DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रंग भरी एकादशी आज, शिव और पार्वती आज देंगे राजसी ठाठ में दर्शन

Kashi Vishwanath Temple

औघड़दानी भूतभावन को राजसी ठाटबाट में देखने के अविस्मरणीय पल का साक्षी बनने को बनारस और बनारसी दोनों आतुर हैं। महंत आवास से विश्वनाथ मंदिर परिसर तक फूलों से बने गुलाल में रंगने को तैयार है। 

महंत आवास पर पूजन कक्ष से लेकर रंगभरी के आयोजन के लिए आंगन को सजाया जा चुका है। काशी विश्वनाथ मंदिर के महंत पं. कुलपति तिवारी के आवास पर दूल्हा बने बाबा के पंचबदन स्वरूप का शृंगार किया जाएगा। गौने में चढ़ाए जाने वाले सगुन भेंट कर दामाद के रूप में देवाधिदेव को उचित आसन दिया जाएगा। भेंट की थाल में फल, मिष्ठान्न आदि से लेकर नूतन वस्त्र और आभूषण तक शामिल थे। गौने की रस्मों की शुरुआत से पूर्व गौरी-गणेश का विधान पूर्वक पूजन डा. कुलपति तिवारी के सानिध्य में हुआ। तत्पश्चात पारंपरिक गीतों का गायन होगा। .

महंत आवास पर आज उत्सव का क्रम

रंगभरी एकादशी पर बाबा के पूजन का क्रम ब्रह्म मुहूर्त में मंहत आवास पर आरंभ होगा। बाबा के साथ माता गौरा की चल प्रतिमा का पंचगव्य तथा पंचामृत स्नान के बाद दुग्धाभिषेक किया जायगा। सुबह पांच से साढ़े आठ बजे तक 11 वैदिक ब्रह्मणों द्वाराषोडशोपचार पूजन पश्चात फलाहार का भोग लगा महाआरती की जायगी। दस बजे चल प्रतिमाओं का राजसी शृंगार एवं 12 भोग आरती के बाद के बाद पालकी का दर्शन आम श्रद्धालुओं के खोला जायेगा। 12 से सायं पांच बजे तक शिवांजलि का कार्यक्रम होगा। पं. अमित शंकर त्रिवेदी, डा. अमलेश शुक्ल अमन, स्नेहा कुमारी, संजू तिवारी व मिथिलेश चौबे, मृत्युंजय भारद्वाज, संजय, कृष्णा, आनंद, भैरव पांडेय शामिल होंगे।

इसे भी पढ़ें : आमलकी एकादशी 2019: मोक्ष के मार्ग पर ले जाता है यह पवित्र व्रत

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:rang bhari ekadashi today Shiva and Parvati will be worshiped in special manner