ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशशिवपाल के खिलाफ राजभर के बेटे अरुण ने संभाला मोर्चा, अखिलेश को आगे करके हमला बोल दिया

शिवपाल के खिलाफ राजभर के बेटे अरुण ने संभाला मोर्चा, अखिलेश को आगे करके हमला बोल दिया

यूपी में वार-पलटवार के बीच ही सुभासपा प्रमुख ओपी राजभर के बेटे अरुण राजभर ने मोर्चा संभाल लिया है। अरुण ने अखिलेश को आगे करते हुए शिवपाल यादव की दुखती रग पर हाथ रख दिया है। पुरानी चिट्ठी से हमला किया।

शिवपाल के खिलाफ राजभर के बेटे अरुण ने संभाला मोर्चा, अखिलेश को आगे करके हमला बोल दिया
Yogesh Yadavलाइव हिन्दुस्तान,लखनऊTue, 04 Jul 2023 08:47 PM
ऐप पर पढ़ें

महाराष्ट्र में सियासी उथलपुथल के बाद यूपी में भी तमाम तरह की अटकलें लगाई जा रही हैं। इसे लेकर तरह तरह के दावें किए जा रहे हैं। वार पलटवार तेज हो गया है। वार-पलटवार के बीच ही सुभासपा प्रमुख ओपी राजभर के बेटे अरुण राजभर ने मोर्चा संभाल लिया है। अरुण ने अखिलेश को आगे करते हुए शिवपाल यादव की दुखती रग पर हाथ रख दिया है। सपा प्रमुख अखिलेश यादव की पुरानी चिट्ठी वायरल करते हुए निशाना साधा है। 

सुभासपा प्रमुख ओपी राजभर ने सोमवार को शिवपाल यादव के बीजेपी में शामिल होने का दावा किया था। इस पर शिवपाल ने मंगलवार की सुबह राजभर पर हमला किया। शिवपाल ने कहा कि राजभर कभी भी बीजेपी से अलग नहीं हुए। चुनाव आते ही दुकान सजाने लगते हैं। 

शिवपाल के इसे हमले का जवाब ओपी राजभर के बेटे अरुण राजभर ने दिया है। कहा, शिवपाल यादव अपना एक PSPL नाम की दुकान खोलकर बैठे थे। चल नहीं पाया तो बंद कर दिए। खुद वजूद अपना मिटाकर जहां से जलील हुए वही चले गए।

अरुण ने ट्विटर पर अखिलेश यादव की पुरानी चिट्ठी पोस्ट करते हुए शिवपाल को निशाने पर लिया है। अरुण ने लिखा कि चाचा शिवपाल यादव इतने ताकतवर थे कि अपनी एक पार्टी बनाई और अपनी ताकत देख ली। जिस भतीजे ने जलील और अपमानित किया। धक्का मारकर भगाया। अपनी ताकत खत्म देख फिर से सपा के साथ चले गए।

कहा कि जिस उम्मीद और लालच में चाचा गए थे, वह नहीं मिला। एक भी PSPL के पदाधिकारी को वहां सम्मान नहीं मिला। जो अपना सम्मान नहीं पा रहा वह सुभासपा प्रमुख को हल्का बता रहा है। चाचा अब बहुत हल्के हो चुके हैं। यह भी कहा कि ओपी राजभर की अपना खुद का वजूद और हैसियत है।

एक अन्य ट्वीट में लिखा कि जब तक चाचा शिवपाल सपा में नहीं शामिल हुए थे सपाई इनको भाजपा का बी टीम ही मानते थे। सम्मान दूसरी जगह दिलाने के लिए चिट्ठी लिखते थे। इस सम्मान को लेने गये लेकिन आज तक वह सम्मान नहीं मिल पाया, न मिलेगा।
  
शिवपाल ने क्या कहा था
एक निजी चैनल से बात करते हुए शिवपाल यादव ने कहा कि ओपी राजभर जहूराबाद से विधायक नहीं बन पाएंगे। 2024 में पूरा विपक्ष साथ आएगा। मिलकर चुनाव लड़ेगा। कहा कि ओमप्रकाश राजभर कभी बीजेपी से अलग नहीं थे। हमेशा बोलते रहते हैं। जब भी चुनाव आते हैं तो उनकी दुकान चलना शुरू हो जाती है। शिवपाल ने कहा कि वह जहां से चुनाव लड़ते हैं। वहां एक बार मुझे जाना पड़ेगा। एक दौरा केवल करना पड़ेगा। इसके बाद उन्‍हें दूसरा क्षेत्र ढूंढना पड़ेगा। 

राजभर ने भी दिया जवाब
शिवपाल के हमले का ओपी राजभर ने भी जवाब दिया है। ओपी राजभर ने कहा कि शिवपाल पूर्वांचल की किसी सीट से आकर लड़ लें। उन्होंने शिवपाल को चुनौती देते गाजीपुर, मऊ, बलिया की कई सीटों का नाम गिनाते हुए कहा कि पूरा परिवार यहां की किसी भी सीट से जीत कर दिखा दे।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें