ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशफेसबुक लाइव कर सुसाइड करने निकले प्रोफेसर को पुलिस ने बचाया, काउंसलिंग भी की

फेसबुक लाइव कर सुसाइड करने निकले प्रोफेसर को पुलिस ने बचाया, काउंसलिंग भी की

उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले में फेसबुक लाइव कर सुसाइड करने निकले प्रोफेसर को पुलिस ने बचाया। प्रोफेसर की काउंसलिंग भी की, जिसमें प्रोफेसर ने दोबारा ऐसा न करने का भरोसा दिलाया।

फेसबुक लाइव कर सुसाइड करने निकले प्रोफेसर को पुलिस ने बचाया, काउंसलिंग भी की
Deep Pandeyहिन्दुस्तान,मेरठThu, 13 Jun 2024 07:13 AM
ऐप पर पढ़ें

फेसबुक लाइव कर सुसाइड करने निकले एक प्रोफेसर की बुधवार को त्वरित एक्शन में आई पुलिस ने जान बचा ली। बाद में पुलिस ने प्रोफेसर की काउंसलिंग भी की, जिसमें प्रोफेसर ने दोबारा ऐसा न करने का भरोसा दिलाया। प्रोफेसर ने लिखित मांफी नामा भी भेजा है।  मामला बुधवार शाम करीब चार बजे का है। लखनऊ मुख्यालय से सदर बाजार, सिविल लाइन पुलिस और जीआरपी को सूचना मिली कि कोई व्यक्ति सोशल मीडिया फेसबुक पर लाइव है और वह सुसाइड करने रेलवे स्टेशन पहुंच गया है। एसओ सदर बाजार शशांक द्विवेदी ने उस नंबर का पता लगाना शुरू किया। कुछ ही देर में उन्होंने नंबर से जुड़ी जानकारी जुटा ली।

फेसबुक लाइव करने वाला एक प्रोफेसर है, जो सिविल लाइन क्षेत्र का रहने वाला बताया गया। शशांक द्विवेदी ने सिविल लाइन इंस्पेक्टर रत्नेश सिंह से संपर्क साधते हुए मामले की जानकारी दी और फिर खुद सिटी रेलवे स्टेशन के लिए रवाना हो गये। इस बीच उन्होंने प्रोफेसर से उनके फोन नंबर पर संपर्क किया और काउंसलिंग शुरू कर दी, साथ ही जीआरपी को भी अवगत करा दिया। प्रोफेसर बहुत परेशान दिख रहे थे। उन्होंने बताया कि उनकी पत्नी नाराज होकर चली गई है। वह काफी प्रयास कर चुके हैं लेकिन पत्नी घर नहीं आ रही है। कुछ ही देर में सदर बाजार एसओ सिटी रेलवे स्टेशन पहुंच गये। काफी प्रयास करने के बाद पुलिस को प्रोफेसर के नंबर की लोकेशन परतापुर मिली और पुलिस ने वहां संपर्क साधा।

प्रोफेसर ने कॉल रिसीव कर ली और अपनी गलती के लिए माफी मांगी। सिविल लाइन इंस्पेक्टर रत्नेश सिंह ने भी प्रोफेसर से बात की और काउंसलिंग करते हुए उनकी समस्या के समाधान का भरोसा दिलाया। पुलिस की सूझबूझ से एक व्यक्ति की जान बच गयी। बाद में प्रोफेसर ने लिखित में पुलिस से माफी मांगी और दोबारा ऐसी गलती न करने का भरोसा दिलाया।