ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशयूपी के इस शहर में नौ हजार मकानों पर चलेगा बुलडोजर, नोटिस मिलते ही मची खलबली

यूपी के इस शहर में नौ हजार मकानों पर चलेगा बुलडोजर, नोटिस मिलते ही मची खलबली

यूपी के झांसी में नौ हजार मकानों को गिराने की तैयारी है। इसको लेकर विकास प्राधिकरण ने मकान में रहने वाले लोगों को नोटिस भी किया है। विकास प्राधिकरण ने ये नोटिस एनजीटी कोर्ट के आदेश के बाद जारी....

यूपी के इस शहर में नौ हजार मकानों पर चलेगा बुलडोजर, नोटिस मिलते ही मची खलबली
Dinesh Rathourलाइव हिन्दुस्तान,झांसीSat, 27 Jan 2024 05:52 PM
ऐप पर पढ़ें

यूपी के झांसी में बुलडोजर चलाने की तैयारी है। शहर के नौ हजार मकानों को ध्वस्त किया जाएगा। इन मकानों को गिराने के लिए विकास प्राधिकरण ने मकान में रह रहे लोगों को नोटिस भी जारी कर दिया है। विकास प्राधिकरण ने ये नोटिस एनजीटी कोर्ट के आदेश के बाद जारी किया है। मकान गिराने के नोटिस मिलने के बाद शहर में खलबली मच गई है। प्राधिकरण द्वारा दिए गए नोटिस के बाद लोगों में आक्रोश भी फैला है। नोटिस के विरोध में लोगों ने जगह-जगह प्रदर्शन करना शुरू कर दिया है। इस मामले में जब झांसी विकास प्राधिकरण की सचिव उपमा पांडे का कहना है कि यह मकान लोगों की खुद की जमीन पर बने हैं, लेकिन जिस जमीन पर मकान बनाए गए हैँ वह ग्रीनलैंड या फिर नगर पार्क के अंतर्गत आती है। इस कारण ये मकान अवैध हैं, जिन्हें गिराने के लिए नोटिस दिया जा चुका है। 

किन लोगों के गिराए जाएंगे मकान?

झांसी विकास प्राधिकरण ने शहर के उन नौ हजार लोगों को नोटिस जारी कर मकान खाली करने को कहा है, जिन लोगों का मकान नगर पार्क एरिया, ग्रीनलैंड की जमीन पर बने हैं। कानूनी प्रक्रिया के तहत अब उनको गिराया जाना है। इस मामले को लेकर कई दिनों से एनजीटी कोर्ट में इसकी सुनवाई हो रही थी। सुनवाई के बाद एनजीटी कोर्ट ने झांसी प्राधिकरण को मकानों को गिराए जाने का आदेश दिया। एनजीटी कोर्ट का आदेश मिलने के बाद प्राधिकरण ने ऐसे मकानों को चिह्नित करके उन्हें नोटिस जारी किया। 

पार्क एरिया और ग्रीनलैंड की जमीन पर बने गरीब नौ हजार मकान

एनजीटी कोर्ट के आदेश पर प्राधिकरण ने जब मकानों को चिह्नित करना शुरू किया तो करीब नौ हजार मकान ऐसे पाए गए तो ग्रीनलैंड और नगर पार्क एरिया की जमीन पर बने मिले। नोटिस मिलने के बाद इन मकानों में रहने वाले सभी लोगों ने अपना-अपना विरोध जताना शुरू कर दिया और नोटिस वापस लेने की मांग पर अड़ गए। नोटिस के विरोध में अब पीड़ित जगह-जगह प्रदर्शन करने लगे हैं। इनमें सबसे ज्यादा महिलाएं शामिल हैं। 

15 दिन से धरने पर बैठे कई परिवार

प्राधिकरण द्वारा मकानों को गिराए जाने के नोटिस मिलने के बाद कई परिवारों ने पिछले 15 दिनों से धरना देना शुरू कर दिया है। गांधी उद्वान में कई परिवार ऐसे हैं जो अनिश्चितकालीन धरने पर बैठ गए हैं। भीषण सर्दी में खुले आसमान के नीचे बैठकर धरना दे रहे इन परिवार के लोगों की कहीं कोई सुनवाई नहीं हुई है। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें