ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेशबांदा जेल में अब हर माह बदलेंगे मुख्तार की सुरक्षा के वार्डर,आठ-आठ घंटे तीन शिफ्ट में 11-11 वार्डर की होती तैनाती

बांदा जेल में अब हर माह बदलेंगे मुख्तार की सुरक्षा के वार्डर,आठ-आठ घंटे तीन शिफ्ट में 11-11 वार्डर की होती तैनाती

बांदा मंडल कारागार में बंद पूर्वांचल माफिया और पूर्व विधायक मुख्तार अंसारी की सुरक्षा-व्यवस्था में बदलवा किया गया है। अब हर माह जेल वार्डर बदलेंगे जाएंगे, जोकि अलग-अलग जेलों से होंगे।

बांदा जेल में अब हर माह बदलेंगे मुख्तार की सुरक्षा के वार्डर,आठ-आठ घंटे तीन शिफ्ट में 11-11 वार्डर की होती तैनाती
Rishiबांदा। वरिष्ठ संवाददाताThu, 23 Jun 2022 08:20 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/

बांदा मंडल कारागार में बंद पूर्वांचल माफिया और पूर्व विधायक मुख्तार अंसारी की सुरक्षा-व्यवस्था में बदलवा किया गया है। अब हर माह जेल वार्डर बदलेंगे जाएंगे, जोकि अलग-अलग जेलों से होंगे। आठ-आठ घंटे की तीन शिफ्ट में कुल 11 वार्डर सुरक्षा-व्यवस्था में लगाए जाते हैं। 
प्रभारी जेल अधीक्षक वीरेंद्र कुमार वर्मा ने बताया कि मुख्तार की सुरक्षा-व्यवस्था के लिए पहले उन्नाव, प्रयागराज के नैनी और कानपुर से जेल वार्डर अल्टरनेट भेजे जाते थे। वीते दिनों हुई घटनाओं को दृष्टिगत रखते हुए आलाधिकारियों ने बदलाव किया है। अब प्रदेशभर की जेल से वार्डर भेजे जाएंगे। बताया कि जैसे एक माह सहारनपुर से 12 जेल वार्डर भेजे जाएंगे तो दूसरे माह बरेली से भेजे गए जेल वार्डर की तैनाती होगी। हर माह अलग-अलग जेल से 12 वार्डर भेजे जाएंगे। बताया कि तीन शिफ्ट में ड्यूटी चार्ट बना है। एक शिफ्ट में 11 बार्डर मुख्तार की तन्हाई बैरक के बाहर सुरक्षा में तैनात किए जाते हैं। इनमें चार वार्डर दूसरी जेलों के रहते हैं, जोकि बैरक के पास लगाए जाते हैं। सात वार्डर बांदा जेल के होते हैं, जिनकी ड्यूटी बैरक के ईद-गिर्द रहती है। 
बरेली जेल से भेजे गए डिप्टी जेलर
प्रभारी जेल अधीक्षक ने बताया कि हर माह अलग-अलग जेल से 12 वार्डर भेजे जाएंगे। कुल 33 वार्डर की ड्यूटी का चार्ट 24 घंटे में बना है। इनमें 22 वार्डर बांदा जेल के रहते हैं। बताया कि बरेली जेल से डिप्टी जेलर दुर्गेश सिंह को भेजा गया है। मुख्तार अंसारी की सुरक्षा-व्यवस्था की जिम्मेदारी दुर्गेश सिंह की है। 
20 सीसीटीवी से होती बैरक की निगरानी
बताया कि पूरे जेल परिसर में कुल 48 सीसीटीवी कैमरे लगे हैं। इनमें 20 सीसीटीवी मुख्तार की तन्हाई बैरक पर निगरानी के लिए लगे हैं, जोकि सीधे लखनऊ स्थित कमांड ऑफिस से जुड़े हैं। वहां से भी सीसीटीवी के जरिए बैरक और मुख्तार पर निगरानी रखी जाती है।  

epaper