ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशयूपी विधानसभा में नया नियम टूटा, पहले दिन नारा लिखे कपड़ों में तो दूसरे दिन बैनर लेकर पहुंचे सपा विधायक

यूपी विधानसभा में नया नियम टूटा, पहले दिन नारा लिखे कपड़ों में तो दूसरे दिन बैनर लेकर पहुंचे सपा विधायक

यूपी विधानसभा के शीतकालीन सत्र से कई नए नियम बनाए गए हैं। इनमें बैनर-पोस्टर लेकर आने पर पाबंदी है। इसके बाद भी सत्र के दूसरे ही दिन सपा विधायक बैनर लेकर सदन के अंदर पहुंच गए और प्रदर्शन किया।

यूपी विधानसभा में नया नियम टूटा, पहले दिन नारा लिखे कपड़ों में तो दूसरे दिन बैनर लेकर पहुंचे सपा विधायक
Yogesh Yadavलाइव हिन्दुस्तान,लखनऊThu, 30 Nov 2023 09:26 AM
ऐप पर पढ़ें

यूपी विधानसभा का शीतकालीन सत्र का बुधवार को दूसरा दिन था। योगी सरकार ने सत्र शुरू होने से पहले ही विधानसभा के लिए नई नियमावली बनाई थी। इसके तहत मोबाइल फोन पर रोक लगा दी गई है। सदन में पोस्टर बैनर लाने पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया है। इसके बाद भी सपा विधायक नहीं मानें। पहले दिन कपड़े पर ही नारा लिखकर पहुंचे तो दूसरे दिन नई नियमावली की धज्जियां ही उड़ा दीं। बैनर पोस्टर लेकर न सिर्फ सदन के अंदर पहुंच गए बल्कि स्पीकर के सामने पहुंचकर प्रदर्शन भी किया। किसी तरह स्पीकर ने उन्हें समझाया और वेल से वापस अपनी सीटों पर भेजा। 

योगी सरकार ने 66 साल बाद विधानसभा सत्र नये नियमों के साथ संचालित करने का ऐलान किया था। इसके तहत सदस्यों को झंडा, बैनर, पोस्टर सदन में लाने की अनुमति नहीं होगी।  यही नहीं विधायक मोबाइल फोन भी सदन में नहीं ला सकेंगे। विधानसभा के पिछले सत्र में ही विधानसभा की नई रूल बुक को मंजूर किया गया था।  

सपा सदस्य नई नियमावली बनने के बाद से ही इसका विरोध कर रहे हैं। कई विधायकों का कहना है कि सदन में साइलेंट मोड की शर्त के साथ मोबाइल ले जाने की अनुमति होनी चाहिए। क्योंकि लंबे समय तक सदन में रहने से क्षेत्र के लोग उनसे संपर्क नहीं कर जरूरी जानकारी नहीं दे सकेंगे। हम जनप्रतिनिधियों को या तो मोबाइल फोन ले जाने की अनुमति दी जानी चाहिए या फिर उन्हें अटेंडेंट उपलब्ध करवाना चाहिए  जो मोबाइल अपने पास रखें और जरूरी कॉल आने पर सदन में हमें अवगत करा सके। 

मोबाइल फोन पर रोक के खिलाफ सत्र के पहले दिन मंगलवार को कई सपा विधायक काला कपड़ा पहनकर भी पहुंचे। कुछ विधायक पीठ पर बैनर चिपकाकर पहुंचे लेकिन पकड़ लिए गए। इस पर दूसरे दिन सपा विधायकों ने दूसरा ही तरीका निकाला। बड़े बड़े बैनर छिपाकर सदन में ले आए। इसके बाद धान खरीद में कोताही और डेंगू बीमारी के प्रति उदासीनता बरते जाने का आरोप लगाते हुए प्रदर्शन किया और नारेबाजी की।

सदन की कार्यवाही शुरू होते ही पार्टी के मुख्य सचेतक मनोज कुमार पांडे ने आरोप लगाया कि सरकार धान खरीद के प्रति उदासीनता बरत रही है जबकि प्रदेश में डेंगू के प्रकोप के प्रति सरकार लापरवाह है। सदन में अधिकांश सपा सदस्य काले कपड़े पहन कर आये थे और उन्होने विधानसभा अध्यक्ष सतीश महाना के आसन के सामने बैनर लहराये और सरकार विरोधी नारेबाजी की। महाना ने सदस्यों से अपनी जगह पर बैठने की अपील की और आश्वस्त किया कि उनकी बात को सदन में सुना जायेगा जिसके बाद सदस्य अपनी अपनी जगह पर जाकर बैठ गये।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें