ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशप्रियंका गांधी बनारस से लड़तीं तो मोदी तीन लाख..., क्या था प्लान, क्यों बदला, अजय राय ने बताया

प्रियंका गांधी बनारस से लड़तीं तो मोदी तीन लाख..., क्या था प्लान, क्यों बदला, अजय राय ने बताया

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने मंगलवार को कहा कि अगर प्रियंका गांधी वाराणसी से लड़ जातीं तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो-तीन लाख वोटों से हार जाते। इस बयान की अजय राय ने अब सच्चाई बताई है।

प्रियंका गांधी बनारस से लड़तीं तो मोदी तीन लाख..., क्या था प्लान, क्यों बदला, अजय राय ने बताया
Yogesh Yadavलाइव हिन्दुस्तान,वाराणसीWed, 12 Jun 2024 07:20 PM
ऐप पर पढ़ें

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने मंगलवार को रायबरेली में कार्यकर्ताओं के बीच कहा कि अगर मेरी बहन (प्रियंका गांधी) वाराणसी से लड़ जाती तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो-तीन लाख वोटों से हार जाते। इस बयान के बाद चर्चा तेज हो गई है कि क्या सही में प्रियंका गांधी को वाराणसी से चुनाव लड़ाने की तैयारी थी। अगर तैयारी थी तो क्यों प्लान बदल गया। यूपी कांग्रेस अध्यक्ष और वाराणसी से पीएम मोदी के खिलाफ प्रत्याशी अजय राय ने इस बारे में बुधवार को खुलासा किया। अजय राय ने कहा कि वह चाहते थे कि प्रियंका गांधी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के खिलाफ वाराणसी से चुनाव लड़ें, लेकिन पार्टी देश भर में उनकी सेवाओं का उपयोग करना चाहती थी और इस संबंध में कोई निर्णय नहीं लिया गया।

अजय राय ने पार्टी नेता राहुल गांधी के पिछले दिन के इस बयान का समर्थन किया कि अगर उनकी बहन प्रियंका गांधी वाराणसी से लोकसभा चुनाव लड़तीं तो प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी दो या तीन लाख वोटों से हार जाते। अजय राय ने कहा कि हम चाहते थे कि प्रियंका गांधी वाराणसी में मोदी के खिलाफ लड़ें। लेकिन पार्टी ने कोई निर्णय नहीं लिया, क्योंकि उन्हें चुनावों के लिए पूरे देश का दौरा करना था। अजय राय मौजूदा चुनावों में वाराणसी में मोदी से करीब 1.5 लाख वोटों से हारे हैं। जबकि इससे पहले मोदी यहां से तीन लाख से ज्यादा वोटों से जीतते रहे हैं। राहुल गांधी ने मंगलवार को रायबरेली में यह भी कहा कि वाराणसी में प्रधानमंत्री जान बचाके निकले हैं। अयोध्या में मिली भाजपा को हार का उदाहरण देते हुए कहा कि प्रियंका लड़ जातीं तो मोदी 2-3 लाख वोटों से बनारस में चुनाव हार जाते। 

वाराणसी में जान बचाके निकले हैं पीएम; प्रियंका लड़ जाती तो 2-3 लाख वोट से हारते मोदी: राहुल गांधी

अजय राय ने कहा कि कांग्रेस इंडिया गठबंधन के अन्य सहयोगियों के साथ लोगों को धन्यवाद देने की खातिर धन्यवाद यात्रा करेगी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस इंडिया गठबंधन की पार्टियों के साथ मिलकर 2027 में उप्र विधानसभा चुनाव लड़ेगी और भाजपा को सत्ता से बाहर करेगी।

अजय राय ने कहा कि मेडिकल प्रवेश परीक्षा नीट में प्रश्नपत्र का लीक होना दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्होंने कहा कि राज्य में एक दर्जन से अधिक बार परीक्षा के प्रश्नपत्र लीक हो चुके हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा विधायक और कार्यकर्ता फील गुड मोड में थे कि मोदी जी एक ब्रांड नाम हैं और वाराणसी में आसानी से चुनाव जीत जाएंगे। उन्होंने कहा कि लेकिन लोगों ने और इंडिया गठबंधन के सहयोगियों के कार्यकर्ताओं ने वाराणसी में भगवा पार्टी को करारी शिकस्त दी।

चार लोकसभा सीटों पर कांग्रेस को हराया गया

कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय राय ने कहा कि यूपी ने भाजपा के नारों की हवा निकाल दी। चुनाव में भाजपा ने अबकी बार 400 पार, 80 में 80 और वाराणसी में 10 लाख पार का नारा दिया था। उसके ये तीनों ही नारे औंधे मुंह गिर गए। उन्होंने आरोप लगाया कि प्रशासनिक तंत्र का दुरुपयोग कर चार लोकसभा सीटों पर कांग्रेस प्रत्याशियों को हराया गया।
 
वह बुधवार को पार्टी के प्रदेश मुख्यालय पर कांग्रेस विधानमंडल दल की नेता आराधना मिश्रा मोना के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे थे। उन्होंने कहा कि आज पूरे देश में यूपी की चर्चा हो रही है। इंडिया गठबंधन ने चुनाव में जबरदस्त प्रदर्शन किया है। इस कारण कांग्रेस प्रदेश की सभी 403 विधानसभाओं में आभार यात्रा निकाल रही है। अमेठी व रायबरेली से इसकी शुरुआत हो गई है, जहां राहुल गांधी व प्रियंका गांधी ने सभा करके जनता का आभार जताया। 

प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि बांसगांव, देवरिया, महराजगंज और अमरोहा में कांग्रेस के प्रत्याशियों को प्रशासनिक तंत्र का सहारा लेकर हराया गया। यूपी ने इंडिया गठबंधन को जनादेश दिया है, इसलिए यह गठबंधन जनता की आवाज मजबूती से उठता रहेगा। पहले केवल यूपी में पेपर लीक हो रहे थे। अब यह देश स्तर पर होने लगा है। नीट परीक्षा को लेकर उठे सवाल गंभीर हैं। इससे संबंधित याचिका पर जवाब मांगने के लिए सुप्रीम कोर्ट बधाई का पात्र है।

सरकारों की इस विफलता से युवाओं का भरोसा टूट रहा है। एक सवाल पर प्रदेश अध्यक्ष ने जम्मू कश्मीर में आतंकी घटनाओं में बढ़ोत्तरी को लेकर उप राज्यपाल मनोज सिन्हा को कठघरे में खड़ा किया। उन्होंने कहा कि वह वाराणसी और गाजीपुर में चुनाव प्रचार में व्यस्त थे। आराधना मिश्रा ने कहा कि भाजपा हालात सामान्य होने की बात कहती है लेकिन वह कश्मीर में चुनाव लड़ने की हिम्मत नहीं कर पाई।