ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशयूपी से नाता गहरा करने में जुटे मोदी व राहुल, काशी और रायबरेली से भेजा संदेश

यूपी से नाता गहरा करने में जुटे मोदी व राहुल, काशी और रायबरेली से भेजा संदेश

पीएम नरेंद्र मोदी व राहुल गांधी दोनों यूपी को साधने में जुटे हैं। दोनों यूपी से नाता और गहरा करने में जुटे हैं। इसके लिए पीएम मोदी ने वाराणसी आकर और राहुल गांधी ने रायबरेली सीट रखकर संदेश दिया।

यूपी से नाता गहरा करने में जुटे मोदी व राहुल, काशी और रायबरेली से भेजा संदेश
narendra modi rahul gandhi
Srishti Kunjहिन्दुस्तान टीम,लखनऊWed, 19 Jun 2024 07:04 AM
ऐप पर पढ़ें

उत्तर प्रदेश को अब नए सिरे से साधने की कोशिश एनडीए और इंडिया गठबंधन दोनों ओर से होती दिखने लगी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने काशी को अपना बता कर पूरे यूपी से नाता और गहरा करने का संदेश दिया है तो कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने रायबरेली की सीट से सांसद बने रहने का निर्णय लेकर यूपी पर ही फोकस करने का इरादा जाहिर कर दिया। अब यूपी ही भाजपा बनाम कांग्रेस सपा के बीच मुख्य सियासी जंग का गवाह बनेगा। अब इन सबकी नजर तीन साल बाद यूपी विधानसभा चुनाव पर है। यहां का किला भाजपा को बचाने की चिंता है तो सपा कांग्रेस को जीतने की।  

लोकसभा चुनाव के नतीजों ने एक बार यूपी की सियासी अहमियत को जगजाहिर कर दिया है। दो बार से भाजपा को पूर्ण बहुमत के साथ सत्ता में बिठाने में यूपी ने अहम भूमिका निभाई थी, पर इस बार भाजपा को पूर्ण बहुमत पाने की मुहिम पर ब्रेक यूपी से ही लग गया। इसी राज्य से भारतीय जनता पार्टी को जो नुकसान हुआ उसी वजह से सरकार इस बार भाजपा को  एनडीए के सहारे सरकार चलानी पड़ रही है। भारतीय जनता पार्टी ने इस सीटों में गिरावट को भविष्य के लिए खतरा समझते हुए अभी से सक्रिय हो गई है। 

योगी सरकार का बड़ा कदम, फाइनेंस कंपनी से 30 हजार करोड़ वसूलकर वापस कराएगी डूबी रकम

हार के कारणों की समीक्षा के बीच पार्टी के शीर्ष नेता व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को जब अपनी काशी में कदम रखा तो उन्होंने साफ संदेश कि वह वाराणसी को कतई भूलने वाले नहीं हैं बल्कि और शिद्दत से काशी से अपना नाता जोड़े रहेंगे। यहां से लगातार तीसरी बार सांसद बने मोदी तीसरी बार प्रधानमंत्री भी बने हैं। वाराणसी से अपने लगाव को जाहिर कर प्रधानमंत्री ने कहा कि‘ मां गंगा ने मुझे गोद ले लिया है और अब मैं आपका हो गया हूं, यहीं का हो गया हूं।  मैं आपका ऋणी हो गया हूं।  काशी के लोगों ने मुझे लगातार तीसरी बार चुनकर धन्य कर दिया है।’ इसके जरिए मोदी ने यूपी से जुड़ाव का संकेत दिया है और राहुल की सियासत को जवाब भी। यानी वह (मोदी) न यूपी को छोड़ने वाले हैं और न भूलने वाले। 

असल में यूपी में छह सीट जीत कर खासे उत्साहित राहुल गांधी यूपी की जनता के चुनावी निर्णय की खासी तारीफ कर चुके हैं। रायबरेली व वायनाड दो लोकसभा सीटों को जीतने के बाद रणनीति के तहत उन्होंने रायबरेली सीट रखने का निर्णय लिया। इस तरह उन्होंने गांधी परिवार की यूपी में बनी जड़ों को आगे बरकरार रखने की कोशिश की है। कांग्रेस अब सपा के साथ गठबंधन को और मजबूती के साथ आगे बढ़ाना चाहती है क्योंकि इसी गठबंधन ने जहां 43 सीटें जीतीं वहीं भाजपा के विजय रथ को यूपी में रोक दिया।