ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशनहीं रहे मुलायम सिंह यादव, 82 साल की उम्र में निधन; मेदांता अस्‍पताल में सुबह 8:16 बजे ली अंतिम सांस 

नहीं रहे मुलायम सिंह यादव, 82 साल की उम्र में निधन; मेदांता अस्‍पताल में सुबह 8:16 बजे ली अंतिम सांस 

समाजवादी पार्टी के संस्‍थापक और पूर्व मुख्‍यमंत्री मुलायम सिंह यादव का निधन हो गया है। पिछले 10 दिन से मेदांता अस्‍पताल में जिंदगी और मौत के बीच जूझते रहने के बाद नेताजी ने सोमवार सुबह अंतिम सांस ली।

नहीं रहे मुलायम सिंह यादव, 82 साल की उम्र में निधन; मेदांता अस्‍पताल में सुबह 8:16 बजे ली अंतिम सांस 
Ajay Singhलाइव हिन्‍दुस्‍तान,गुरुग्राम लखनऊMon, 10 Oct 2022 12:41 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

समाजवादी पार्टी के संस्‍थापक और तीन बार उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री रहे मुलायम सिंह यादव नहीं रहे।  नेताजी को यूरिन संक्रमण, ब्‍लड प्रेशर की दिक्‍कत और सांस लेने में तकलीफ की वजह से दो अक्‍टूबर को मेदांता अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था। तभी से उनकी हालत नाजुक बनी हुई थी। उनके कई अंगों ने काम करना बंद कर दिया था। नौ दिन तक मेदांता के आईसीयू और क्रिटिकल केयर यूनिट (सीसीयू) में जिंदगी और मौत के बीच जूझते रहने के बाद नेताजी ने सोमवार सुबह 8:16  बजे अंतिम सांस ली। 82 साल की उम्र में सोमवार सुबह उनका निधन हो गया। 

Mulayam Singh Yadav passes away :मुलायम ने की थी कांशीराम की मदद, 90 के दशक में एक नारे ने बदल दिए थे समीकरण

मुलायम सिंह यादव के निधन से देश भर में उनके समर्थकों और पार्टी लाइन से ऊपर उठकर विभिन्‍न राजनीतिक विचारधाराओं से जुड़कर काम करने वाले राजनीतिक-सामाजिक कार्यकर्ताओं में शोक की लहर है। पिछले कई दिनों से मुलायम सिंह की सेहत को लेकर देश भर में चिंता जताई जा रही थी।

Mulayam Singh Yadav: गेस्ट हाउस कांड जिसने मुलायम सिंह की छवि को पहुंचाया था नुकसान

समाजवादी पार्टी के अधिकारिक ट्विटर हैंडल पर मुलायम सिंह यादव के पुत्र और यूपी के पूर्व मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव की ओर से नेताजी के निधन की पुष्टि की गई। ट्वीट में लिखा है- 'मेरे आदरणीय पिताजी नहीं रहे-अखिलेश यादव।' मुलायम सिंह यादव के निधन की सूचना मिलते ही मेदांता अस्‍पताल पर उनके समर्थकों, परिवार के नजदीकी लोगों और राजनीतिक नेताओं-कार्यकर्ताओं की भीड़ जुटने लगी है। बड़ी संख्‍या में आ रहे लोगों को देखते हुए अस्‍पताल पर सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

Mulayam Singh Yadav: देसी घी के लड्डू और जलेबी के शौकीन मुलायम सिंह को इसलिए मिली थी धरतीपुत्र की उपाधि

पिछले कई दिनों से मुलायम सिंह की सेहत को लेकर देश भर में चिंता जताई जा रही थी। प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी और सीएम योगी आदित्‍यनाथ सहित देश की तमाम राजनीतिक हस्तियां लगातार उनकी सेहत का हाल ले रही थीं। मुलायम सिंह यादव की शख्‍सयित पार्टी की सीमाओं से पार हर दल और विचारधारा के लोगों को आकर्षित करती थीं। यही वजह है कि सोमवार को उनके निधन के बाद सिर्फ समाजवादी पार्टी नहीं बल्कि हर दल और संगठन में शोक की लहर है। मुलायम जब से मेदांता अस्‍पताल में भर्ती थे तबसे उन्‍हें देखने के लिए देश भर से लोग पहुुंच रहे थे।

रिश्‍ते निभाना कोई मुलायम से सीखे, राजनीति में जिन्‍हें धोबीपछाड़ दिया उनके भी सुख-दु:ख में सहभागी रहे नेताजी

संघर्षों से तय किया था सैफई से शिखर तक का सफर 

मुलायम 1967 में पहली बार विधायक बने थे। वह आठ बार विधायक और 7 बार सांसद रहे। तीन बार यूपी के मुख्‍यमंत्री और दो बार केंद्र में मंत्री रहे। देश के रक्षा मंत्री रहते मुलायम सिंह यादव ने सीमा पर जाकर सेना का दिल जीत लिया था। मुलायम सिंह सैफई से सत्‍ता के शिखर तक का सफर बड़े ही संघर्षों के साथ तय किया था।