ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेशयूपी में 6 महिलाओं से 10 थाना क्षेत्रों में रेप से पुलिस हैरान, तीन औरतें एक ही परिवार से, दो तो बहनेें

यूपी में 6 महिलाओं से 10 थाना क्षेत्रों में रेप से पुलिस हैरान, तीन औरतें एक ही परिवार से, दो तो बहनेें

गोरखपुर में एक अजब मामला सामने आया है। यहां एक ही परिवार की तीन महिलाओं समेत छह महिलाओं से दस थाना क्षेत्रों में रेप हुआ है। पुलिस भी इसे लेकर हैरान है। जांच में वसूली गैंग का खुलासा हुआ है।

यूपी में 6 महिलाओं से 10 थाना क्षेत्रों में रेप से पुलिस हैरान, तीन औरतें एक ही परिवार से, दो तो बहनेें
Yogesh Yadavहिन्दुस्तान,गोरखपुरMon, 08 Aug 2022 07:47 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

गोरखपुर में एक अजब मामला सामने आया है। यहां एक ही परिवार की तीन महिलाओं समेत छह महिलाओं से दस थाना क्षेत्रों में रेप हुआ है। पुलिस ने जब जांच पड़ताल शुरू की तो हैरान करने वाला मामला सामने आया। पता चला कि रेप का फर्जी मुकदमा दर्ज कराने वाला एक गैंग काम कर रहा है। यह गैंग एक अधिवक्ता के संरक्षण में सरगना सिद्धार्थनगर की नफीसा नाम की महिला है। जबकि अन्य पांच महिलाओं में तीन एक ही परिवार की हैं। दो सगी बहन और मां हैं। 

इस गैंग ने कैम्पियरगंज, बेलघाट, खजनी, बेलीपार और गोरखनाथ में 10 से ज्यादा मुकदमा दर्ज कराया है। एक मामला फर्जी साबित होने पर विवेचक दरोगा ने फाइनल रिपोर्ट (एफआर) लगा दी थी तो महिला ने उनके खिलाफ भी लूट का केस दर्ज करा दिया है। अब पुलिस ने सभी छह महिलाओं के खिलाफ ही केस दर्ज कर लिया है। 

शिकायतकर्ता कैम्पियरगंज निवासी खालिद ने पुलिस को दी तहरीर में बताया कि सिद्धार्थनगर जिले के लोटन थाना क्षेत्र के खीरीडीहा गांव की नफीसा जिसका मायका उनके गांव में है, वह फर्जी मुकदमा दर्ज कराकर वसूली करने वाला गैंग चलाती है। दीवानी कचहरी के अधिवक्ता माधव तिवारी उस गैंग का संरक्षण करते हैं। नफीसा अपने गैंग की लीडर तो बिंद्रावती, सोनी, आरती, इंद्रावती और तारा चौहान सक्रिय सदस्य हैं। 

यह गैंग संभांत नागरिकों, रेलकर्मी, पुलिस अधिकारी, सरकारी कर्मचारी आदि को अपना शिकार बनाता है। रेप, गैंग रेप, एससीएटी जैसी गैंभीर धाराओं में गलत साक्ष्य, झूठे शपथपत्र पर झूठी गवाही के माध्यम से केस दर्ज कराकर धन ऊगाही करता है। इस गैंग ने अब तक खालिद के अलावा लुटूर, रफाकत, सलीम, सरफराज, शहनवाज, विजय, समीम, सुभाष यादव के खिलाफ दर्जनों फर्जी केस दर्ज कराया है। 

गैंगरेप और लूट के मुकदमे में आजीवन कारावास कराने की धमकी देकर तथा जेल जाने का भय दिखाकर यह गैंग अब तक लोगों से 15 से 20 लाख रुपये वसूल चुका है। गैंग की एक सदस्य सोनी ने रेप और एससीएटी का केस दर्ज कराकर सरकार से भी लाखों रुपये वसूल लिया है। 

उसने पता बदल कर तीन अलग-अलग थानों पर एससीएसटी का केस दर्ज कराया है। पीड़ित खालिद ने बताया कि नफीसा 30 जुलाई की शाम को उसके घर आई और धमकी देकर जेल जाने का भय दिखाकर पांच लाख रुपये की मांग की। खालिद की तहरीर पर पुलिस ने सभी के खिलाफ केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

इन के खिलाफ हुआ केस 

खालिद उर्फ जियार्उरहमान निवासी पचमा थाना कैम्पियरगंज की तहरीर पर नफीसा पत्नी हामिद निवासी खीरीडीहा थाना लोटन जिला सिद्धार्थनगर, बिंद्रावती पत्नी भुअर निवासी बेतऊवा उर्फ चनऊ थाना बेलीपार, सोनी पुत्री महेन्द्र निवासी जैती थाना बेलघाट, आरती पुत्री मेवालाल, इंद्रावती पत्नी मेवालाल निवासी तालनवर थाना खजनी, तारा चौहान पत्नी अज्ञात निवासी चक्सा हुसैन पचपेड़वा गोरखनाथ, माधव तिवारी पुत्र शंभू तिवारी निवासी सोनौरा खुर्द थाना कैंम्पयिरगंज व कुछ अन्य सदस्य नाम पता अज्ञात के खिलाफ केस दर्ज हुआ। इंद्रावती और बिंद्रावती बहन हैं तो वहीं आरती इंद्रावती के बेटी है।

एसपी सिटी कृष्ण कुमार विश्नोई ने बताया कि फर्जी मुकदमा दर्ज करा कर लोगों से वसूली करने वाली महिला गैंग का नाम प्रकाश में आया है। एक पीड़ित की शिकायत पर महिला गैंग के छह सदस्यों सहित अन्य के खिलाफ केस दर्ज कर विवेचना की जा रही है।

epaper