ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशकौन है श्रीप्रकाश शुक्‍ला से भी बड़ा इनामी? पुलिस के लिए 6 साल से अबूझ पहेली; अब टॉप-10 लिस्‍ट से बाहर

कौन है श्रीप्रकाश शुक्‍ला से भी बड़ा इनामी? पुलिस के लिए 6 साल से अबूझ पहेली; अब टॉप-10 लिस्‍ट से बाहर

पुराने बदमाशों को सजा और सम्पत्ति जब्ती की कार्रवाई के बाद पुलिस ने टॉप टेन बदमाशों की नई सूची तैयार की है। लेकिन, जोन के सबसे बड़े इनामी अपराधी को इस लिस्‍ट से बाहर कर दिया गया है।

कौन है श्रीप्रकाश शुक्‍ला से भी बड़ा इनामी? पुलिस के लिए 6 साल से अबूझ पहेली; अब टॉप-10 लिस्‍ट से बाहर
Ajay Singhशिवम सिंह ,गोरखपुरTue, 25 Jun 2024 09:15 AM
ऐप पर पढ़ें

Gorakhpur Police Action: पुराने बदमाशों को सजा और सम्पत्ति जब्ती की कार्रवाई के बाद पुलिस ने टॉप टेन बदमाशों की नई सूची तैयार की है। लेकिन, जोन के सबसे बड़े इनामी अपराधी को इस सूची से बाहर कर दिया गया है। ढाई लाख रुपये के इनामी राघवेंद्र यादव को पिछले छह साल से पकड़ पाने में नाकामी के बीच उसका नाम ही सूची से नाम बाहर किए जाने को लेकर तरह-तरह की चर्चाएं हैं जबकि पिछली सूची में वह पहले नंबर पर था। राघवेंद्र, इनाम के हिसाब से गोरखपुर जोन का सबसे बड़ा अपराधी बन गया है। उससे ज्यादा इनाम 90 के दशक में खौफ फैलाने वाले पूरब के डॉन श्रीप्रकाश शुक्ला पर भी नहीं था। श्रीप्रकाश पर दो लाख रुपये तक ही इनाम था। राघवेंद्र के अलावा माफिया राकेश यादव, सुधीर सिंह, सत्यव्रत राय, शैलेंद्र सिंह और सुभाष शर्मा का नाम भी अब टॉप टेन बदमाशों की सूची में शामिल नहीं है।

राघवेंद्र के अपराध को देखते हुए एडीजी अखिल कुमार ने एक लाख रुपये इनाम घोषित कर फाइल डीजीपी कार्यालय में भेज दी थी। 21 मई 2021 को डीजीपी ने राघवेंद्र पर इनाम बढ़ाकर 2.50 लाख रुपये कर दिया। इसके बाद जोन के सभी थाने, चौकी में उसका फोटो चस्पा कर दिया गया। एसटीएफ भी उसकी तलाश में लगा दी गई, लेकिन कोई सुराग नहीं मिला। इनाम के हिसाब से राघवेंद्र गोरखपुर जोन का सबसे बड़ा बदमाश है। इससे ज्यादा इनाम 90 की दशक में अपराध से दहशत फैलाने वाले माफिया श्रीप्रकाश शुक्ला पर भी नहीं था। श्रीप्रकाश पर दो लाख तक ही इनाम था। चर्चा है कि गिरफ्तार कर पाने में नाकामी को छिपाने के लिए पुलिस ने टॉप टेन बदमाशों की सूची से राघवेंद्र यादव का नाम ही बाहर कर दिया है।

उम्रकैद की सजा काट रहा परवेज परवाज टॉप टेन सूची में
सीएम योगी सहित कई जनप्रतिनिधियों पर केस दर्ज कराने वाला और सामूहिक दुष्कर्म के मामले में आजीवन कारावास की सजा काट रहा परवेज परवाज टॉप टेन बदमाशों की सूची में शामिल कर लिया गया है। 18 जुलाई 2020 को जिला अदालत ने परवेज परवाज और उसके साथी महमूद उर्फ जुम्मन बाबा को सामूहिक दुष्कर्म के केस में दोषी करार देते हुए उन्हें उम्रकैद की सजा सुनाई। इसमें से जुम्मन बाबा की मौत हो चुकी है, जबकि परवेज परवाज जेल में बंद हैं।

नई सूची में यह नाम किए गए शामिल
नई सूची में गगहा के डुमरी निवासी सन्नी सिंह उर्फ मृगेंद्र, उसका भाई टीका सिंह उर्फ बृजेश, चिलुआताल के मोहरीपुर निवासी मनोज साहनी उर्फ टमाटर, तुर्कमानपुर निवासी परवेज परवाज, बेलीपार के भौवापार निवासी धनंजय तिवारी का नाम शामिल किया गया है। पुरानी सूची के माफिया अजीत शाही, प्रदीप सिंह, चंदन सिंह और राधेश्याम यादव का नाम भी नई टॉप टेन सूची में बरकरार है।

क्‍या बोले एसएसपी 
एसएसपी डॉ. गौरव ग्रोवर ने कहा कि समय-समय पर बदमाशों की सूची को अपडेट किया जाता है। लेकिन, परवेज परवाज समेत कुछ बदमाशों को शामिल कर जो सूची बनाई गई है, वह एसपीओ द्वारा सजा दिलाने के लिहाज से तैयार की गई है। राघवेंद्र यादव अभी गिरफ्तार नहीं है, इस वजह से उसका नाम सूची में नहीं है। पुलिस की गिरफ्तारी की प्राथमिकता वाली सूची में उसका नाम है।