DA Image
2 अगस्त, 2020|6:59|IST

अगली स्टोरी

वेस्ट यूपी में हत्या का ट्रेंड बदला, मर्डर करके लाश दबा रहे हैं अपराधी

crime

वेस्ट यूपी में हत्या का ट्रेंड बदला है। अब अपराधी हत्या करके लाश को नष्ट करने की कोशिश करते हैं। दरअसल, इसके पीछे वजह यह होती है कि जब तक लाश बरामद नहीं होगी, तब तक उन पर हत्या का दोष साबित नहीं हो सकता। कानून के इस लचीलेपन का अपराधी खूब फायदा उठा रहे हैं। दबी जुबान से पुलिस अफसर इस बात को स्वीकारते हैं कि इस तरह की हत्याओं में अपराधियों को राय देने में कहीं न कहीं कानून के जानकारों का भी हाथ होता है।

उत्तर प्रदेश के पूर्व डीजीपी बृजलाल मानते हैं कि लाश बरामद न होने की दशा में केस बेहद कमजोर हो जाता है। अदालत में अपराधी को इसका लाभ मिल जाता है। वह इस बात से भी इत्तेफाक रखते हैं कि इस तरह के मामलों में कानून के जानकारों की राय भी होती है, तभी अपराधी हत्या करके लाश को नष्ट करता है। उन्होंने स्वीकारा कि ज्यादातर बड़े अपराधियों के कानून के जानकार लोगों से अच्छे संबंध होते हैं और समय-समय पर वे इसका फायदा भी उठाते हैं।

मेरठ कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता (क्रिमिनल) संजीव कुमार आत्रेय कहते हैं कि ज्यादातर मामलों में लाश नष्ट करने का उद्देश्य हत्या के आरोप से बचना होता है। इसलिए अपराधी ऐसा कृत्य करते हैं।

कुछ प्रमुख घटनाएं :
गाजियाबाद के लोनी निवासी प्रिया (30) व उसकी बेटी कशिश (11) की 28 मार्च 2020 को मेरठ के भूड़ बराल गांव में हत्या कर दी गई। प्रिया के प्रेमी शमशाद ने दोनों लाशों को ड्राइंगरूम में 4 फ़ीट गड्ढा खोदकर दबा दिया। इस वजह से अपराधी साढ़े 3 महीने तक खुला घूमता रहा।

25 जून 2020 को मेरठ के गांव फाजलपुर से आईटीआई छात्र रूपक को उसके दोस्त बुला ले गए। गोली मारकर हत्या कर दी। लाश के 7 टुकड़े करके 220 फ़ीट गहरे बोरवेल में डाल दिया। एक माह बाद भी बोरवेल से लाश नहीं निकल पाई है। हालांकि, 5 अपराधी जेल में हैं।

लुधियाना की बीकॉम स्टूडेंट एकता को मेरठ के अमन उर्फ शाकिब ने प्रेमजाल में फंसाया। जून 2019 को उसे मेरठ के लोइया गांव में लाकर मार डाला। लाश के कई टुकड़े करके उन्हें खेत में दबा दिया। एक साल बाद इसका खुलासा हुआ। तब तक आरोपी बचकर घूमता रहा।

बुलंदशहर के खुर्जा से 25 जुलाई 2020 को अधिवक्ता धर्मेंद्र चौधरी लापता हुए। 70 लाख न देने के लिए टाइल्स कारोबारी ने उनकी हत्या कर दी। लाश को अपने गोदाम के 10 फ़ीट गहरे गड्ढे में डालकर उस पर टाइल्स बिछा दी। लाश को जलाने का भी प्रयास किया।

जुलाई 2020 में ही खुर्जा में पत्नी ने प्रेमी संग मिलकर पति की हत्या कर दी। शव को सीवर लाइन में डाल दिया। आगे जाकर नाले से लाश बाहर निकल आई। मृतक के भाई ने लाश के गले में पड़ी वह चुन्नी पहचान ली, जो उसकी भाभी की थी। तब मृतक की पत्नी-प्रेमी पकड़े गए।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:New trend of murder in West Uttar Pradesh killers buried the dead bodies after killing