DA Image
1 नवंबर, 2020|10:25|IST

अगली स्टोरी

चीनी मोबाइल कंपनी वीवो को मेरठ पुलिस ने दी क्लीन चिट, जानिए क्या है पूरा मामला

vivo v20 launched in india

एक आईएमईआई पर देशभर में 13 हजार 357 मोबाइल चलने के मामले में मेरठ पुलिस ने चीन की वीवो कंपनी को क्लीन चिट दे दी है। पुलिस ने जांच में कंपनी या इसके सर्विस सेंटर की कोई कमी नहीं मानी है। मुकदमे के वक्त राष्ट्र की सुरक्षा से जोड़कर देखे गए इस मामले में फाइनल रिपोर्ट लगाने से पुलिस कार्रवाई पर सवाल खड़े हो गए हैं।

एक जून 2020 को मेरठ जोन एडीजी कार्यालय में तैनात सब इंस्पेक्टर आशाराम ने वीवो कंपनी के सर्विस सेंटर व उसके कर्मचारी के विरुद्ध मेडिकल थाने में एक मुकदमा दर्ज कराया था। आशाराम के अनुसार, उन्होंने वीवो कंपनी का मोबाइल सर्विस सेंटर पर ठीक होने के लिए दिया। बाद में पता चला कि सर्विस सेंटर में उनका आईएमईआई नंबर बदल दिया गया है। जोनल कार्यालय की साइबर क्राइम सेल ने इस केस की जांच की। पाया कि आशाराम के मोबाइल में जो आईएमईआई है, ठीक उसी आईएमईआई के दशभर में 13 हजार 357 मोबाइल हैं। 

मुकदमे की जांच नौचंदी थाने के तत्कालीन इंस्पेक्टर आशुतोष कुमार ने की। 5 अक्तूबर 2020 को इस मुकदमे में फाइनल रिपोर्ट लगाते हुए फाइल कोर्ट को भेज दी गई है। एफआर लगाने की पुष्टि स्वयं इंस्पेक्टर आशुतोष कुमार ने की है, जो फिलहाल सिटी कोतवाली के प्रभारी हैं। फाइनल रिपोर्ट के अनुसार, उक्त आईएमईआई सर्विस सेंटर पर मोबाइल ठीक करते वक्त बाई डिफॉल्ट बदल रही थी। कंपनी की कोई कमी नहीं पाई गई है।

कागजी कार्रवाई पूरी, ऐन वक्त पर खेल
मेरठ पुलिस ने मुकदमा दर्ज होने के बाद पेन इंडिया सर्किल को पत्र भेजकर कहा कि ऐसे मोबाइलों को नेटवर्क न दिए जाएं। ट्राई को भी पत्र लिखा गया। वीवो कंपनी से भी कई बार जवाब लिया गया। लिखापढ़ी की कार्रवाई हुई, लेकिन ऐन वक्त पर फाइनल रिपोर्ट लगाकर मुकदमा खारिज कर दिया गया। एफआर लगाने के 10 दिन बाद ही इंस्पेक्टर आशुतोष कुमार का तबादला नौचंदी से थाना कोतवाली हो गया।

एडीजी के आदेश पर हुआ था मुकदमा
मेरठ जोन के एडीजी राजीव सभरवाल ने भी माना था कि यह मामला देश की आंतरिक सुरक्षा से जुड़ा हो सकता है क्योंकि अपराधी यदि इसी आईएमईआई के नंबर से कोई घटना करेगा तो वह आसानी से ट्रेस नहीं हो पाएगा। एडीजी के आदेश पर यह मुकदमा दर्ज हुआ था।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Meerut police gave clean chit to Chinese mobile company Vivo in case of running 13 thousand 357 mobiles on an IMEI