ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशअयोध्या, मथुरा और काशी के रेड जोन में वायरलेस सिस्टम को बदलने की तैयारी, लागू होगी व्यवस्था

अयोध्या, मथुरा और काशी के रेड जोन में वायरलेस सिस्टम को बदलने की तैयारी, लागू होगी व्यवस्था

यूपी में अयोध्या, मथुरा और काशी के रेड जोन में वायरलेस सेवा के स्थान पर मिशन क्रिटिकल संचार व्यवस्था लागू करने की तैयारी पूरी कर ली गई है। नई व्यवस्था लागू की जाएगी।

अयोध्या, मथुरा और काशी के रेड जोन में वायरलेस सिस्टम को बदलने की तैयारी, लागू होगी व्यवस्था
Deep Pandeyअनुराग शुक्ला,अयोध्याFri, 01 Dec 2023 05:34 AM
ऐप पर पढ़ें

अयोध्या, मथुरा और काशी के रेड जोन में वायरलेस सेवा के स्थान पर मिशन क्रिटिकल संचार व्यवस्था लागू करने की तैयारी पूरी कर ली गई है। मंगलवार को रामजन्मभूमि परिसर में स्थाई सुरक्षा समिति की बैठक में इस व्यवस्था को लागू करने पर सहमति बन गई है। अब जल्द ही दोनों धार्मिक स्थलों के साथ अयोध्या के रामजन्मभूमि परिसर में भी इसे लागू करने की तैयारी है। इस नई व्यवस्था के तहत मोबाइल फोन में ही साफ्टवेयर लोड कर वायरलेस हैंड सेट का रूप दिया जाएगा। 

तीनों धार्मिक क्षेत्र आतंकी संगठनों की हिट लिस्ट में  हैं। इसलिए सुरक्षा से जुड़े शीर्ष अधिकारी इनकी सुरक्षा व्यवस्था को अत्याधुनिक बनाने में निरंतर प्रयासरत हैं। सुरक्षा से जुड़े अधिकारियों का मानना है कि कंट्रोल रूम के माध्यम से वायरलेस सेट पर मैसेज प्रसारित किया जाता है जिसकी सूचनाएं कई लोगों के कानों तक पंहुचती हैं। अभी तक के शोध में पता चला है कि इसकी फ्रीक्वेंसी को हैक करने का खतरा बढ़ रहा है। नई व्यवस्था में सुरक्षा कर्मियों के मोबाइल फोन को वायरलेस हैंडसेट की तरह भी कार्य मे लाने की योजना है। इसकी फ्रीक्वेंसी के हैक होने का खतरा भी नही है क्योंकि यह व्यवस्था पूरी तरीके से सेटेलाइट से संचालित होगी। पुलिस सूत्रों की माने तो प्राण प्रतिष्ठा समारोह से पहले सुरक्षा से जुड़े शीर्ष अधिकारियों ने यह व्यवस्था चालू करने के लिए हामी भर दी है। रेड जोन में शुरू करने के बाद इसे आने वाले दिनों में पूरे यलो जोन में फैलाने की योजना है। 

इस संचार सेवा में वन टू वन होती है बात
राम जन्मभूमि परिसर के एसपी सुरक्षा पंकज पांडेय ने बताया कि यह नई व्यवस्था प्रोसेस में है। आने वाले समय मे यह यहां भी लागू की जा सकती है। उन्होंने बताया कि इस संचार सेवा में वन टू वन बात होती है जिसमे गोपनीयता भी बनी रहती है। वायरलेस सेट से बात करने पर सभी लोग सुनते हैं । मोबाइल में सॉफ्टवेयर इंस्टॉल कर हैंडसेट का रूप दिया जाएगा।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें