DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दो साल से खोज रही थी पुलिस, जनता ने पकड़ लिया करोड़पति ठग

फर्जी ऑनलाइन ट्रेडिंग कंपनी बनाकर चकेरी के 30 लोगों से ज्यादा लोगों से करीब सवा करोड़ रुपए ठगने वाले अंतर्राष्ट्रीय ठग को जनता ने पकड़कर पुलिस को शनिवार रात सौंप दिया है। चकेरी पुलिस मुकदमा दर्ज होने के बावजूद ढाई साल से अंतर्राष्ट्रीय ठग को नहीं पकड़ पा रही थी। शातिर ठग फिर से कंपनी के जरिए ठगी शुरू करने की फिराक में था। पुलिस देर रात तक ठग से पूछताछ करने में जुटी रही। 

पूर्णिया (बिहार) के जानकी नगर निवासी रूपेश यादव उर्फ रंजन उर्फ बिहारी ने 2015 में मंगला विहार स्थित एक गेस्ट हाउस में ऑनलाइन ट्रेडिंग कंपनी 24 फैक्सरोबो.कॉम खोली थी। मंगला विहार निवासी मनोज पटेल के गेस्ट हाउस में कमरा लेकर रूपेश रुकने के साथ ही मंगला विहार निवासी संदीप के साथ कंपनी चलाता था। गेस्ट हाउस में रूपेश ने पैसा लगाने पर निर्धारित तारीख पर मूल रकम से 30 फीसदी बढ़ाकर मुनाफा देने का सब्जबाग लोगों को दिखाए थे। ऐसे में चकेरी के 25 से 30 लोगों ने ज्यादा पैसे की लालच में उसके पास करीब सवा करोड़ रुपए जमा भी कर दिए। जनवरी 2017 में अचानक रूपेश ऑफिस बंद कर भाग निकला था। उसने गेस्ट हाउस संचालक मनोज पटेल का किराया तक नहीं दिया। बाद में मंगला विहार निवासी नीशू वर्मा ने उसके खिलाफ चकेरी थाने में धोखाधड़ी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। पुलिस शातिर को लंबे समय से तलाश रही थी। 
शनिवार रात को मनोज समेत अन्य लोगों को रूपेश के आने की जानकारी हुई। इसके बाद उसे मंगला विहार से पकड़कर पीटते हुए पुलिस के हवाले किया गया। पुलिस देर रात तक रंजन से पूछताछ करती रही। चकेरी इंस्पेक्टर रणजीत राय ने बताया कि रंजन के अन्य साथियों का पता लगाया जा रहा है। उसके पूरे नेटवर्क को खंगाला जा रहा है। फरार संदीप की तलाश की जा रही है। 

नेपाल से लेकर हांगकांग तक फैला नेटवर्क
रूपेश ने शहर में ही नहीं बल्कि यूपी और बिहार के कई जिलों में भी लोगों के साथ ऑनलाइन ट्रेडिंग के नाम पर ठगी की है। उसने फर्जीवाड़े का नेटवर्क नेपाल, हांगकांग में भी फैला रखा है। पीड़ित निशू के मुताबिक ठगी होने के बाद जब उन्होंने रूपेश के बारे में जानकारी की तो पता चला कि वह रुपयों का लालच देकर अन्य लोगों को भी फंसा चुका है। बिहार के अलावा कोलकाता में भी आरोपी रुककर अपने नेटवर्क को संचालित करता था। पुलिस  पूछताछ के आधार पर धोखाधड़ी के अन्य मामलों को भी तलाशने में जुटी है। 

महंगे कपड़े व लग्जरी कारों का शौकीन रूपेश  
पीड़ित मनोज, नीशू आदि ने बताया कि रूपेश लोगों से पैसे ऐंठकर बड़े-बड़े होटलों में रुकता था। वह महंगे कपड़े पहनकर लग्जरी गाड़ी से घूमता था। इससे उस पर किसी को शक नहीं होता था। वह अपने पास कई मोबाइल रखता था। उसके रहन सहन को देखकर लोग उसके झांसे में आ जाते थे। फिर वह पैसा ऐंठकर भाग निकलता था। वह फर्जी कंपनी बनाकर लोगों के पैसे ठग रहा था। 
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Police searching for two years public has caught the millionaire swindler