ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश600 रुपये के लिए हत्यारे बने मां-बाप, धारदार हथियार से वार कर बेटी को मौत के घाट उतारा

600 रुपये के लिए हत्यारे बने मां-बाप, धारदार हथियार से वार कर बेटी को मौत के घाट उतारा

शाहजहांपुर में एक शख्स ने 600 रुपये के लिए अपनी बेटी की हत्या कर दी। वहीं मां, मूकदर्शक बनी रही। वहीं, सूचना मिलने पर पुलिस ने मां-बाप ने को गिरफ्तार कर लिया। साथ ही शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

600 रुपये के लिए हत्यारे बने मां-बाप, धारदार हथियार से वार कर बेटी को मौत के घाट उतारा
Pawan Kumar Sharmaहिन्दुस्तान,शाहजहांपुरSun, 16 Jun 2024 05:54 PM
ऐप पर पढ़ें

यूपी के शाहजहांपुर से एक सनसनीखेज मामला सामने आया है। जहां चंद रुपयों के लिए पिता ने अपनी बेटी की हत्या कर दी। वहीं, मां मूकदर्शक बनी रही। दरअसल, पिता ने बेटी से छह सौ रुपये मांगे थे, लेकिन बेटी ने इनकार कर दिया। इससे पिता नाराज था। उधर, सूचना मिलने पर पुलिस ने हत्यारोपी पिता और मां को गिरफ्तार कर लिया। साथ ही शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। पुलिस ने बताया कि हत्यारे संजय गुप्ता उर्फ लड्डू शातिर अपराधी है। उस पर 16 मुकदमे दर्ज हैं।

शाहजहांपुर के भारद्वाजी मोहल्ले में संजय गुप्ता उर्फ लड्डू मकान की ऊपरी मंजिल पर बने कमरे में पत्नी वंदना, बेटे पवन, बेटी पूर्ति और नातिन जान्हवी के साथ रहता था। संजय की बेटी पूर्ति ने बिसरात के रहने वाले कमल राजपूत के साथ 2022 में लव मैरिज की थी, लेकिन जल्द ही दोनों में अनबन हो गई थी। इस वजह से पूर्ति डेढ़ साल की बेटी के साथ मायके में आकर रहने लगी थी। घर में कमाई का कोई जरिया नहीं था।

संजय का बेटा पवन ही नौकरी कर परिवार का पालन पोषण कर रहा था। मां वंदना ने पुलिस को बताया कि 13 जून को वह और बेटी पूर्ति गुप्ता घर के खर्चे के लिए सोने की अंगूठी बेचने गईं थीं। इससे जो रुपये मिले उससे घर का सामान खरीदा और बाकी रुपये लेकर घर आ गईं। पिता संजय गुप्ता ने बेटी से 600 रुपये रुपये मांगे , लेकिन पूर्ति ने मना कर दिया। जिससे वह नाराज होकर खौफनाक कदम उठा लिया। 

नामी गुंडा रहा है आरोपी खीरी में भी दर्ज है केस

बेटी का हत्यारोपी संजय गुप्ता उर्फ लड्डू नामी गुंडा रहा। पुलिस ने जब उसकी हिस्टी निकाली तो उस पर अब तक 16 मुकदमे दर्ज थे, जिसमें अवैध शराब, अवैध तमंचा, चोरी, मारपीट, गुंडा एक्ट शामिल था। संजय पर खीरी में भी केस दर्ज है। 13 जून की रात में पूर्ति गुप्ता ने माइक्रोनी बनाई थी। उसने पिता को माइक्रोनी खाने को नहीं दी। इस बात से पिता संजय गुप्ता का गुस्सा और बढ़ गया, जब सब खाना खाकर सो गए तब करीब सवा बारह बजे पिता ने खुखरी से पूर्ति के गर्दन पर वार कर उसे मार डाला।

Advertisement