DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  भोजपुरी गीतों और फिल्मों में अश्लीलता के खिलाफ रविकिशन ने उठाई आवाज, जावड़ेकर समेत कई मंत्रियों को लिखा पत्र
उत्तर प्रदेश

भोजपुरी गीतों और फिल्मों में अश्लीलता के खिलाफ रविकिशन ने उठाई आवाज, जावड़ेकर समेत कई मंत्रियों को लिखा पत्र

गोरखपुर लाइव हिन्दुस्तानPublished By: Yogesh Yadav
Mon, 14 Jun 2021 10:46 PM
भोजपुरी गीतों और फिल्मों में अश्लीलता के खिलाफ रविकिशन ने उठाई आवाज, जावड़ेकर समेत कई मंत्रियों को लिखा पत्र

सांसद रवि किशन ने भोजपुरी फिल्मों और गीतों में अश्लीलता के खिलाफ आवाज उठाई है। इस पर रोक लगाने के लिए सूचना और प्रसारण मंत्री, संस्कृति मंत्री सहित उत्तर प्रदेश व बिहार के मुख्यमंत्रियों का पत्र लिखा है। उन्होंने मांग की है कि अश्लीलता से भरे भोजपुरी गीतों और भोजपुरी फिल्मों को तत्काल प्रभाव से प्रतिबंधित कर दिया जाए। साथ ही आगे से ऐसा न हो, इसके लिए कड़ा कानून बनाया जाए।

मंत्रियों को भेजे गए पत्र में सांसद ने कहा कि भोजपुरी बेहद समृद्ध भाषा है। लोक नाटककार भिखारी ठाकुर और लोकगायक महेंद्र मिश्र के गीतों की विदेशों तक में मांग है। इस भाषा में गंगा मइया तोहें पियरी चढ़इबें, धरती मइया, लागी नहीं छूटे रामा जैसी कई ऐसी यादगार फिल्में बनी हैं, जिन्होंने भोजपुरी संस्कृति को विश्व फलक पर स्थापित किया। उनके कर्णप्रिय गीत आज भी हमारे कानों में गूंजते हैं। लेकिन दुख की बात यह है कि बीते एक दशक से भोजपुरी फिल्मों और गीतों के स्तर में काफी गिरावट आई है। आज की भोजपुरी फिल्में और गीत अश्लीलता के पर्याय बनते जा रहे हैं, जो चिंता का विषय है। इस पर लगाम लगाने की जरूरत है। लोगों तक पहुंच चुकीं फिल्मों और गीतों को प्रतिबंधित करके और कड़ा कानून बनाकर ऐसा किया जाना संभव है।

भोजपुरी स्टार और सांसद रवि किशन ने भोजपुरी फिल्म जगत में पिछले 3 दशकों से अधिक समय से मुंबई से जुड़ें हैं। रवि किशन गोरखपुर से सांसद बनने के बाद लगातार भोजपुरी के उत्थान के लिए प्रयास कर रहे हैं। लोकसभा में भोजपुरी को संविधान की आठवीं अनुसूची में स्थान दिलाने के लिए एक ग़ैर -सरकारी सदस्य का विधेयक भी संसद में पेश किया है।

संबंधित खबरें