DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लखनऊ में प्रदूषण: प्रदूषित हवाओं से 5 दिन में काला हुआ कृत्रिम फेफड़ा

artificial lungs installed to check pollution turned black in just 5 days in lucknow (PHOTO-ANI)

वायु प्रदूषण के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए लालबाग में नगर निगम मुख्यालय के सामने लगाया गया कृत्रिम फेफड़ा पांच दिन में काला हो गया। अब इसकी जांच होगी। प्रदूषित हवाओं के कारण मनुष्य के फेफड़े पर पड़ने वाले असर का अध्ययन किया जाएगा। क्लाइमेंट एजेंडा संस्था की ओर से कृत्रिम फेफड़ा 10 जनवरी को लगाया गया था। इसमें उच्च क्षमता वाले फिल्टर का उपयोग किया है। अभियान के संयोजक केजीएमयू पल्मोनरी मेडिसिन विभाग अध्यक्ष डॉ. सूर्यकांत ने बताया कि दिल्ली के बाद लखनऊ में कृत्रिम फेफड़ा लगाया गया था। इसका मकसद वातावरण में प्रदूषण का फेफड़े के प्रभाव का पता लगाना है।

डॉक्टर ने इलाज के बहाने की रेप की कोशिश, हंगामे से मरीज परेशान

उन्होंने बताया कि पांच दिन में फेफड़े पर प्रदूषण के असर को देखना था। सोमवार को पांचवा दिन है। शाम चार बजे तक फेफड़े की तस्वीर लेकर उसका आंकलन किया जाएगा। पांच रोज पहले लगाए गए फेफड़े के रंग से आंकलन होगा। उन्होंने बताया कि इस मौसम में धुंध ज्यादा रहती है। हवा की गति कम रहती है। प्रदूषण के कण नीचले स्तह पर रहती है। नतीजतन सांस के जरिए प्रदूषण के कण शरीर में दाखिल हो जाते हैं। सांस की नली में संक्रमण और सूजन आ जाती है। फेफड़े बीमारी की जद में आ जाते हैं। सांस की बीमारी ऊभर आती है। 

फेफड़े तक पहुंच गया था दो महीने के मासूम का दिल, डॉक्टरों ने बचाई जान

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Pollution in Lucknow The artificial lungs installed to check pollution in lucknow turned dark in just 5 days cause of polluted air