ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशसरकार ने मान ली अपनी नाकामी... पुलिस भर्ती परीक्षा रद होने पर बोले अखिलेश यादव

सरकार ने मान ली अपनी नाकामी... पुलिस भर्ती परीक्षा रद होने पर बोले अखिलेश यादव

योगी सरकार ने पेपर लीक के आरोपों को मानते हुए शनिवार को यूपी पुलिस भर्ती परीक्षा रद करने का ऐलान कर दिया। इसे लेकर सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने सरकार पर हमला बोला है। कहा कि सरकार ने अपनी नाकामी मान ली।

सरकार ने मान ली अपनी नाकामी... पुलिस भर्ती परीक्षा रद होने पर बोले अखिलेश यादव
Yogesh Yadavलाइव हिन्दुस्तान,लखनऊSat, 24 Feb 2024 06:15 PM
ऐप पर पढ़ें

यूपी पुलिस भर्ती परीक्षा रद होने पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर हमला किया है। अखिलेश ने कहा कि परीक्षा रद कर सरकार ने अपनी नाकामी मान ली है। पेपर सरकार की नाकामी के कारण लीक हुआ था। जब पहले ही दिन पेपर लीक का पता चल गया फिर भी दूसरे दिन कोई सख्ती नहीं की गई। अखिलेश ने कहा कि सरकार की नीयत ही साफ नहीं थी। अखिलेश ने कहा कि परीक्षा का निरस्त होना युवाओं की जीत है और भाजपा सरकार के प्रपंचों की हार। पहले तो भाजपाई कह रहे थे पेपर लीक ही नहीं हुए तो अब कैसे मान लिया। इसका मतलब अधिकारी और अपराधी मिले हुए थे और सरकार भी पीछे से अपना हाथ उनके सिर पर रखे हुई थी। लेकिन तमाम सबूतों के आगे चुनाव में ऐतिहासिक हार से बचने के लिए सरकार झुकने पर मजबूर हुई है। 

अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा सरकार नौकरियों के नाम पर जो खेल बेरोज़गार युवक-युवतियों से खेल रही है, उसका सच अब सब समझने लगे हैं। दिखावे के लिए नौकरियाँ निकालना, अरबों रुपये की फीस ले लेना, पेपर लीक होने देना फिर निरस्त करने का नाटक करना… ये खेल भाजपा को इस बार बहुत महंगा पड़ेगा। इस बार युवाओं ने ठान लिया है कि न बहकावे में आएंगे न किसी भाजपाई झांसे में। युवा अगले हर चुनाव में भाजपा को बुरी तरह हराएंगे और हमेशा के लिए हटाएंगे। 

अखिलेश ने कहा कि युवा कह रहे हैं कि फीस के नाम पर जो पैसा लिया गया है कहीं वो भाजपा का चुनावी फंड न बन जाए, इसीलिए अभ्यर्थियों का फार्म ज़मा रहे लेकिन भाजपा सरकार फीस का पैसा अभी लौटाए और जब कभी दुबारा परीक्षा हो तो ऑनलाइन डिजिटल पेमेंट से तुरंत फिर से फीस ले ले।

पेपर लीक ही नहीं जांच के नाम पर भी खेल
अखिलेश ने कहा कि लीक का खेल चल रहा है। सरकार नहीं चाहती कि गरीब परिवार का लड़का नौकरी पाए। लगातार सरकार लोगों को नौकरी से वंचित कर रही है। पुलिस भर्ती में 60 लाख के करीब छात्रों ने परीक्षा दी थी। पेपर लीक होते ही परीक्षा रद कराने के लिए हर शहर में विरोध शुरू हो गया। जो लोग दावा कर रहे थे कि इतनी बड़ी परीक्षा होने जा रही है, कितना बड़ा इंतजाम है। सबकुछ फेल हुआ है। जांच के नाम पर खेल हुआ है। किससे जांच करानी है यह भी खेल है। जो सरकार जीरो टॉलरेंस की बात कर रही है वह जांच के नाम पर भी भ्रष्टाचार का खेल कर रही है। पेपर लीक होने पर जीरो टॉलरेंस ही जीरो हो गया है। 

गरीब बच्चों के साथ अन्याय कर रही सरकार
अखिलेश ने कहा कि सेंट्रल की भर्तियों में भी खेल हो रहा है। हर साल पैरा मिलिट्री की भर्ती होती रहती थी, लेकिन नहीं हो रही है। अग्निवीर की भर्ती मजबूरी में युवा स्वीकार रहा है। अग्निवीर जानबूझकर लाई गई है। पूरा डेटा देखा गया, जब पता चला कि सेना में गांव के ही लड़के जाते हैं तो इस तरह की योजना लाई गई। यह गरीब और किसानों के बेटों के लिए अन्याय है। 

गौरतलब है कि 17 और 18 फरवरी को चार शिफ्टों में पुलिस भर्ती परीक्षा का आयोजन किया था। 60 हजार पदों के लिए 50 लाख युवाओं ने फार्म भरा था। 48 लाख युवक परीक्षा में शामिल हुए थे। दोनों दिन शाम वाली शिफ्ट के पेपर कई घंटे पहले वायरल हो गए थे। इसे लेकर युवाओं ने मोर्चा खोल दिया था। पेपर को रद करने की मांग करते हुए प्रयागराज से लखनऊ तक धरना प्रदर्शन चल रहा था।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें