ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशयूपी में हुए हादसों में घायलों की सिर्फ 10 लोगों ने की मदद, वीडियो बनाने वाले हजार

यूपी में हुए हादसों में घायलों की सिर्फ 10 लोगों ने की मदद, वीडियो बनाने वाले हजार

यूपी में बीते जनवरी से दिसंबर 2023 के दौरान हुए हादसों में घायलों की सिर्फ 10 लोगों ने ही मदद की। यह नेक इंसान प्रदेश के मात्र आठ जिलों से है। बाकी लखनऊ समेत 67 जिलों में मददगार की तलाश है।

यूपी में हुए हादसों में घायलों की सिर्फ 10 लोगों ने की मदद, वीडियो बनाने वाले हजार
Deep Pandeyहिन्दुस्तान,लखनऊFri, 01 Mar 2024 01:08 PM
ऐप पर पढ़ें

सड़क हादसों में घायलों की मदद करने वाले मददगार ढूंढे नहीं मिल रहे है। बल्कि हादसे के बाद वीडियो बनाने वालों की संख्या हजारों लोगों की है। यही वजह है कि बीते जनवरी से दिसंबर 2023 के दौरान सड़क हादसों में घायलों को मदद पहुंचाने वाले सिर्फ 10 गुड सेमेरिटन यानी नेक इंसान मिले है। यह नेक इंसान प्रदेश के मात्र आठ जिलों से है। बाकी लखनऊ समेत 67 जिलों में मददगार की तलाश है। ताकि किसी हादसे में घायलों को गोल्डन ऑवर में मदद पहुंचाकर मृतकों की संख्या को कम किया जा सके।

परिवहन विभाग के लिए गुड सेमेरिटन का नहीं मिलना चिंता का विषय बन गया है। स्थिति यह है कि प्रदेश के 75 जिलों में मात्र आठ जनपदों में 10 लोग गुड सेमेरिटन की लिस्ट में है। इनमें कानपुर, हापुड़, शामली, मुरादाबाद, सहारनपुर, इटावा, उरई व चित्रकूट शामिल हैं। बाकी 67 जिलों में गुड सेमेरिटन ढूंढे नहीं मिल रहे है। इसके लिए प्रदेश उन आरटीओ-एआरटीओ को दिशा निर्देश भेजे गए हैं। जहां गुड सेमेरिटन नहीं है। ऐसे गुड सेमेरिटन की संख्या बढ़ाने के लिए जागरूकता अभियान चलाया जाएगा। 

इन्होंने घायलों की मदद की, मिला इनाम
प्रदेश के आठ जनपदों में 10 नेक इंकान मिल है। इन्होंने सड़क हादसे में घायलों की मदद की है। इनमें कानपुर देहात के आनन्द राय कुरील, हापुड़ के मो. दानिश कुरैशी, शामली के संजय राणा, मुरादाबाद के घनश्याम और राजबाज, सहारनपुर के महेश कुमार सक्सेना, इटावा के जनमोहन, उरई के अब्दुल अलीम खां और ममता स्वर्णकार व  चित्रकूट के शिवाकांत पांडेय को पांच हजार रुपये ईमान देने के साथ सम्मानित किया गया। 

घायलों के मददगार कम 
यह बात सही है कि सड़क हादसों में घायलों की मददगार कम है। जबकि मददगार के लिए सरकार योजना लेकर आई। योजना के तहत हर मददगार को पांच हजार रुपये दिए जाएंगे। आम लोगों में जागरूकता फैलाकर नेक इंसान तैयार करेंगे। ताकि हादसों में घायल लोगों को मौत से बचाया जा सके। 
पुष्पसेन सत्यार्थी, अपर परिवहन आयुक्त रोड सेफ्टी
परिवहन आयुक्त मुख्यालय, लखनऊ 
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें