ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशअकीदत से मनाई ईद मुल्क में अमन चैन की हुई दुआ

अकीदत से मनाई ईद मुल्क में अमन चैन की हुई दुआ

तपती गर्मी में 15 से 16 घंटे तक रोजे में 29 दिन अल्लाह की इबादत करने वाले मुसलमानों को बुधवार को अल्लाह ने अपने तोहफे ईद उल फितर से नवाजा। चांद रात पर रात भर खरीदारी करने के बाद भी लोगों के चेहरे पर...

अकीदत से मनाई ईद मुल्क में अमन चैन की हुई दुआ
eid
लखनऊ। कार्यालय संवाददाताWed, 05 Jun 2019 04:37 PM
ऐप पर पढ़ें

तपती गर्मी में 15 से 16 घंटे तक रोजे में 29 दिन अल्लाह की इबादत करने वाले मुसलमानों को बुधवार को अल्लाह ने अपने तोहफे ईद उल फितर से नवाजा। चांद रात पर रात भर खरीदारी करने के बाद भी लोगों के चेहरे पर सुबह नमाज़ के वक्त जरा भी थकन नहीं थी। सुबह 6.30 बजे से ईद की नमाजों का सिलसिला शुरू हो गया। हालांकि ईद की सबसे बड़ी नमाज ऐशबाग ईदगाह में मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली, आसिफी मस्जिद पर मौलाना कल्बे जवाद और टीले वाली मस्जिद पर मौलाना फजलुल मन्नान ने अदा कराई। तेज़ गर्मी होने के बाद भी हज़ारों की संख्या में लोगों ने नमाज़ अदा की और गले लग कर एक दूसरे को ईद की बधाई दी। वहीं, राज्यपाल रामनाईक ने ईदगाह और आसिफी मस्जिद पहुच कर लोगों को ईद की बधाई दी।

ऐशबाग ईदगाह में सुबह 10 बजे ईद की नमाज से पहले मौलाना खालिद रशीद ने कहा कि ईद मुसलमानों को अल्लाह की तरफ से इनाम है। उन्होंने कहा कि ईद का नाम ही है कि एक दूसरे से गले मिलकर अपने गीले शिकवे भूला दे। ईद हमे इंसानियत का पैगाम देती है। ईद में किसी भी मजहब के इंसान हो लेकिन हम गले मिल कर ही ईद की मुबारकबाद देते है। नमाज के बाद मुल्क में अमन चैन की दुआ की गई। वहीं, बड़े इमामबाड़े में मौलाना कल्बे जव्वाद ने कहा कि ईद के दिन इन्सान को अपने सभी गिले शिकवे बुला देना चाहिए। साथ माहे मुबारक में तकवा और परहेजगारी का जो सबक हमने हासिल किया है। पूरे साल उस पर ही जिंदगी गुजरना चाहिए।

जिस तरह पूरे महीने हमने गरीबो और ज़रूरतमंदों की मदद की वैसे ही आगे भी करते है। ताकि वो भी समाज ने बेहतर जिंदगी जी सके। टीले वाली मस्जिद में मौलाना फजलुल मन्नान ने लोगों को ईद की नमाज अदा कराई। नमाज के बाद लोगों ने देश मे अमन व शांति के लिए दुआ की और एक दूसरे को गले लगाकर ईद की मुबारकबाद दी। वहीं, ईद के मौके पर लोग एक दूसरे के घर गए। जहां सेवई के मजे के साथ देर रात तक मुबारकबाद का सिलसिला चलता रहा। वहीं सबसे ज़्यादा ईद का मजा  बच्चों ने लिया जिनको सेवई के मजे के साथ ईदी भी मिली।