ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशनगरपालिका की बेशकीमती सरकारी जमीन बेच डाली, फंसे कई खरीदार, खुला मामला तो एक्शन में आए डीएम

नगरपालिका की बेशकीमती सरकारी जमीन बेच डाली, फंसे कई खरीदार, खुला मामला तो एक्शन में आए डीएम

यूपी के बाराबंकी में चौकाने वाला मामला सामने आया है। नगर पालिका की बेशकीमती सरकारी भूमि को एक व्यापारी ने अपनी भूमि बताते हुए वर्षों पहले कई लोगों को बेच डाला।

नगरपालिका की बेशकीमती सरकारी जमीन बेच डाली, फंसे कई खरीदार, खुला मामला तो एक्शन में आए डीएम
Deep Pandeyहिन्दुस्तान,बाराबंकीThu, 07 Dec 2023 11:06 AM
ऐप पर पढ़ें

बाराबंकी शहर के मध्य स्थित नगर पालिका की बेशकीमती सरकारी भूमि को एक व्यापारी ने अपनी भूमि बताते हुए वर्षों पहले कई लोगों को बेच डाला। डीएम के निर्देश पर नगर पालिका ने अपनी खाली भूमि तलाशी। जब उसकी पैमाइश तहसील के कर्मचारियों ने की तो गड़बड़झाला खुलकर सामने आया। अट्ठारह हजार वर्ग फिट से अधिक भूमि को कई लोगों को लाखों रुपए में बेच दिया गया। मजेदार पहलू यह है कि जिस गाटा संख्या की भूमि बेची गई वह सड़क आदि के हिस्से में है। उसे दर्शाकर सरकारी भूमि की खरीद फरोख्त कर दी गई। 

नाका सतरिख, छाया आदि चौराहों पर सुबह लेबर मण्डी लगती है। सैकड़ों की संख्या में बेरोजगार मजदूर सुबह आते हैं। वहां पर लोग भवन निर्माण आदि कार्यों के लिए मजदूर दिहाड़ी तय करके ले जाते हैं। लेबर मण्डी के कारण सुबह के समय यातायात प्रभावित होता है। जिसे देखते हुए डीएम सत्येन्द्र कुमार ने लेबर अड्डा के लिए स्थान ढूंढने का निर्देश डीएम को दिया था। राजस्व अभिलेखों में छाया सिनेमाहाल के पीछे जमुरिया नाले के किनारे गाटा संख्या गाटा संख्या 149 सरकारी भूमि मिल गई। यह जमीन 172 एयर अर्थात 18 हजार 576 वर्ग फिट थी। उक्त जमीन को लेबर अड्डा के लिए प्रर्याप्त माना गया। 

इसे लेकर बीते दिनों तहसील प्रशासन ने सरकारी जमीन को लेकर पैमाइश शुरू की। पैमाइश में जो सरकारी जमीन निकली उसमें कई पर कब्जा था। कुछ लोगों ने चाहरदीवारी भी बना रखी थी। किसी ने पांच हजार वर्ग फिट तो किसी ने तीन फिट जमीन खरीद रखी है। इन खरीदारों में शहर के कई प्रतिष्ठित व्यापारी व अन्य लोग शामिल हैं। इसे देख मौके पर मौजूद कर्मचारी हतप्रभ रह गए। कर्मचारियों ने पूरा मामला एसडीएम को बताया। एसडीएम के पास काबिज लोग पहुंचे और बैनामा दिखाकर कहा कि उन लोगों को जमीन बेची गई है। सभी जमीनें एक ही व्यक्ति द्वारा बेचना बताया गया है। एसडीएम ने बैनामा देखा तो वह भी हैरान रह गए। विक्रेता द्वारा गाटा संख्या 146 पर भूखण्ड दर्शाते हुए पर सभी जमीनों का बैनामा करा गया है। यही नहीं उसने गाटा संख्या 149 पर सभी को काबिज करा दिया। एसडीएम बिजय कुमार त्रिवेदी ने कहा कि सरकारी जमीन की खरीद फरोख्त को लेकर जांच पूरी होने पर एफआईआर कराई जाएगी। उन्होंने कहा कि काबिज सभी लोगों को कब्जा छोड़ने का भी निर्देश दिया गया है। 

बाराबंकी डीएम सत्येन्द्र कुमार ने बताया कि जमीन सरकारी है। लोगों के बैनामे में गाटा संख्या भी अलग दर्ज है। प्रशासन द्वारा सरकारी भूमि को अपने कब्जे में लिया गया है। उन्होंने कहा कि जिन लोगों ने जमीन खरीदी है वह विक्रेता के खिलाफ कार्रवाई कर सकते हैं। 
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें