ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशप्रियंका गांधी बोलीं- किशोरी लाल मुझे लड़ने को कह रहे थे, उन्होंने बहुत चुनाव लड़वाया, इस बार उनको जिताऊंगी

प्रियंका गांधी बोलीं- किशोरी लाल मुझे लड़ने को कह रहे थे, उन्होंने बहुत चुनाव लड़वाया, इस बार उनको जिताऊंगी

प्रियंका गांधी ने रायबरेली में यह साफ किया कि केएल शर्मा को अमेठी से क्यों उतारा गया है। इस बात का भी खुलासा किया कि केएल शर्मा ने उन्हें (प्रियंका गांधी) को ही लड़ने के लिए कहा था।

प्रियंका गांधी बोलीं- किशोरी लाल मुझे लड़ने को कह रहे थे, उन्होंने बहुत चुनाव लड़वाया, इस बार उनको जिताऊंगी
Yogesh Yadavलाइव हिन्दुस्तान,रायबरेलीMon, 06 May 2024 10:45 PM
ऐप पर पढ़ें

अमेठी और रायबरेली की कमान खुद संभालने कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी सोमवार को पहुंच गईं। रायबरले में पहुंचते ही उन्होंने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते किया और जोश भरने की कोशिश की। यह भी साफ किया कि केएल शर्मा को अमेठी से क्यों उतारा गया है। इस बात का भी खुलासा किया कि केएल शर्मा ने उन्हें (प्रियंका गांधी) को ही लड़ने के लिए कहा था। प्रियंका गांधी ने तीन दशक पहले मां सोनिया गांधी के लिए किस तरह से केएल शर्मा के साथ मिलकर प्रचार संभाला और जीता, उसके बारे में विस्तार से भी बताया। 

प्रियंका गांधी ने कहा कि किशोरी लाल जी से ही मैंने चुनाव संचालन सीखा है। प्रियंका ने बताया कि 1999 में जब सबसे पहले माता जी (सोनिया गांधी) के चुनाव के लिए अमेठी आई थी। तब माता जी ने केवल एक दिन प्रचार किया था। उन्होंने तब पांचों विधानसभा क्षेत्रों में पांच मीटिंग की थी। उसके बाद पूरा चुनाव किशोरी लाल जी और मैंने संभाला था। पूरे समय चुनाव का संचालन और प्रचार किया था। उसी समय किशोरी लाल जी से चुनाव के बारे में एक-एक चीज सीखी थी।

हम लड़ना जानते हैं, जिन्हें डर लग रहा अभी चले जाएं, 18 तक यहीं रहूंगी, रायबरेली पहुंचते ही प्रियंका गांधी की हुंकार

प्रियंका ने कहा कि किशोरी लाल जी ने ही मुझे बताया कि चुनाव कैसे लड़ा जाता है। कार्यकर्ताओं के बारे में, चुनाव को संचालित करने के बारे में, सबकुछ किशोरी लाल जी से सीखा। इसके साथ ही प्रियंका ने यह भी राज खोला कि इस बार भी जब हम लोगों की बात हो रही थी तो कह रहे थे कि आप ही लड़ लीजिए। तब मैंने कहा देखिए आपने बहुत चुनाव लड़ाया है। इस बार मैं आपको चुनाव लड़ाऊंगी और आप चुनाव जीतेंगे। इसलिए इस बार मैं यहां अपने बड़े भाई राहुल गांधी और किशोरी लाल जी का चुनाव लड़वाने आई हूं। 

निर्दलीय लड़ने का भी रास्ता नहीं छोड़ा, श्रीकला को बसपा के टिकट में ही धनंजय सिंह को खेल दिखा

इससे पहले किशोरी लाल ने कहा कि मैंने कभी सोचा नहीं था कि अमेठी से चुनाव लड़ेंगे। यह सिर्फ कांग्रेस में संभव है। अभी तक चुनाव प्रबंधन देखता रहा लेकिन इस बार कांग्रेस ने चुनाव मैदान में उतार दिया। उन्होंने कार्यकर्ताओं से चुनाव में पूरी तरह से जुटने के लिए कहा।

इंदिरा गांधी चुनाव हारीं लेकिन नाराज नहीं हुई थीं
प्रियंका ने कहा कि गांधी परिवार का यहां से पुराना नाता रहा है। ब्रिटिशकाल के किसान आंदोलन में नेहरू परिवार के लोग जेल गए थे। तब से यह संघर्ष जारी है। 1977 में इंदिरा गांधी यहां चुनाव हार गई थीं। लेकिन वह नाराज नहीं हुईं। बल्कि उससे सीखा। जो गलतियां थीं, उन्हें सुधारा। उन्होंने कहा कि आप भी मुझे डाटते हैं। हालांकि एक बार मैंने भी डांटा था। उसके लिए माफी मांगी थी। फिर माफी चाहते हैं। रायबरेली की भूमिका अहम है। लोकतंत्र के प्रतीक को रायबरेली से देश-दुनिया देखती है।