DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  कोरोना कंटेनमेंट जोन अब सिर्फ कागजों में, कहीं नहीं दिख रही पाबंदी 

उत्तर प्रदेशकोरोना कंटेनमेंट जोन अब सिर्फ कागजों में, कहीं नहीं दिख रही पाबंदी 

हिन्‍दुस्‍तान टीम ,गोरखपुर Published By: Ajay Singh
Tue, 18 Aug 2020 12:55 AM
कोरोना कंटेनमेंट जोन अब सिर्फ कागजों में, कहीं नहीं दिख रही पाबंदी 

गोरखपुर में थानावार पाबंदी हटने के बाद कंटेनमेंट जोन में लगी पाबंदी सोमवार को सिर्फ कागजों में ही दिखी। जो इलाके चिन्हित किए गए थे उनमें से अधिकतर जगहों पर न तो कोई पाबंदी दिखी और न ही बैरीकेडिंग। सभी सामान्य तरीके से अपना काम करते दिखे। जिलाधिकारी के. विजयेन्द्र ने सीएम के निर्देश पर पिछले दो महीने से चल रही थानावार पाबंदी सोमवार से खत्म कर दी और आदेश दिया कि अब कंटेनमेंट जोन के हिसाब से पाबंदी लगाई जाएगी। इसके लिए जिला प्रशासन की तरफ से रविवार को 343 कंटेनमेंट जोन की सूची जारी की गई थी। इसमें शहर के लगभग सभी मोहल्ले शामिल थे। हालांकि मोहल्लों का 100 मीटर हिस्सा ही कंटेनमेंट जोन बनाया गया है। 
   
नई व्यवस्था शुरू होने के बाद ‘हिन्दुस्तान’ ने जब उन क्षेत्रों की पड़ताल की तो पता चला कि कहीं भी कोई पाबंदी नहीं है। सबकुछ पूरी तरह से खुला हुआ है। न तो कहीं बैरीकेडिंग दिखी और न ही कहीं पुलिस। मौके से जब कंटेनमेंट जोन में तैनात कुछ प्रभारियों से बात की तो कुछ ने कहा कि शाम तक बैरीकेडिंग कराई जाएगी तो कुछ ने कहा कि अगले एक-दो दिन में बैरीकेडिंग करा दी जाएगी। पादरी बाजार के मानस विहार में बनाए गए प्रभारी ने बताया कि उन्हें जो जिम्मेदारी दी गई है उसे वह निभा रहे है। बैरीकेडिंग के सम्बंध में कहा कि 24 घंटे के अंदर सम्बंधित स्थान के 100 मीटर के दायरे में बैरीकेडिंग करा दी जाएगी। वहीं धर्मपुर में बने कंटेनमेंट जोन के प्रभारी ने बताया कि देर रात तक बैरीकेडिंग करा दी जाएगी।  

इस सम्बंध में डीएम के. विजयेन्द्र पाण्डियन ने कहा कि जहां कंटेनमेंट जोन बनाए गए हैं वहां 24 से 48 घंटे के अंदर बैरीकेडिंग कर दी जाएगी। जितने भी रास्ते होंगे उन्हें बंद कराया जाएगा। बताया कि ऐसे बहुत कम जगह हैं जहां एक ही मोहल्लों में अगल-बगल कंटेनमेंट जोन बने हों। ऐसे में मॉनीटरिंग में कोई असुविधा नहीं होगी। 

जिले को तीन हिस्से में बांटा गया
नई व्यवस्था लागू करने के लिए जिले को तीन हिस्से में बांटा गया है। इसमें एक नगर, दूसरा उत्तरी और तीसरा दक्षिणी जोन। इन तीनों क्षेत्रों के एक-एक वरिष्ठ अधिकारी को नामित किया गया है। अफसर रोजाना यहां की मॉनीटरिंग करेंगे। कोई कंटेनमेंट जोड़ने या पाबंदी हटाने के सम्बंध में जोन के सम्बंधित अफसर ही निर्णय लेंगे। 

कंटेनमेंट जोन में सभी संदिग्धों की होगी जांच 
जिलाधिकारी ने बताया कि कंटेनमेंट जोन में जितने भी संदिग्ध होंगे सभी की जांच की जाएगी। इसके साथ ही उस क्षेत्र में बुजुर्गों की जानकारी भी जुटाई जाएगी ताकि किसी भी इमरजेंसी में चिकित्सकीय सुविधा मुहैया कराई जा सके।   

 

संबंधित खबरें