ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशएक सीट से लगातार तीसरी बार लड़ने वाले तीसरे पीएम बने मोदी, रायबरेली से इंदिरा गांधी रहीं चार बार प्रधानमंत्री, पहला कौन?

एक सीट से लगातार तीसरी बार लड़ने वाले तीसरे पीएम बने मोदी, रायबरेली से इंदिरा गांधी रहीं चार बार प्रधानमंत्री, पहला कौन?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वाराणसी सीट पर तीसरी बार भाजपा प्रत्याशी होने की घोषणा होते ही उनके साथ एक अनोखा रिकॉर्ड भी जुड़ गया है। नरेंद्र मोदी देश के तीसरे पीएम होंगे, जो एक ही सीट पर लगातार,,,

एक सीट से लगातार तीसरी बार लड़ने वाले तीसरे पीएम बने मोदी, रायबरेली से इंदिरा गांधी रहीं चार बार प्रधानमंत्री, पहला कौन?
Dinesh Rathourविशेष संवाददाता,वाराणसीSat, 02 Mar 2024 10:54 PM
ऐप पर पढ़ें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वाराणसी सीट पर तीसरी बार भाजपा प्रत्याशी होने की घोषणा होते ही उनके साथ एक अनोखा रिकॉर्ड भी जुड़ गया है। नरेंद्र मोदी देश के तीसरे पीएम होंगे, जो एक ही सीट पर लगातार तीसरी बार चुनाव लड़ने जा रहे हैं। इसके पूर्व पं. जवाहरलाल नेहरू प्रयागराज की फूलपुर सीट से लगातार तीन बार और इंदिरा गांधी रायबरेली लोकसभा सीट से चार बार चुनाव लड़ी थीं।  गणतंत्र की स्थापना के बाद 1950 से 1952 के बीच पं. जवाहर लाल नेहरू बतौर कार्यवाहक प्रधानमंत्री रहे। पहली बार 1952 में लोकसभा का चुनाव हुआ तो वह फूलपुर सीट से चुनाव लड़े और जीते भी। उन्हें 1957 और 1962 के भी लोकसभा चुनाव में फूलपुर सीट से ही जीत मिली।

पं. नेहरू की विरासत संभालते हुए इंदिरा गांधी पहली बार 1967 के लोकसभा चुनाव में रायबरेली सीट से लड़ीं और जीत गईं। इसके बाद 1971, 77 व 80 में भी वह चुनाव में उतरीं। 1971 में परचम तो लहराया लेकिन 1977 में राजनारायण से चुनाव हार गईं। हालांकि 1980 में वह तिबारा चुनाव जीत गईं। वहीं नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री रहते हुए वाराणसी सीट से 2014 में पहली बार चुनाव लड़े और जीत दर्ज करने के बाद प्रधानमंत्री बने। 2019 में प्रधानमंत्री रहते लड़े और चुनाव जीत गए। एक बार फिर वह वाराणसी सीट से चुनाव लड़ने जा रहे हैं। 

यूपी भाजपा ने 51 में से चार उम्मीदवारों को बदला, नए चेहरों को दिया मौका, देखें लिस्ट

तीसरी बार चुनाव लड़ने वाले तीसरे सांसद 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम एक और रिकॉर्ड जुड़ेगा। वह तीसरे सांसद होंगे जो सांसद रहते हुए तीसरी बार चुनाव लड़ने जा रहे हैं। पीएम मोदी से पहले 1952, 57, 1962 व 1967 में रघुनाथ सिंह सांसद रहते हुए चुनाव लड़े थे। वह 1967 में हार गए थे। इसके बाद 1996, 1998, 1999 में सांसद रहे तत्कालीन सांसद शंकर प्रसाद जायसवाल 2004 में भी चुनाव लड़े थे, लेकिन वह कांग्रेस के डॉ. राजेश मिश्र से हार गए थे। 

उम्मीदवारों की अगली सूची कब जारी करेगी भाजपा? सीटों पर फैसले के लिए दिल्ली बुलाए गए भाजपा सहयोगी दलों के नेता 

वाराणसी के अब तक के सांसद 

  • 1952: रघुनाथ सिंह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
  • 1957: रघुनाथ सिंह, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
  • 1962: रघुनाथ सिंह, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
  • 1967: सत्य नारायण सिंह, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी)
  • 1971: राजाराम शास्त्री, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
  • 1977: चंद्रशेखर, इंडियन नेशनल लोकदल
  • 1980: कमलापति त्रिपाठी, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (इंदिरा)
  • 1984: श्यामलाल यादव, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
  • 1989: अनिल शास्त्री, जनता दल
  • 1991: श्रीशचंद्र दीक्षित, भारतीय जनता पार्टी
  • 1996: शंकर प्रसाद जायसवाल, भारतीय जनता पार्टी
  • 1998: शंकर प्रसाद जायसवाल, भारतीय जनता पार्टी
  • 1999: शंकर प्रसाद जायसवाल, भारतीय जनता पार्टी
  • 2004: डॉ. राजेश कुमार मिश्रा, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
  • 2009: डॉ. मुरली मनोहर जोशी, भारतीय जनता पार्टी
  • 2014: नरेंद्र मोदी, भारतीय जनता पार्टी
  • 2019: नरेंद्र मोदी, भारतीय जनता पार्टी

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें