DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › सांसद पिटाईः प्रमोद तिवारी और आराधना मिश्रा पर केस से आक्रोश, जिला मुख्यालयों पर कांग्रेस का प्रदर्शन
उत्तर प्रदेश

सांसद पिटाईः प्रमोद तिवारी और आराधना मिश्रा पर केस से आक्रोश, जिला मुख्यालयों पर कांग्रेस का प्रदर्शन

वाराणसी मेरठ हिन्दुस्तान टीमPublished By: Yogesh Yadav
Tue, 28 Sep 2021 02:50 PM
सांसद पिटाईः प्रमोद तिवारी और आराधना मिश्रा पर केस से आक्रोश, जिला मुख्यालयों पर कांग्रेस का प्रदर्शन

प्रतापगढ़ के सांगीपुर में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सांसद संगमलाल गुप्ता के साथ मारपीट के मामले में कांग्रेस नेता एवं पूर्व सांसद प्रमोद तिवारी, उनकी बेटी और रामपुर खास विधानसभा सीट से कांग्रेस की विधायक आराधना मिश्रा मोना के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज होने के विरोध में कांग्रेस ने जिला मुख्यालयों पर प्रदर्शन किया और ज्ञापन सौंपा। राज्यपाल को सम्बोधित पत्रक में मांग की कि कांग्रेस नेताओं पर से मुकदमा वापस हो और मामले की न्यायिक जांच कराई जाए। 

वाराणसी में जिला और महानगर कांग्रेस कमेटी ने राज्यपाल को सम्बोधित ज्ञापन जिलाधिकारी को सौंपा। प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व जिलाध्यक्ष राजेश्वर पटेल व महानगर अध्यक्ष राघवेंद्र चौबे ने किया और कहा कि प्रतापगढ़ में कार्यक्रम स्थल पर सब कुछ सुचारू रूप से सुव्यवस्थित चल रहा था, जहां पर माननीय विधायक आराधना मिश्रा मोना जी व पूर्व राज्यसभा सांसद आदरणीय प्रमोद तिवारी जी कार्यक्रम में उपस्थित थे। कुछ समय बाद सभागार में सांसद संगम लाल का आगमन हुआ। जिनका स्वागत एवं अभिवादन आदरणीय विधायक आराधना मिश्रा एवं पूर्व सांसद प्रमोद तिवारी ने किया। संगम लाल गुप्ता के साथ आए कुछ कार्यकर्ता कुछ अराजकतत्व सभागार में नारेबाजी करने लगे। इसमें सभी लोगों ने शांत कराने की कोशिश की। सभागार के अंदर उनके साथ किसी भी प्रकार की अभद्र भाषा और अभद्रता नहीं हुई ना ही किसी कार्यकर्ता ने मारपीट की और ना ही किसी ने उनका कपड़ा नहीं फाड़ा। 

वहीं, मेरठ मेंके जिला कांग्रेस अध्यक्ष अवनीश काजला और महानगर कांग्रेस अध्यक्ष ज़ाहिद अंसारी की अगुवाई में कार्यकर्ताओं ने कलक्ट्रेट पहुंच कर प्रदर्शन किया। बाद में मेरठ के जिलाधिकारी के माध्यम से राज्यपाल के लिए ज्ञापन सौंपा और पूरे मामले की निष्पक्ष जांच कराने की मांग की। प्रदर्शनकारी नेताओं ने कहा कि राज्य सरकार लोकतंत्र का ढांचा ध्वस्त कर रही है और विपक्ष की आवाज़ को दबा रही है। राज्य सरकार विपक्षी जनप्रतिनिधियों के खिलाफ मामले दर्ज कराकर भूख, भय, भ्रष्टाचार, बेरोज़गारी, महंगाई, महिला व बाल उत्पीड़न, दलितों पर अत्याचार, किसानों आदि के मुद्दों को उठने नहीं देना चाहती। 

गौरतलब है कि शनिवार को प्रतापगढ़ में सांसद संगम लाल गुप्ता से मारपीट के मामले में कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी तथा कांग्रेस विधानमंडल दल की नेता आराधना मिश्रा 'मोना' समेत 27 नामजद तथा 50 अज्ञात लोगों के विरुद्ध मामला दर्ज किया गया है।

संबंधित खबरें