशन ने इन कंपनियों के बकाया भुगतान पर रोक लगा दी है। दागी कंपनियों की दूसरे बैच की दवाओं की जांच भी कराई जा रही है।

स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह ने कहा कि सरकारी अस्पतालों में उप्र मेडिकल सप्लाइज कार्पोरेशन की तरफ से दवाओं की आपूर्ति की जा रही है। कुछ दवाएं मानक के अनुरूप नहीं पाई गई है। दो दवाएं जांच होने तक प्रतिबंधित कर दी गई है। इनमें मेसर्स हिलर्स लैब ने फ्लूकोनाजॉल टैबलेट और हिमालया मेडिटेक का रेनिटडीन हाईड्रोक्लोराइड इंजेक्शन शामिल है। यह कंपनियां ब्लैक लिस्ट होंगी।  

अप्रैल से अब तक 10 दवाओं के नमूने फेल
सरकारी अस्पतालों में दवाओं की आपूर्ति के लिए प्रदेश सरकार ने उप्र मेडिकल सप्लाईज कार्पोरेशन का गठन किया। दवाओं के लिए करीब 600 करोड़ रुपये का बजट है। जनवरी से कार्पोरेशन ने अस्पतालों में दवाओं की आपूर्ति शुरू की अप्रैल से अब तक 10 दवाओं के नमूने फेल हो चुके हैं। इनमें बरेली, फिरोजाबाद, पीलीभीत, कानपुर, आगरा बुलंदशहर व लखनऊ से दवाओं के नमूने एकत्र किए गए थे। दो से तीन कंपनियां ऐसी हैं जिनके कई बार दवाओं के नमूने फेल हो चुके हैं। 

मानकों के खिलाफ दवा की आपूर्ति करने वाली कंपनियों पर कड़ाई की जा रही है। जिन दवाओं के नमूने फेल हुए हैं,उनका भुगतान रोक दिया गया है। -श्रुति सिंह, एमडी, उप्र मेडिकल सप्लाईज कार्पोरेशन

अस्पतालों से दवाओं की वापसी शुरू
रोजाना 300 से 400 गोलियों की अस्पताल में खपत है। कार्पोरेशन से निर्देश मिलने के बाद दवाओं की जांच कराई गई। अस्पताल में संबंधित बैच की सिर्फ एक दवा फ्लूकोनोजॉल टैबलेट ही मिली है। करीब 42 हजार गोलियां अस्पताल में हैं। इन्हें वापस करने की प्रक्रिया पूरी कर दी गई है। -डॉ. हिमांशु चतुर्वेदी, चिकित्सा अधीक्षक, बलरामपुर अस्पताल

दोनों अस्पतालों में संबंधित बैच की फ्लूकोनाजॉल टैबलेट ही है। करीब एक लाख गोलियां सिविल अस्पताल में हैं। 15 हजार लोहिया अस्पताल में हैं। दोनों अस्पतालों से दवाओं की वापसी की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। -डॉ. डीएस नेगी, निदेशक, लोहिया और सिविल अस्पताल

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Restriction on payment to companies supplying bad medicines in Uttar Pradesh