ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेशमेरा गांव काशी में है, राष्ट्रपति के गांव में बच्चों से बोले पीएम मोदी, आने का निमंत्रण

मेरा गांव काशी में है, राष्ट्रपति के गांव में बच्चों से बोले पीएम मोदी, आने का निमंत्रण

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार को यूपी के दौरे पर हैं। इस दौरान वह पहले लखनऊ फिर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के पैतृक गांव कानपुर के परौंख पहुंचे। दोनों स्थानों पर लोगों को काशी आने का निमंत्रण दिया।

मेरा गांव काशी में है, राष्ट्रपति के गांव में बच्चों से बोले पीएम मोदी, आने का निमंत्रण
Yogesh Yadavलाइव हिन्दुस्तान,लखनऊFri, 03 Jun 2022 05:39 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार को यूपी के दौरे पर थे। वह पहले लखनऊ में ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी में पहुंचे फिर कानपुर में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के पैतृक गांव परौंख गए। दोनों स्थानों पर अपने संसदीय क्षेत्र काशी के प्रति अथाह प्यार दिखाया। काशी की खुबियां गिनाईं और लोगों को वहां आने का निमंत्रण दिया। राष्ट्रपति के गांव परौंख में बच्चों से बातचीत में पीएम मोदी ने यहां तक कहा कि मेरा गांव काशी में है। हम आपके गांव आए हैं तो आप लोग भी मेरे गांव काशी जरूर आईए।

राष्ट्रपति के गांव परौंख की पीएम मोदी ने काफी तारीफ की। गांव में पैदल ही घूमे और लोगों से बातचीत की। एक स्थान पर जुटे बच्चों के पास पहुंचकर पीएम मोदी ने उनसे बातचीत की और कई सवाल पूछे। पीएम मोदी ने बच्चों से सबसे पहले पूछा आप लोगों में से कौन कौन स्कूल जाता है। इस पर सभी ने हाथ उठा दिया।

इसके बाद पीएम मोदी ने भाई बहन से झगड़ा करने, दिल्ली देखने, लखनऊ कानपुर घूमने आदि से संबंधित सवाल पूछे। अंत में बच्चों से पूछा कौन-कौन काशी गया है। एक दो बच्चों ने ही हाथ उठाया तो कहा कि सभी को काशी जाना चाहिए। पीएम मोदी ने कहा कि मेरा गांव काशी में है। मैं आपके गांव आया तो आपको भी मेरे गांव काशी जाना चाहिए। इस पर सभी ने हां कहते हुए हाथ उठाया। पीएम मोदी के भ्रमण के दौरान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, राज्यपाल आनंदीबेन और सीएम योगी भी मौजूद रहे।

इससे पहले लखनऊ में आयोजित ग्राउंड ब्रेकिंग समारोह में भी पीएम मोदी ने काशी की चर्चा की और लोगों को काशी आने का निमंत्रण दिया। देश के बड़े उद्योगपतियों को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि समय निकालकर मेरी काशी भी देखने आइए।

epaper