ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशवाराणसी के रोडशो में उमड़ी भीड़ से पीएम मोदी गदगद, बताया तीसरे कार्यकाल में क्या करना है 

वाराणसी के रोडशो में उमड़ी भीड़ से पीएम मोदी गदगद, बताया तीसरे कार्यकाल में क्या करना है 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वाराणसी ने नामांकन दाखिल करने से पहले सोमवार की शाम रोड शो किया। इस दौरान उमड़ी भीड़ से पीएम मोदी गदगद नजर आए। अपनी भावनाओं को पीएम मोदी ने सोशल मीडिया पर व्यक्त किया है।

वाराणसी के रोडशो में उमड़ी भीड़ से पीएम मोदी गदगद, बताया तीसरे कार्यकाल में क्या करना है 
Yogesh Yadavलाइव हिन्दुस्तान,वाराणसीMon, 13 May 2024 11:45 PM
ऐप पर पढ़ें

लोकसभा चुनाव के लिए वाराणसी से तीसरी बार नामांकन दाखिल करने से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार की शाम अपने संसदीय क्षेत्र में रोड शो और काशी विश्वनाथ मंदिर में दर्शन पूजन किया। रोड शो में उमड़ी भीड़ से पीएम मोदी गदगद नजर आए। लंका से काशी विश्वनाथ मंदिर तक की छह किलोमीटर की दूरी करीब ढाई घंटे में पूरी करने के बाद सोशल मीडिया प्लेटफार्म एक्स पर रोड शो की तस्वीरें साझा करते हुए अपनी भावनाओं को व्यक्त किया। काशीवासियों का वंदन करने के साथ बताया कि तीसरे कार्यकाल में क्या करना है। इसके साथ ही कांग्रेस और इंडिया गठबंधन पर भी निशाना साधा। कहा कि इन लोगों ने आस्था की नगरी की लगातार उपेक्षा की है। पीएम मोदी मंगलवार को अपना नामांकन दाखिल करेंगे। इससे पहले अस्सी घाट पर गंगा स्नान और काल भैरव मंदिर में दर्शन करेंगे।

पीएम मोदी ने एक्स पर अपनी पहली पोस्ट में रोड शो की चार तस्वीरों के साथ लिखा कि बाबा विश्वनाथ की नगरी की देवतुल्य जनता-जनार्दन का नमन और वंदन! आज मेरा रोम-रोम काशी के कण-कण का अभिनंदन कर रहा है। रोड शो में आप सबसे जो अपनत्व और आशीर्वाद मिला है, वो अकल्पनीय और अतुलनीय है। मैं अभिभूत और भावविभोर हूं! आपके स्नेह की छांव में 10 वर्ष कैसे बीत गए, पता ही नहीं चला। तब मैंने कहा था कि मां गंगा ने मुझे बुलाया है। आज मां गंगा ने मुझे गोद ले लिया है।

पीएम मोदी ने कहा कि मुझे जब-जब काशी आने का सौभाग्य मिला, हर बार आपने पलक-पांवड़े बिछाए हैं। इस बार यहां के बच्चों से बुजुर्गों तक और नारीशक्ति से मेरे युवा साथियों तक, सभी ने बढ़-चढ़कर जो भागीदारी की है, वह सदा के लिए मेरे हृदय-पटल पर अंकित रहेगी। अपनेपन की यह प्रगाढ़ भावना मुझे अपनी काशी और यहां के परिवारजनों की ज्यादा से ज्यादा सेवा के लिए असीम ऊर्जा प्रदान करेगी।

कहा कि बीते 10 वर्षों में आप सभी के सहयोग और सहभागिता से काशी के कायाकल्प में मैंने कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी है। आज बाबा विश्वनाथ धाम कॉरिडोर देश की गरिमा के अनुरूप काशी की पहचान की भव्य-दिव्य झांकी बना है। हमने एक दशक में रेल, रोड और एयर नेटवर्क का विस्तार हो या अंतर्देशीय जलमार्ग प्राधिकरण, शिक्षा-स्वास्थ्य और स्वच्छता से लेकर इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट तक कई अभूतपूर्व काम किए हैं। 10 साल में काशी में सड़कों और सेतुओं का जाल बिछा है। वंदे भारत, जन शताब्दी और बनारस-कन्याकुमारी तमिल संगमम एक्सप्रेस सहित कई नई ट्रेनों के साथ ही रेलवे का आधुनिकीकरण और सौंदर्यीकरण हुआ है

पीएम मोदी ने कहा कि हमने हर क्षेत्र में वाराणसी के विकास को सर्वोच्च प्राथमिकता में रखा है। बनास काशी संकुल के जरिए हमारे किसान भाई-बहनों की आय बढ़ी है, वहीं नारीशक्ति के सपने भी हकीकत में बदले हैं। पर्यटन से जुड़ी अनेक सुविधाओं के विकास और विस्तार से युवाओं के लिए रोजगार के नित-नए अवसर बन रहे हैं। गंगा के घाट स्वच्छता और सुंदरता की मिसाल बने हैं। इसके अलावा क्रूज बोट के परिचालन, रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर, काशी-तमिल संगमम और आध्यात्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने से आज काशी में रिकॉर्ड संख्या में श्रद्धालु आ रहे हैं।

विपक्ष पर निशाना साधते हुए पीएम मोदी ने कहा कि कांग्रेस और इंडी गंठबंधन के दौर में अध्यात्म और आस्था की यह नगरी हमेशा उपेक्षा की शिकार रही थी, लेकिन हम दिव्य-भव्य काशी के संकल्प को लेकर रात-दिन काम कर रहे हैं। मेरे हृदय में बसे अपने इस संसदीय क्षेत्र के लिए एनडीए सरकार के तीसरे कार्यकाल में मुझे और भी बहुत कुछ करना है।

अपने अंतिम पोस्ट में पीएम मोदी ने लिखा कि जनता-जनार्दन का सेवक होने के नाते मेरा यही प्रयास रहा है कि काशीवासियों का जीवन और आसान हो। मुझे विश्वास है कि विकसित उत्तर प्रदेश के साथ-साथ विकसित भारत के संकल्प को पूरा करने में विकसित वाराणसी अपना अमूल्य योगदान देगी। बाबा विश्वनाथ के आशीर्वाद से मैं भी उनकी काशी की सेवा में सदैव समर्पित रहूंगा। जय बाबा विश्वनाथ!

‘हैटट्रिक’ को मोदी ने मांगा आशीष
बेशुमार समर्थकों और कार्यकर्ताओं का असीम उत्साह, उमंग और जोश-ये तीनों भाव काशी में घनीभूत हुए, फिर स्नेह के मेघ बनकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर बरस पड़े। उस स्नेह-वर्षा से तन ही नहीं, मन भी भीगा। मौका था रोड शो का। मोदी वाराणसी संसदीय सीट से तीसरी बार नामांकन करने सोमवार तीसरे पहर काशी पहुंचे। इसके पहले उन्होंने रोड शो किया, बीएचयू के सिंहद्वार से काशी विश्वनाथ धाम तक। 

छह किमी की दूरी तक चला रोडशो लगभग ढाई घंटे में पूरा हुआ। शुरुआत शाम 5.06 बजे हुई जब प्रधानमंत्री ने महामना मालवीय की प्रतिमा पर माल्यार्पण के बाद जनता-जनार्दन का अभिवादन किया। फिर ‘हर-हर महादेव’ के घोष के बीच मोदी रोडशो के लिए खासतौर पर बने एक वाहन पर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष चौधरी भूपेन्द्र सिंह के साथ सवार हुए।

वाहन के आगे-आगे भगवा वेशधारी दो सौ से अधिक महिलाएं चल रही थीं जबकि मार्ग के दोनों ओर के मकानों-भवनों, प्रतिष्ठानों के सामने और उनके झरोखों-छतों पर असंख्य लोग जमा थे। पूरा मार्ग वंदनवार, गजरे की मालाओं और झंडियों से सजा था। चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम थे। रूफटॉप सिक्योरिटी के साथ ड्रोन कैमरों से भी रोडशो पर नजर रखी जा रही थी।

लघु भारत का झलका प्रतिबिंब
काशी के ‘लघु भारत’ का प्रतिबिंब रोड शो के दौरान नुमाया हुआ। कहीं जैन समाज तो कहीं बंगीय और दक्षिण भारतीय समाज, कहीं गुजराती, मारवाड़ी तो मराठी समाज, कहीं संस्कृत के बटुक-आचार्य प्रधानमंत्री के स्वागत और अभिनंदन को उत्सुक-लालायित थे। जगह-जगह विभिन्न प्रांतों के लोकनृत्य करते कलाकार लघु भारत की छवि को चटख बना रहे थे। 

गौरतलब नजारा मदनपुरा का था। मुस्लिम बाहुल्य तीन सौ मीटर लंबे क्षेत्र में भी दूसरे क्षेत्रों से कमतर उत्साह नहीं दिखा। मोहल्ला भाजपाई झंडों एवं उस रंग के गुब्बारों से सजा था। इस समाज के मानिंदों ने आगे बढ़कर न सिर्फ खैरमकदम किया बल्कि नरेन्द्र मोदी को पगड़ी से भी नवाजा। 

रोड शो घोषित समय, अपराह्न चार बजे से एक घंटा लेट शुरू हुआ। भाजपा के कार्यकर्ता, मोदी के प्रशंसक एवं समर्थक चार बजते-बजते रोड के दोनों ओर जगह-जगह जमा हो चुके थे। उनके उत्साह ने जताया कि उनका सुबह से संकल्पित मन दिन को शाम में करवट लेते देखने के लिए कितना बेसब्र रहा होगा। रोड शो के रूट पर दोनों ओर व्यापारी-कारोबारी, दुकानदार और पटरी-ठेला विक्रेता-सभी मोदी के स्वागत के लिए सन्नद्ध  थे। वे गुलाब की पंखुड़ियों के रूप में प्यार बरसा रहे थे। 

देश के सुमंगल को बाबा को पूजा
शंख एवं डमरु नाद के साथ ‘मोदी-मोदी’ का जो सामूहिक स्वर लंका चौराहा से उठा, वह अस्सी, शिवाला, सोनारपुरा, मदनपुरा, जंगमबाड़ी, गोदौलिया, बांसफाटक होता हुआ काशी विश्वनाथ धाम के गेट नंबर चार तक तुमुल नाद में बदल गया था। षोडशोपचार पूजन के लिए नरेन्द्र मोदी विश्वनाथ धाम में 7.32 बजे दाखिल हुए। पूजन के बाद उन्होंने बाबा से आशीर्वाद मांगा, अपने संसदीय क्षेत्र के साथ देश के जन-जन के सुमंगल के लिए।  

मां गंगा और कालभैरव से आशीर्वाद ले भरेंगे पर्चा
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी मंगलवार सुबह मां गंगा और काशी के कोतवाल बाबा कालभैरव का दर्शन-पूजन करेंगे। इसके बाद वह नामांकन करने कलक्ट्रेट जाएंगे। इस दौरान रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ के अलावा देश के 12 राज्यों के सीएम, भाजपा के कई पदाधिकारी एवं जनप्रतिनिधि भी मौजूद रहेंगे।