ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशयूपी बोर्ड 10वीं और 12वीं परीक्षा की तैयारियां पूरी, पहली बार होने जा रहीं यह व्यवस्थाएं

यूपी बोर्ड 10वीं और 12वीं परीक्षा की तैयारियां पूरी, पहली बार होने जा रहीं यह व्यवस्थाएं

यूपी बोर्ड की परीक्षाएं गुरुवार 22 फरवरी से शुरू होने जा रही हैं। प्रशासन ने इसकी तैयारियां लगभग पूरी कर ली है। पहली बार कई व्यवस्थाएं  होने जा रही हैं। अफसरों ने पेपर लीक को लेकर चेताया भी है।

यूपी बोर्ड 10वीं और 12वीं परीक्षा की तैयारियां पूरी, पहली बार होने जा रहीं यह व्यवस्थाएं
Yogesh Yadavहिन्दुस्तान,लखनऊWed, 21 Feb 2024 07:16 PM
ऐप पर पढ़ें

यूपी के 8265 केंद्रों पर गुरुवार से शुरू हो रही यूपी बोर्ड की हाईस्कूल एवं इंटरमीडिएट की परीक्षाओं के लिए योगी सरकार ने कड़े सुरक्षा प्रबंध किए हैं। व्हाट्सएप से लेकर सोशल मीडिया के हर प्लेटफार्म तक अराजक तत्वों की कड़ी निगरानी की जा रही है। परीक्षा का प्रश्नपत्र लीक करने की कोशिश करने वाले जेल भेजे जाएंगे। परीक्षा में प्रथम बार क्यूआरटी गठित की गई है जो भ्रामक खबरें फैला कर जनसामान्य को गुमराह करने और सरकार की छवि धूमिल करने के प्रयासों की निगरानी करते हुए तत्काल कार्रवाई करेगी। इस बार कई व्यवस्थाएं पहली बार होने जा रही हैं। 

कुल 12 कार्य दिवसों में होंगी बोर्ड परीक्षाएं 
यह जानकारी अपर मुख्य सचिव माध्यमिक शिक्षा दीपक कुमार ने दी। वह बुधवार को लोकभवन सभागार में बोर्ड परीक्षाओं के संबंध में पत्रकारों से बात कर रहे थे। उन्होंने कहा कि वर्ष 2024 में बोर्ड परीक्षाएं कुल 12 कार्य दिवसों में 22 फरवरी से 9 मार्च के बीच होंगी। वर्ष 2017 से पहले इन परीक्षाओं को संपन्न कराने में एक माह से भी अधिक समय लगता था।

बोर्ड परीक्षा में हाईस्कूल के 1571184 छात्र तथा 1376127 छात्राएं (कुल 29,47,311) एवं इंटरमीडिएट के 1428323 छात्र तथा 1149676 छात्राएं (कुल 25,77,997) शामिल होंगे। कुल 55,25,308 परीक्षार्थियों में से 5360745 संस्थागत एवं 164563 व्यक्तिगत परीक्षार्थी है। नकल पर प्रभावी रोकथाम के कारण वर्ष 2024 में 164563 छात्र-छात्राएं व्यक्तिगत परीक्षार्थी के रूप में पंजीकृत हुए हैं, जबकि 2017 में यह संख्या 3,53,106 थी। 

विशेष निगरानी की व्यवस्था 
अपर मुख्य सचिव ने कहा कि किसी विषय की परीक्षा समाप्त होने से पूर्व यदि उस विषय का कोई प्रश्नपत्र या उसके किसी भाग को व्हाट्सएप या सोशल मीडिया के किसी भी माध्यम से प्रसारित करने का प्रयास किया जाता है तो कानून की सुसंगत धाराओं के तहत कठोरतम कार्रवाई की जाएगी। बोर्ड द्वारा संवेदनशील और अति संवेदनशील परीक्षा केंद्रों और जिलों को चिह्नित किया गया है। इनमें किसी भी अप्रिय घटना की रोकथाम के लिए एसटीएफ तथा एलआईयू के माध्यम से विशेष निगरानी की व्यवस्था की गई है।

इसके अलावा नकल की संभावनाओं पर अंकुश लगाने के लिए प्रश्नपत्रों को खोलने की कार्यवाही सीसीटीवी कैमरे की निगरानी में की जाएगी तथा संकलन केंद्रों एवं स्ट्रांग रूम पर 24 घंटे निगरानी के लिए सशस्त्र बल एवं लाइव सीसीटीवी कैमरे की व्यवस्था की गई है। स्ट्रांग रूम का प्रातः कालीन सचल दल द्वारा निरीक्षण किया जाएगा। परीक्षा केंद्रों के आसपास 100 मीटर की परिधि में और आवश्यकता पड़ने पर उसके बाहर भी जिला प्रशासन को दंड प्रकिया संहिता के तहत धारा-144 लागू करने सहित अन्य सभी एहतियाती उपाय करने के निर्देश दिए गए हैं। 

सॉफ्टवेयर के माध्यम से परीक्षा केंद्रों का निर्धारण
उन्होंने बताया कि वर्तमान सरकार द्वारा परीक्षा केंद्रों का निर्धारण, उनकी धारण क्षमताओं का पूर्ण उपयोग करते हुए सॉफ्टवेयर के माध्यम से ऑनलाइन कराया गया। वर्ष 2017 से पहले 12 हजार से भी अधिक केंद्र बनते थे, लेकिन ऑनलाइन केंद्र निर्धारण व्यवस्था से कम परीक्षा केंद्र बने, जिससे उनका पर्यवेक्षण एवं निरीक्षण सुगम हुआ।

राज्य स्तर पर माध्यमिक शिक्षा निदेशालय लखनऊ के साथ-साथ विद्या समीक्षा केंद्र लखनऊ और परिषद मुख्यालय, प्रयागराज और पांच क्षेत्रीय कार्यालयों में भी कमांड एवं कंट्रोल सेंटर स्थापित किए गए हैं, जिनसे प्रदेश के सभी परीक्षा केंद्रों एवं जिला स्तरीय कंट्रोल एवं मॉनिटरिंग सेंटर की लाइव मॉनीटरिंग की जाएगी।

हेल्पलाइन नंबरों के साथ लाइव मॉनीटरिंग की जाएगी 
अपर मुख्य सचिव ने बताया कि परीक्षार्थियों एवं जनसामान्य की शिकायतों का त्वरित निवारण करने के लिए दो हेल्पलाइन नंबर (1800 180 6607 व 1800 180 66078) तथा परीक्षार्थियों की जिज्ञासाओं के समाधान व मनोवैज्ञानिक परामर्श के लिए दो हेल्पलाइन नंबर (1800 180 5310 व 1800 180 5312) भी स्थापित किए गए हैं। इसी प्रकार जिले पर भी कमांड एंड कंट्रोल सेंटर, हेल्पलाइन व अन्य व्यवस्थाएं कराई गई हैं। बोर्ड परीक्षा में कक्ष निरीक्षक एवं अन्य कार्यों के संपादन के लिए लगाई गई ड्यूटी से अनुपस्थित रहने वाले कार्मिकों के विरुद्ध भी कार्रवाई की जा रही है। 

ये होगा पहली बार
-सभी केंद्र व्यवस्थापकों को प्रश्नपत्रों के रखरखाव तथा परीक्षा संपादन के संबंध में व्यवस्था के विभिन्न आयामों को और बाहरी केंद्र व्यवस्थापकों एवं स्टेटिक मजिस्ट्रेटों को परीक्षा संपादन के लिए अपने उत्तरदायित्वों को स्पष्ट करने के लिए प्रशिक्षित किया गया है।
-परीक्षा कक्षों में लगाए गए लगभग 3.11 लाख कक्ष निरीक्षकों को सुरक्षित क्यूआर कोड एवं क्रमांक युक्त कम्प्यूटराइज्ड परिचय पत्र जारी किया गया है।
-उत्तर पुस्तिकाओं के कवर पृष्ठ पर क्यूआर कोड, क्रमांक संख्या एवं लोगो के अलावा उसके आंतरिक पृष्ठ पर भी परिषद का लोगो तथा प्रत्येक पृष्ठ पर पृष्ठ संख्या के साथ-साथ चार अलग-अलग रंगों में सिलाईयुक्त उत्तर पुस्तिकाएं मुद्रित कराई गई हैं।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें