ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशमुख्तार अंसारी कब आईसीयू पहुंचा, कौन सी दवाएं दीं, न्यायिक जांच मजिस्ट्रेट ने मेडिकल स्टाफ से की पूछताछ

मुख्तार अंसारी कब आईसीयू पहुंचा, कौन सी दवाएं दीं, न्यायिक जांच मजिस्ट्रेट ने मेडिकल स्टाफ से की पूछताछ

मुख्तार अंसारी की मौत के मामले की जांच में तेज हो गई है। न्यायिक मजिस्ट्रेट ने मेडिकल कॉलेज में स्टॉफ से पूछताछ की। पूछा कि आईसीयू में मुख्तार अंसारी कब पहुंचा। उसे कौन सी दवाएं दी गईं।

मुख्तार अंसारी कब आईसीयू पहुंचा, कौन सी दवाएं दीं, न्यायिक जांच मजिस्ट्रेट ने मेडिकल स्टाफ से की पूछताछ
Yogesh Yadavहिन्दुस्तान,बांदाWed, 10 Apr 2024 11:30 PM
ऐप पर पढ़ें

माफिया मुख्तार अंसारी कब मेडिकल कॉलेज के आईसीयू में पहुंचा? कितनी देर बाद उसका इलाज शुरू हुआ? कौन सी दवाएं दी गईं? इन सभी सवालों के जवाब न्यायिक जांच में पूछे गए हैं। बुधवार को बुधवार को न्यायिक मजिस्ट्रेट ने मेडिकल कॉलेज इमरजेंसी वार्ड, आईसीयू और पोस्टमार्टम हाउस का भी निरीक्षण किया। बांदा जेल में निरुद्ध मुख्तार अंसारी की 28 मार्च की शाम रानी दुर्गावती मेडिकल कॉलेज में इलाज के दौरान मौत हो गई थी। दूसरे दिन शव का पोस्टमार्टम हुआ। उसी दिन मौत की न्यायिक और मजिस्ट्रेटी जांच के आदेश हुए। न्यायिक जांच एमपी-एमएलए कोर्ट की मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट गरिमा सिंह कर रही हैं।

बुधवार अपराह्न करीब तीन बजे न्यायिक मजिस्ट्रेट मेडिकल कॉलेज पहुंचीं। सबसे पहले इमरजेंसी वार्ड और फिर आईसीयू गईं। उन्होंने वह बेड भी देखा, जहां मुख्तार अंसारी ने अंतिम सांस ली थी। इसके बाद पोस्टमार्टम हाउस गईं। इस दौरान उन्होंने इमरजेंसी, आईसीयू और पोस्टमार्टम हाउस के कर्मचारियों से पूछताछ भी की। न्यायिक मजिस्ट्रेट ने मेडिकल कॉलेज प्राचार्य से उन डॉक्टरों के बारे में जानकारी मांगी, जिन्होंने मुख्तार अंसारी का इलाज किया था। 

मेडिकल कॉलेज सूत्रों के मुताबिक, जांच को पहुंचीं न्यायिक मजिस्ट्रेट ने प्राचार्य से इस बात की भी जानकारी मांगी कि 28 मार्च की शाम मुख्तार अंसारी को जेल से कितने बजे मेडिकल कॉलेज लाया गया था। कितनी देर में इलाज शुरू हुआ, कौन-कौन सी दवाएं और इंजेक्शन दिए गए थे। जब लाया गया था तो कौन-कौन सी तात्कालिक जांचें हुई थीं। 

एंबुलेंस ड्राइवर से भी हो सकती है पूछताछ
सूत्रों के मुताबिक, बांदा जेल से जिस एंबुलेंस से मुख्तार अंसारी को 28 मार्च की शाम मेडिकल कॉलेज ले जाया गया था, उस एंबुलेंस के चालक और उसमें तैनात रहनेवाले कर्मियों से पूछताछ हो सकती है। गौरतलब है कि मौत से ठीक दो दिन पहले भी मुख्तार अंसारी को मेडिकल कॉलेज लाया गया था। कुछ घंटे आईसीयू में भर्ती करने के बाद उसे जेल शिफ्ट कर दिया गया था। इसके बाद उसका एक ऑडियो वायरल हुआ। इसमें वह उठ बैठ पाने में भी असमर्थ बताते हुए जहर देने की बात कह रहा है। इस ऑडियो के अगले ही दिन उसकी मौत हो जाती है। बताया गया कि वह बैरक में बेहोश होकर गिर गया था। मेडिकल कॉलेज में उसे मृत घोषित करते हुए मौत का कारण हार्ट अटैक बताया था।