ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशलॉबिंग में जुटे थे विधायक, सांसदों से खराब केमिस्‍ट्री ने बिगाड़े BJP के समीकरण 

लॉबिंग में जुटे थे विधायक, सांसदों से खराब केमिस्‍ट्री ने बिगाड़े BJP के समीकरण 

BJP के सांसदों-विधायकों के बीच की खराब केमिस्ट्री ने पार्टी का अंक गणित पूरी तरह बिगाड़ दिया। कई सांसदों ने 2022 के विधानसभा चुनाव में विधायकों का सहयोग नहीं किया, तो वे भी बदला निकालने से नहीं चूके।

लॉबिंग में जुटे थे विधायक, सांसदों से खराब केमिस्‍ट्री ने बिगाड़े BJP के समीकरण 
Ajay Singhविशेष संवाददाता,लखनऊSat, 08 Jun 2024 06:16 AM
ऐप पर पढ़ें

BJP News: भाजपा के सांसदों-विधायकों के बीच की खराब केमिस्ट्री ने पार्टी का अंक गणित पूरी तरह बिगाड़ दिया। तमाम सांसदों ने 2022 के विधानसभा चुनाव में विधायकों का सहयोग नहीं किया, तो वे भी अब बदला निकालने से नहीं चूके। दर्जनों विधायक ऐसे थे, जो खुद ही टिकट पाने की दौड़ में शामिल थे। सफलता नहीं मिली तो वे या तो निष्क्रिय हो गए या फिर प्रत्याशी को निपटाने में जुटे रहे। मोदी लहर पर सवार होकर जीतने वाले कई सांसदों ने पांच साल संगठन, विधायकों या कार्यकर्ताओं से सरोकार नहीं रखा। खुद ही पावर सेंटर बनने के फेर में लगे रहे।

लोकसभा चुनाव के दौरान भी रायबरेली, फतेहपुर सीकरी, अलीगढ़, आंवला, बुलंदशहर, फिरोजाबाद, एटा, धौरहरा, मिर्जापुर, डुमरियागंज सहित तमाम अन्य सीटों पर प्रत्याशी बने सांसदों और स्थानीय विधायकों के बीच तल्खियां सामने भी आईं। रायबरेली सदर से विधायक अदिति सिंह ने ‘एक्स’ पर लिखा कि उसूलों से समझौता नहीं। दूसरे दिन उसका जवाब भी एक्स पर आया। हालांकि बाद में उसे डिलीट कर दिया गया। 

सीकरी के विधायक बाबूलाल ने बगावत कर बेटे को चुनाव लड़ाया। अलीगढ़ में सांसद सतीश गौतम और विधायक ठाकुर जयवीर सिंह के बीच की तल्खी किसी से छुपी नहीं है। ऐसे तमाम अन्य उदाहरण हैं। कई विधायकों को बीच चुनाव में पार्टी ने दूसरे जिलों में प्रचार के लिए लगाया ताकि टकराव को टाला जा सके।