DA Image
26 सितम्बर, 2020|7:57|IST

अगली स्टोरी

कोरोना के इलाज से जुड़ी इन पांच दवाओं की शुरू हुई निगरानी, ड्रग डिपार्टमेंट रखेगा रोज का हिसाब-किताब 

disulfiram medicine useful for coronavirus treatment  file pic

कोरोना के इलाज से जुड़ी दवाओं की निगरानी शासन ने शुरू कर दी है। इन दवाओं की कालाबाजारी पर रोक लगाने के लिए शासन ने दवाओं की उपलब्धता और खपत की रिपोर्ट तलब की है। यह सूचना अब महकमे को रोजाना भेजनी होगी। इसके साथ ही दवाओं की मांग की भी जानकारी शासन को देनी होगी।

कोरोना के बढ़ते प्रकोप के बीच कुछ दवाओं की मांग बढ़ गई। इनमें सबसे ज्यादा मांग आईवरमेक्टीन की बढ़ी है। इन दवाओं को कोरोना संक्रमण के इलाज में सबसे कारगर माना जा रहा है। कई जगह पर दवा खत्म हो चुकी है। फुटकर विक्रेताओं को भी यह नहीं मिल रही है। इसके अलावा डॉक्सीसाइक्लीन, एजिथ्रोमायसिन, सफेक्सिम व विटामिन-सी की भी इलाज में प्रयोग की जाती है। इन दवाओं की खपत इतनी बढ़ी कि विटामिन-सी महानगर की थोक दवा मंडी से गायब हो गई। 

होम आइसोलेशन में भी इन दवाओं की जरूरत है 
कोरोना संक्रमित 85 फीसदी मरीज होम-आइसोलेशन में इलाज करा रहे हैं। होम आइसोलेशन में मरीज बढ़ने के कारण इन दवाओं की मांग कई गुना बढ़ गई है। इसको देखते हुए शासन सतर्क हो गया है। शासन ने रोजाना अधिकारियों से इन दवाओं की खपत पर निगरानी करने व रिपोर्ट भेजने के निर्देश दिए हैं। औषधि अनुज्ञापन एवं नियंत्रण प्राधिकारी एके जैन ने इसको लेकर सभी जिलों में ड्रग इंस्पेक्टर को पत्र लिखा है।

कालाबाजारी हुई तो होगी कार्रवाई
औषधि निरीक्षक जय सिंह ने बताया कि बाजार में आइवरमेक्टिन सहित अन्य दवाएं कई कंपनियां बना रही हैं। इसकी वजह से दवाओं की कमी नहीं है। सभी विक्रेताओं को दवा को उचित मूल्य पर ही बिक्री करने के निर्देश दिए गए हैं। कालाबाजारी की शिकायत मिलने पर कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दी गई है। सीएमओ डॉ श्रीकांत तिवारी ने बताया कि आइवरमेक्टिन दवा के उपयोग के बारे में सभी को जानकारी दी गई है। चिकित्सकों के सलाह के बिना कोरोना संक्रमित मरीज भी आइवरमेक्टिन दवा न खाएं। संक्रमित के संपर्क में आए लोग भी चिकित्सक से सलाह लेने के बाद ही दवा का सेवन करें।

बोले दवा कारोबारी
इन दवाओं की शॉर्टेज जैसी बात नहीं है। यह बात सही है कि इनकी आपूर्ति मांग के मुताबिक नहीं हो पा रही है। दवाओं की कालाबाजारी नहीं हो रही है मरीजों तक दवाएं मिल रही है। दवा व्यापारी प्रशासन का सहयोग कर रहे हैं। दवा की उपलब्धता को लेकर दवा विक्रेता समिति सक्रिय है।
आलोक चौरसिया महामंत्री दवा विक्रेता समिति

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:monitoring starts for five medicine related to corona treatment in Gorakhpur