ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशभाजपा की जीती सीट निषाद पार्टी ने झटकी, भदोही में कैसे बाजी मार ले गए संजय निषाद?

भाजपा की जीती सीट निषाद पार्टी ने झटकी, भदोही में कैसे बाजी मार ले गए संजय निषाद?

भदोही से विनोद बिंद को टिकट देकर भाजपा ने अपनी पार्टी के लोगों को मायूस कर दिया है वहीं निषाद पार्टी के अध्यक्ष संजय निषाद गदगद हैं। अपनी खुशी वह छिपा नहीं सके। बताया कैसे विनोद को टिकट मिला है।

भाजपा की जीती सीट निषाद पार्टी ने झटकी, भदोही में कैसे बाजी मार ले गए संजय निषाद?
Yogesh Yadavलाइव हिन्दुस्तान,भदोहीThu, 11 Apr 2024 06:59 PM
ऐप पर पढ़ें

लोकसभा चुनाव के लिए भाजपा ने गुरुवार को भदोही से भी प्रत्याशी का ऐलान कर दिया। यहां से अपने मौजूदा सांसद रमेश चंद बिंद का टिकट काटकर निषाद पार्टी के विधायक विनोद बिंद को उतारा गया है। विनोद बिंद को टिकट देकर भाजपा ने लगातार दूसरे दिन राजनीतिक विश्लेषकों को हैरान किया है। एक दिन पहले ही गाजीपुर में पारसनाथ राय को टिकट देकर सभी को चौंकाया था। पारसनाथ राय ने प्रत्याशी घोषित होने पर यहां तक कहा कि उन्होंने टिकट मांगा ही नहीं था। अब भदोही से विनोद बिंद को टिकट देकर भाजपा ने अपनी पार्टी के लोगों को मायूस कर दिया है वहीं निषाद पार्टी के अध्यक्ष संजय निषाद गदगद हैं। अपनी खुशी वह छिपा नहीं सके। सोशल मीडिया प्लेटफार्म एक्स पर खुशी का इजहार करते हुए यहां तक बता दिया कि विनोद बिंद को टिकट कैसे मिला।

यूपी में अब जयंत चौधरी की रालोद और अनुप्रिया पटेल की अपना दल की तरह संजय निषाद की निषाद पार्टी को भी दो लोकसभा सीटें मिल गई हैं। निषाद पार्टी के पास अब संतकबीर नगर के साथ भदोही आ गई है। हालांकि दोनों सीटों पर सिंबल भाजपा ने अपना ही दिया है। संतकबीर नगर से संजय निषाद के बेटे प्रवीण निषाद मैदान में हैं। 

भदोही से प्रत्याशी बने विनोद बिंद फिलहाल मिर्जापुर की मझवां सीट से निषाद पार्टी के विधायक हैं। विनोद के टिकट का ऐलान होते ही संजय निषाद ने एक्स पर लिखा कि गृह मंत्री अमित शाह के साथ वार्तालाप के कारण निषाद पार्टी के कोटे की भदोही सीट पर निषाद पार्टी के कार्यकर्ता डॉ. विनोद बिंद भाजपा के प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ेंगे। आगे उन्होंने यह भी लिखा कि इसके लिए शीर्ष नेतृत्व, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा, गृह मंत्री अमित शाह, प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, संगठन महामंत्री धर्मपाल सिंह और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष भूपेंद्र चौधरी को धन्यवाद।

संजय निषाद ने लिखा कि निषाद पार्टी के पदाधिकारी और कार्यकर्ता आश्वस्त रहें कि साध्वी निरंजन ज्योति, बाबूराम निषाद, संगीता बलवंद बिंद, साक्षी महाराज, राजवीर सिंह, धर्मेन्द्र कश्यप और विनोद बिंद मजबूती के साथ मछुआरा समुदाय की आवाज उठाते रहेंगे। निषाद राज के वंशजों की एक और आवाज निषाद पार्टी के विधायक डॉ. विनोद बिंद हैं।

भदोही में विनोद बिंद का मुकाबला इंडिया गठबंधन के प्रत्याशी ललितेश पति त्रिपाठी से होगा। ललितेश त्रिपाठी ममत बनर्जी की पार्टी टीएमसी के टिकट पर मैदान उतर रहे हैं। सपा ने यूपी में कांग्रेस को 17 और टीएमसी को भदोही सीट दी है। ललितेश पति त्रिपाठी यूपी के पूर्व सीएम कमलापति त्रिपाठी के प्रपौत्र हैं। उनके पिता राजेशपति त्रिपाठी और दादा लोकपति त्रिपाठी भी अलग-अलग समय में कांग्रेस कद्दावर नेता रहे हैं।

चंदौली के निवासी हैं विनोद कुमार बिंद
विनोद कुमार बिंद भले ही मिर्जापुर की मझवां सीट से विधायक हैं लेकिन रहने वाले चंदौली के पहाड़पुर के हैं। डा. विनोद कुमार बिंद का मुगलसराय में बड़ा अस्पताल है। उन्होंने एमबीबीएस, एमएस आर्थो की पढ़ाई की है। विनोद कुमार बिंद ने राजनीति की शुरूआत समाजवादी पार्टी के साथ की थी। सवा दो साल पहले वे सपा के प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य थे।

उनकी मां चंदौली जिले के पहाड़पुर ग्राम सभा से निर्विरोध ग्राम प्रधान भी चुनी गई थीं। बाहुबली विजय मिश्रा के खिलाफ 2022 में सपा ने उन्हें ज्ञानपुर सीट से टिकट दिया था। घोषणा के कुछ ही घंटों बाद चुनाव लड़ने से उन्होंने इनकार करते हुए निषाद पार्टी के सिंबल पर मिर्जापुर की मझवां से ताल ठोंकी और विधायक चुने गए।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें