DA Image
6 अप्रैल, 2020|12:19|IST

अगली स्टोरी

कोरोना इफेक्ट : आलू और टमाटर के दाम दोगुने, बाजार से आटा-ब्रेड गायब

                                                                                                                         -

कानपुर लॉकडाउन होने से सड़कों पर भले ही कर्फ्यू सा नजारा हो पर घरों में बंद लोग परेशान हो गए हैं। बुधवार को चौतरफा खाद्य सामग्री की कालाबाजारी शुरू हो गई। 20 रुपए में किलो वाला आलू 40-50 रुपए में बिक रहा है। मुनाफाखोर 40 से 60 रुपए में आटा बेच रहे हैं। टमाटर के रेट 60 रुपए किलो पहुंच गए हैं। दुकानों से ब्रेड गायब हो गई है। दाल-चावल की कीमतें भी आसमान पर पहुंच गईं। सब्जी और किराना की जो दुकानें सुबह खुलीं, वहां खरीदारों की लंबी कतारें लग गईं। इस बीच डीएम डॉ. ब्रह्मदेव राम तिवारी के सामने आटा खत्म होने की शिकायत आई तो उन्होंने तत्काल फ्लोर मिल संचालकों की बैठक बुला ली। आश्वासन दिया कि आटे की कमी नहीं होगी। 
बुधवार सुबह से ही शहर में जरूरी सामानों को लेकर मारामारी शुरू हो गई। किराना और दूध की दुकानों में सामान लेने की होड़ लग गई। मुनाफाखोरों इसका फायदा उठाने से नहीं चूके और दुकानों में कालाबाजारी शुरू हो गई। देखते ही देखते सब्जियों के भाव दोगुने दाम पर पहुंच गए। कई दुकानें खुली ही नहीं। पूछने पर मालूम पड़ा कि स्टॉक खत्म हो गया है। एक-एक किलो आटा खरीदने के लिए लोग कई-कई बार दुकानों के चक्कर काटते रहे। बादशाहीनाका बाजार में आटा 60 रुपए किलो बिकने की शिकायत कलक्ट्रेट पहुंची तो डीएम ने वहां जाकर जांच करने के निर्देश दिए। टीम वहां पहुंची तब तक संबंधित दुकान ही बंद हो गई। ब्रेड का कहीं भी अता-पता नहीं था। मंगलवार को प्रधानमंत्री के संबोधन के बाद लोगों को जरूरी खाद्यान्न सामग्री उपलब्ध कराने को लेकर प्रशासन ने रूपरेखा तैयार की थी। इसके तहत तड़के चार से 11 बजे तक दुकानें व मंडी खोलने की अनुमति दी है। सुबह जब दुकानें खुलीं तो भीड़ टूट पड़ी। सब्जी-फल के साथ आटा, दाल-चावल व ब्रेड की सर्वाधिक मांग रही। घंटों लोगों को आफत झेलनी पड़ी।
 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Potato and tomato prices double due corona flour bread disappears from market