ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेशमेरी पत्नी वापस दे सकते हो? लापरवाही में महिला की गई जान तो पति ने स्टाफ नर्स को ठहराया कुसूरवार

मेरी पत्नी वापस दे सकते हो? लापरवाही में महिला की गई जान तो पति ने स्टाफ नर्स को ठहराया कुसूरवार

स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही से महिला की मौत के मामले में गुरुवार को सीएमओ की गठित जांच टीम ने बिलसंडा पहुंचकर पीड़ित परिवार, आरोपित स्टाफ नर्स, एमओआईसी बिलसंडा के बयान दर्ज किए।

मेरी पत्नी वापस दे सकते हो? लापरवाही में महिला की गई जान तो पति ने स्टाफ नर्स को ठहराया कुसूरवार
Dinesh Rathourसंवाददाता,पीलीभीत। बिलसंडाThu, 29 Sep 2022 06:24 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

यूपी के पीलीभीत जिले के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही से महिला की मौत के मामले में गुरुवार को सीएमओ की गठित जांच टीम ने बिलसंडा पहुंचकर पीड़ित परिवार, आरोपित स्टाफ नर्स, एमओआईसी बिलसंडा के बयान दर्ज किए। गठित टीम में डिप्टी सीएमओ हरिदत्त नेगी और केके जौहरी शामिल हैं। जांच करने पहुंची टीम से मृतका के पति ने सवाल किया, मेरी पत्नी वापस दे सकते हो क्या? डिप्टी सीएमओ के सामने मृतका के पति मंजीत ने आरोप लगाया कि पत्नी बिल्कुल ठीक थी। यहां ड्यूटी पर तैनात स्टाफ नर्स ने उससे रुपये मांगे वो भी दिए फिर भी जान ले ली।

बावजूद उसके बिना किसी जानकारी के पत्नी का डाक्टर न होने के बाबजुद भी ऑपरेशन कर दिया गया, जिससे उसकी हालत बिगड़ गई। केस खराब हुआ तो रेफर कर दिया। जिला अस्पताल में भर्ती नहीं किया। प्राइबेट में दस हजार लेकर लाश दे दी गई। गठित टीम ने प्रसव के बाद जो रजिस्टर देखे हैं उसमें भी गड़बड़ी मिली है। प्रारंभिक तौर पर जांच में लीपापोती की बात भी सामने आई है। वहीं दूसरी ओर एमओआईसी डा. चंद्रकुमार ने भी केस में अपनी जांच रिपोर्ट सीएमओ को दी है। 

जांच कर चले अफसर, डाक्टर नदारद

बिलसंडा सीएचसी में काफी कुछ गड़बड़ चल रहा है। सीएमओ डॉक्टरों की पोस्टिंग कर रहे हैं लेकिन सेटिंग का गठजोड़ ऐसा है कि कई डाक्टर आते नही। दंत चिकित्सक के पद पर डा आकुल की तैनाती है। वो गुरुवार को गायब थे। सोमवार मंगलवार को भी गायब रहे। बुधवार को आये। बिजनौर से जिन डाक्टर मुनीष को भेजा गया वो भी ज्वाइन कर चले गए। ऐसा लंबे समय से चल रहा है। शिकायतें हैं कि डॉक्टर एक दिन आकर अपनी पुरानी सारी हाजिरी लगाकर चले जाते हैं। हालांकि हाजिरी रजिस्टर और सीसीटीवी का मिलान हो जाये तो यहां कईयों पर गाज गिरना तय है। विधायक तक भी इसकी शिकायतें पहुंची हैं।
 

epaper