Saturday, January 29, 2022
हमें फॉलो करें :

गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेशमुनव्वर राना के बेटे तबरेज पर हमला, कई राउंड फायरिंग, बाल-बाल बचे

मुनव्वर राना के बेटे तबरेज पर हमला, कई राउंड फायरिंग, बाल-बाल बचे

हिन्दुस्तान टीम,रायबरेलीDeep Pandey
Tue, 29 Jun 2021 06:25 AM
मुनव्वर राना के बेटे तबरेज पर हमला, कई राउंड फायरिंग, बाल-बाल बचे

यूपी के रायबरेली जिले में प्रख्यात शायर मुनव्वर राना के बेटे तबरेज राना पर बाइक सवार नकाबपोशों ने सोमवार को हमला कर दिया। उनकी कार पर कई राउंड गोलियां चली। हमले में तबरेज बाल-बाल बच गए, लेकिन उनकी गाड़ी क्षतिग्रस्त हो गई। ताबड़तोड़ हुई फायरिंग और गोली की आवाज सुनकर आसपास हड़कंप मच गया और लोग इकठ्ठा हो गए। इसी बीच हमलावार मौके से भाग गए। पुलिस ने हमलावरों को पकड़ने के लिए नाकेबंदी की लेकिन कोई सफलता नहीं मिली। पीड़ित ने अपने ही परिवार के पांच लोगों के खिलाफ थाने में तहरीर दी है। देर रात पुलिस ने पांचों आरोपियों इस्माइल राना, राफे राना, जमील राना, शकील राना (सभी चाचा) और यासर राना (चचेरे भाई) के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।

   रायबरेली के शहर कोतवाली के किला बाजार मोहल्ले के रहने वाले शायर मुनव्वर राना परिवार के साथ लखनऊ में रहते हैं। पुलिस का कहना है कि उनका रायबरेली में परिवार के लोगों के साथ काफी समय से जमीन संबंधी विवाद चल रहा है। तबरेज राना दो दिन पहले जमीन के किसी विवाद को लेकर शहर आए थे और यहीं पर रुके हुए थे। कोतवाली में दी गई तहरीर के मुताबिक सोमवार को वह अपनी कार से लखनऊ के लिए जा रहे थे। तभी लखनऊ-प्रयागराज हाईवे पर शाम करीब छह बजे शहर कोतवाली की त्रिपुला पुलिस चौकी क्षेत्र में स्थित पेट्रोल पंप के पास बिना नंबर की बाइक पर बैठे नकाबपोशों ने तबरेज राना पर ताबड़तोड़ गोलियां चलाई। उस वक्त तबरेज कार चला रहे थे। गोलियों की आवाज सुनकर मौके पर लोगों की भीड़ इकठ्ठा होने लगी। कई राउंड गोलियां चलाने के बाद हमलावर भाग गए। कार के शीशे में गोलियों के निशान भी मिले हैं। कोतवाल अतुल कुमार सिंह ने बताया कि पीड़ित की तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज किया गया है।

भाइयों ने दायर किया है जमीन के बंटवारे का केस

तबरेज राना द्वारा जनलेवा हमले के मामले में आरोपी बनाए गए चारों चाचा ने 15 दिन पहले ही जमीन के बंटवारे का मुकदमा दायर किया है। इसमें मुनव्वर राना और उनके बेटे भी पक्षकार हैं। दिल्ली से फोन पर आरोपी बनाए गए इस्माइल राना ने बताया कि कानपुर रोड पर राजघाट के पास वालिद अनवर अली राना ने 30-40 साल पहले 15 बीघा जमीन खरीदी थी। इसमें साढ़े छह या सात बीघा जमीन बड़े बेटे मुनव्वर राना के नाम पर खरीदी गई। दो-दो बीघा मेरे और राफे के नाम है। बाकी वालिद के नाम। इस जमीन में से भी मुनव्वर के बेटे तबरेज ने चार महीने पहले एक बीघा जमीन सवा करोड़ रुपए में बेच दी। इसी के बाद सभी भाइयों ने बंटवारे का मुकदमा दायर किया। इसी से बौखलाकर फर्जी मामला उनके बेटे ने रचकर मुकदमा दर्ज कराया है

epaper

संबंधित खबरें