ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशहॉस्पिटल कैंपस में मिली महिला की लाश की सुलझेगी गुत्‍थी? कैमरे में दिखी संदिग्ध कार; एंबुलेंस चालकों से पूछताछ

हॉस्पिटल कैंपस में मिली महिला की लाश की सुलझेगी गुत्‍थी? कैमरे में दिखी संदिग्ध कार; एंबुलेंस चालकों से पूछताछ

कानपुर के कांशीराम अस्पताल परिसर स्थित एमआरआई बिल्डिंग के पास शनिवार सुबह महिला का शव मिलने के मामले में पुलिस को एक CCTV फुटेज मिला है। इसमें एक कार अस्पताल में आती और 10 मिनट बाद जाती दिखी।

हॉस्पिटल कैंपस में मिली महिला की लाश की सुलझेगी गुत्‍थी? कैमरे में दिखी संदिग्ध कार; एंबुलेंस चालकों से पूछताछ
Ajay Singhहिन्‍दुस्‍तान ,कानपुरTue, 18 Jun 2024 01:28 PM
ऐप पर पढ़ें

Woman's Dead Body in Hospital: कानपुर के कांशीराम अस्पताल परिसर स्थित एमआरआई बिल्डिंग के पास शनिवार सुबह महिला का शव मिलने के मामले में पुलिस को एक सीसीटीवी फुटेज मिला है। इसमें एक कार अस्पताल में आती और 10 मिनट बाद जाती दिखी। पुलिस को आशंका है कि कहीं इसी कार से तो नहीं महिला को यहां लाकर फेंका गया। वहीं, एंबुलेंस चालकों से भी पूछताछ की जाएगी।

एमआरआई बिल्डिंग के पास 15 जून की सुबह झाड़ियों में एक महिला का शव पड़ा मिला था। पुलिस ने कैमरे खंगाले तो 1अ4 जून की रात एक कार कैंपस में जाती दिखी। यह कार करीब 10 मिनट बाद वहां से निकल गई। यह किस रूट पर गई और कहां से आई इसका पता लगाया जा रहा है। पुलिस को आशंका है कि इसी कार से महिला का शव लाकर यहां फेंका गया है। हालांकि अस्पताल के मुख्य द्वारा पर लगे सीसीटीवी बेहद धुंधले हैं। जिसके चलते उसका नंबर स्पष्ट नहीं है। डीसीपी ईस्ट श्रवण कुमार के मुताबिक पुलिस टीम कांशीराम अस्पताल और उसके आसपास के रूटों पर लगे कैमरे खंगाल रही है। पुलिस दो दर्जन से अधिक लोगों से पूछताछ कर चुकी है। एम्बुलेंस चालकों से भी पूछताछ की जाएगी। श्रवण कुमार सिंह, डीसीपी के मुताबिक ईस्ट कुछ संदिग्ध गतिविधियां कैमरे में कैद हुई है। पुलिस बीटीएस यानि बेस्ड ट्रांसरिसिवर स्टेशन की मदद से अस्पताल में घटना वाले दिन के मोबइल नंबरों को चेक कर रही है।

दीक्षा के परिजनों का कार्रवाई से इनकार
कानपुर मेडिकल कॉलेज के परीक्षा भवन के पांचवें माले से गिरकर डॉ. दीक्षा तिवारी की मौत के मामले में पंचानामा की जांच भी हादसे की तरफ ही इशारा कर रही। पुलिस का दावा है कि दो से तीन बार डॉ. दीक्षा तिवारी के परिजनों से बात की गई मगर वह अब किसी भी तरह की कार्रवाई के लिए इनकार कर रहे हैं। डॉ. दीक्षा तिवारी की मौत के बाद पुलिस ने डॉ. हिमांशु और डॉ. मयंक से पूछताछ की थी।

अब तक की फोरेंसिक, परिस्थितिजन्य साक्ष्य और लोगों से पूछताछ व घटनास्थल और आर्यनगर स्थित घर की जांच करने पर हादसे की तरफ ही इशारा हो रहा है। एडीशनल सीपी कानून व्यवस्था हरीश चन्दर ने कहा कि परिवार वालों ने अब तक कोई तहरीर नहीं दी है और देने से मना भी कर दिया है। साथ ही इसमें हादसे के अलावा ऐसा कुछ नहीं मिला है जिससे किसी घटना का होना पाया जाए।

Advertisement