DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › 'बबलू' की भाजपा में एंट्री पर सांसद रीता बहुगुणा जोशी हुईं नाराज, बोलीं, जेपी नड्डा से करूंगी बात
उत्तर प्रदेश

'बबलू' की भाजपा में एंट्री पर सांसद रीता बहुगुणा जोशी हुईं नाराज, बोलीं, जेपी नड्डा से करूंगी बात

प्रमुख संवाददाता,लखनऊPublished By: Dinesh Rathour
Thu, 05 Aug 2021 12:20 AM
'बबलू' की भाजपा में एंट्री पर सांसद रीता बहुगुणा जोशी हुईं नाराज, बोलीं, जेपी नड्डा से करूंगी बात

वर्ष 2009 में रीता बहुगुणा जोशी का घर जलाने के आरोपी बीकापुर (अयोध्या) से बसपा के पूर्व विधायक जितेंद्र कुमार सिंह बबलू भी बुधवार को भाजपाई हो गए। इस ज्वाइनिंग की सूचना मिलने पर सांसद रीता बहुगुणा जोशी ने नाराजगी जताई है। अब वह पार्टी नेतृत्व से बबलू की सदस्यता खत्म कराने के मुद्दे पर बात करेंगी।  भाजपा राज्य मुख्यालय पर प्रदेश भाजपा अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने बबलू के साथ ही कांग्रेस व बसपा के कुछ अन्य नेताओं को भाजपा की पट्टिका पहनाई।

बबलू के भाजपा में शामिल होने के कार्यक्रम में प्रदेश भाजपा के दो सांसद, एक विधायक, एक एमएलसी के साथ ही प्रदेश भाजपा के कई पदाधिकारी उपस्थित थे। ज्वाइनिंग कार्यक्रम के मौके पर कांग्रेस के पूर्व प्रदेश महासचिव पूर्व लोकसभा प्रत्याशी पंकज मोहन सोनकर(आजमगढ़), बसपा के पूर्व कोआर्डिनेटर मनोज शर्मा (गाजियाबाद),  बसपा से पूर्व लोकसभा प्रत्याशी प्रवेश सिंह (रायबरेली), सेवानिवृत्त एयर कोमोडोर श्याम शंकर तिवारी तथा समाज सेविका डा. बीना लवानिया भी भाजपा में शामिल हुईं। 

जुलाई 2009 में लखनऊ में उस समय की कांग्रेस की बड़ी नेता रहीं रीता बहुगुणा जोशी का घर जलाने की घटना की अगुवाई का आरोप बबलू पर लगा था। इस कांड की जांच में बबलू दोषी भी पाए गए। अब रीता बहुगुणा जोशी भाजपा से प्रयागराज की सांसद हैं। बबलू के भाजपा में शामिल होने की खबर ने उन्हें झकझोर दिया है। बबलू की ज्वाइनिंग और उसके कुछ घंटे बाद ही रीता बहुगुणा के विरोध के बाद प्रदेश भाजपा के वरिष्ठ पदाधिकारियों ने मौन साध लिया है। प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने इस मुद्दे पर कुछ भी बोलने से इंकार किया। 

रीता बहुगुणा स्तब्ध, नेतृत्व से करेंगी बात

बीकापुर (अयोध्या) के पूर्व विधायक जितेंद्र कुमार सिंह बबलू के भाजपा में शामिल होने की सूचना मिलने के बाद भाजपा सांसद रीता बहुगुणा जोशी स्तब्ध हैं। उन्होंने कहा है कि बबलू उनका घर जलाने का मुख्य आरोपी है। भाजपा प्रदेश और केंद्रीय नेतृत्व से बबलू की सदस्यता समाप्त करने के मुद्दे पर बात करेंगी।बबलू की ज्वाइनिंग के कुछ घंटों बाद ही व्हाट्सऐप ग्रुपों पर रीता बहुगुणा का वीडियो मैसेज दौड़ने लगा था। जिसमें उन्होंने कहा है कि जुलाई 2009 में जब लखनऊ में उनका घर जलाया गया था तो उसकी अगुवाई बबलू ने की थी। जांच में वह दोषी भी पाए गए थे। उनपर आरोप भी फ्रेम हो चुके हैं। उन्होंने कहा है कि मुझे पूर्ण विश्वास है कि बबलू ने पार्टी को गफलत में रखा, सच्चाई नहीं बताई और पार्टी ज्वाइन कर ली। भाजपा के दरवाजे सबके लिए खुले रहते हैं। बबलू का आपराधिक बैकग्राउंड है खासतौर पर मेरा घर जलाने में वह आरोपित हैं। उन्होंने कहा है कि वह इस संबंध में पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व राष्ठ्रीय अध्यक्ष से बात करेंगी। अपील करेंगी कि बब्लू की सदस्यता समाप्त की जाए। 

भाजपा वंशवाद व जातिवाद की पार्टी नहीं: स्वतंत्र देव

जितेंद्र कुमार सिंह बबलू की ज्वाइनिंग कार्यक्रम में स्वतंत्र देव सिंह ने कहा कि भाजपा की गौरवशाली परम्परा में जनकल्याणकारी योजनाओं व निर्णयों से गरीब, वंचित, शोषित व उपेक्षित वर्ग को सम्मान, न्याय, उनके जीवन की खुशहाली के लिए सत्ता माध्यम मात्र है। यह वंशवाद और जातिवाद की पार्टी नहीं है। उन्होंने कहा कि डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी व पंडित दीनदयाल उपाध्याय ने देश की एकता-अखंडता तथा राजनैतिक मूल्यों के लिए जीवन का बलिदान दिया। भाजपा वंशवाद, क्षेत्रवाद, जातिवाद, परिवारवाद वाली पार्टी नहीं है। पार्टी का एक-एक कार्यकर्ता जनकल्याण के लिए सेवा भाव से काम करता है। बूथ पर काम करने वाला कार्यकर्ता भी एक दिन प्रदेश अध्यक्ष व राष्ट्रीय अध्यक्ष सहित किसी भी दायित्व पर पहुंच सकता है।
इस अवसर पर प्रदेश महामंत्री व सांसद सुब्रत पाठक, क्षेत्रीय अध्यक्ष शेष नारायण मिश्रा, प्रदेश मीडिया प्रभारी मनीष दीक्षित, प्रदेश मीडिया सह प्रभारी हिमांशु दुबे, अभय प्रताप सिंह, प्रदेश प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी, सांसद विजय दुबे, विधान परिषद सदस्य ठाकुर जयवीर सिंह तथा विधायक सुशील सिंह प्रमुख रूप से उपस्थित थे।

15 जुलाई को हुई थी रीता के घर आगजनी

सरोजनीनायडू मार्ग स्थित रीता बहुगुणा जोशी के घर पर वर्ष 2009 में 17 जुलाई को आगजनी हुई थी। तब वह कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष थी। इस मामले में हुसैनगंज कोतवाली में एफआईआर दर्ज हुई थी। इसमें बसपा से पूर्व विधायक जितेन्द्र सिंह बबलू, दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री इंतजार अहमद आब्दी समेत कई लोगों को नामजद किया गया था। इस मामले में 18 पुलिस अफसरों व इंस्पेक्टर, एसआई को भी आरोपी बनाया गया था। जितेन्द्र सिंह बबलू और इंतजार आब्दी को जेल भी जाना पड़ा था। इसकी जांच में तत्कालीन सीओ हजरतगंज बीएस गब्र्याल, इंस्पेक्टर हुसैनगंज बलराम सरोज, सिपाही वीरेन्द्र कुमार, चन्द्रशेखर और अशोक कुमार को भी प्रारम्भिक जांच में दोषी पाया गया था। इनके खिलाफ कोर्ट ने अभियोजन की अनुमति दी थी।  

कई गंभीर आरोपों में नामजद रहे हैं बब्लू

  • 17 जुलाई 2009 को कांग्रेस की तत्कालीन प्रदेश अध्यक्ष डॉ. रीता बहुगुणा जोशी के लखनऊ के हुसैनगंज में सरोजनी नायडू मार्ग पर स्थित आवास में आग लगा दी गई थी। इस घटना में बसपा के तत्कालीन विधायक जितेंद्र कुमार सिंह ‘बबलू’ समेत कई लोगों के नाम मुकदमा दर्ज किया गया था। इस मामले में जांच एजेंसी सीबीसीआईडी की तरफ से बबलू के विरुद्ध आरोप पत्र भी दाखिल है। 
  • बब्लू पर फैजाबाद, अंबेडकरनगर, सुलतानपुर, लखनऊ और वाराणसी में 28 आपराधिक मुकदमे दर्ज रहे हैं। इसमें सबसे ज्यादा 19 मुकदमे लखनऊ के ही विभिन्न थानों में दर्ज हुए थे। 
  • वर्ष 2005 में फैजाबाद जिले में बबलू की हिस्ट्रीशीट भी खोली गई थी। 
  • वर्ष 2007 में पहली बार बीकापुर (फैजाबाद) से बसपा के टिकट पर विधायक चुने गए। फिर 2012 में चुनाव हार गए। 
  • बसपा से निष्कासन के बाद पीस पार्टी में शामिल हुए और वर्ष 2017 के चुनाव में वह पीस पार्टी के प्रत्याशी के रूप में ही बीकापुर से चुनाव लड़े और फिर पराजय का मुंह देखना पड़ा। 

संबंधित खबरें